scorecardresearch

दिल्ली में हर रोज बलात्कार की औसतन छह घटनाएं

आंकड़ों के मुताबिक महिलाओं के खिलाफ हमले की घटनाओं में भी 19 फीसद की बढ़ोतरी हुई है।

दिल्ली में हर रोज बलात्कार की औसतन छह घटनाएं
सांकेतिक फोटो।

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में महिलाओं से बलात्कार के मामले कम होने की जगह बढ़ रहे हैंं। यहां पिछले साल की तुलना में इस साल छह माह में बलात्कार की वारदात साढ़े 17 फीसद बढ़ी है। इस तरह से महिलाओं से औसतन छह बलात्कार की घटनाएं हर रोज सामने आ रही हैं। दिल्ली पुलिस की ओर से छह माह में जारी आंकड़ों में सामने आया है कि इस साल अभी तक बलात्कार के 1100 मामले दर्ज किए गए। आंकड़ों के मुताबिक महिलाओं के खिलाफ हमले की घटनाओं में भी 19 फीसद की बढ़ोतरी हुई है, जबकि पति एवं ससुराल पक्ष द्वारा क्रूरता के मामले भी इस अवधि में 29 फीसद बढ़े हैं।

आंकड़ों के अनुसार, दिल्ली में एक जनवरी 2021 से 15 जुलाई 2021 तक महिलाओं के खिलाफ अपराध के 6,747 मामले दर्ज किए गए थे, जिनकी संख्या 2022 में बढ़कर 7,887 हो गई। इस साल 15 जुलाई तक शहर में बलात्कार के 1,100 मामले दर्ज किए गए, जबकि पिछले साल की इसी अवधि में बलात्कार के 1,033 मामले दर्ज किए गए थे।

महिलाओं का शील भंग करने के इरादे से हमला करने के मामलों में भी बढ़ोतरी हुई है और इस साल इस प्रकार के 1,480 मामले दर्ज किए गए, जिनकी संख्या पिछले साल 1,244 थी। आंकड़ों के अनुसार, महिलाओं के शील के अपमान के मामले 2021 के 229 मामलों से घटकर 2022 में 225 हो गए। इसमें बताया गया है कि महिलाओं के अपहरण के मामलों में करीब 17 फीसद की बढ़ोतरी हुई है।

महिलाओं के अपहरण के इस साल 2,197 मामले दर्ज किए गए हैं, जो पिछले साल के मामलों से 317 अधिक हैं। आंकड़ों के अनुसार, राष्ट्रीय राजधानी में 2022 में पति एवं ससुराल वालों द्वारा क्रूरता के कुल 2,704 मामले दर्ज किए गए, जबकि 2021 में यह आंकड़ा 2,096 था। दहेज हत्या के 69 मामले और दहेज निषेध अधिनियम के तहत सात मामले दर्ज किए गए हैं।

बलात्कार के मामलों में ज्यादातर आरोपी जानने वाले

एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि महिलाओं में जागरूकता बढ़ी है और पुलिस महाविद्यालयों, विद्यालयों एवं मोहल्लों में महिलाओं को उनके अधिकारों के प्रति जागरूक कर रही हैं। बलात्कार के ज्यादातर मामलों में आरोपी पीड़िता को जानते हैं। उन्होंने कहा कि पहले महिलाओं को कानूनों के बारे में खास जानकारी नहीं थी, लेकिन अब वे अपने खिलाफ होने वाले अपराधों की शिकायत करने के लिए आगे आ रही हैं। भारतीय सामाजिक जागृति संगठन की कार्यकर्ता छवि मेथी ने राष्ट्रीय राजधानी में महिलाओं के खिलाफ अपराधों को लेकर चिंता जताई।

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.