ताज़ा खबर
 

CAA प्रोटेस्ट के दौरान हिंसा में छात्र ने गंवाया हाथ, AMU ने नौकरी दी तो उठने लगे सवाल

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यलय के एक अधिकारी ने बताया कि मानवीयता को देखते हुए एएमयू वीसी ने रसायन विज्ञान विभाग में अनौपचारिक आधार पर सहायक प्रोफेसर के रूप में मोहम्मद तारिक को नियुक्त किया है।

Author लखनऊ | December 24, 2019 10:27 AM
AMUतस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है।

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (AMU) में नए नागरिकता कानून को लेकर हुए प्रदर्शन में घायल मोहम्मद तारिक को विश्वविद्यालय ने सहायक प्रोफेसर पद पर नियुक्त किया गया है। हालांकि, इस नियुक्ति पर अब सवाल उठने लगे हैं। बता दें कि 15 दिसंबर को सीएए के खिलाफ एएमयू के छात्रों ने मार्च निकाला था, जो बाद में हिंसक हो गया था। इसे नियंत्रण करने के लिए पुलिस ने लाठियां भांजी थीं। इस दौरान कई छात्र गंभीर रूप से घायल हो गए थे, जिन्हें इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

मानवीय आधार पर प्रोफेसर की नियुक्ति:  अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के एक अधिकारी ने बताया कि मानवीयता को देखते हुए एएमयू वीसी ने रसायन विज्ञान विभाग में अनौपचारिक आधार पर सहायक प्रोफेसर के रूप में मोहम्मद तारिक को नियुक्त किया है। तारिक पीएचडी स्कॉलर है। साथ ही, वह नेट और जेआरएफ क्वालिफाइड हैं और इस पद के लिए योग्य हैं। बता दें कि हिंसा वाले दिन तारिक को हाथ पर गंभीर चोट लगी थी। इसे ध्यान में रखते हुए रसायन विज्ञान संकाय के साथ बातचीत करने  के बाद उनकी नियुक्ति को अंतिम रूप दिया गया।

Hindi News Today, 23 December 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की तमाम खबरे पढ़ने के लिए क्लिक करे

काटनी पड़ीं चार उंगलियां: गौरतलब है कि 15 दिसंबर को एएमयू के बाब-ए-सैयद गेट से दिल्ली के जामिया मिलिया इस्लामिया के छात्रों के द्वारा सीएए के विरोध में एकजुटता मार्च निकाला गया था। इस दौरान पुलिस और छात्रों के बीच झड़प हो गई। पुलिस ने लाठी चार्ज किया और आंसू गैस के गोले दागे। चिकित्सा अधिकारी ने बताया कि झड़प के दौरान आंसूगैस के गोले से तारिक  के हाथ पर गंभीर चोट लग गई थी और उसकी 4 उंगलियां काटनी पड़ीं।

यूनिवर्सिटी मैनेजमेंट ने दिया यह जवाब: अधिकारियों के अनुसार, विश्वविद्यालय को पता चला कि तारिक अपने परिवार के एकमात्र कमाने वाले सदस्य हैं। साथ ही,  उन्हें इलाज के लिए वित्तीय मदद की आवश्यकता होगी। ऐसे में विश्वविद्यालय के एक अधिकारी ने कहा, “यह सहायता प्रदान करने का हमारा तरीका है।”

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 पुलिस की गोली लगी थी, डर के मारे नहीं ले जा सके अस्पताल, पेट में कमीज बांध कर रखा- CAA विरोध में मरने वाले शरीफ के पिता का दर्द
2 झारखंड चुनाव: बुरे नतीजों के बाद बीजेपी में उठ रहे केंद्रीय नेतृत्व पर सवाल, बोले- ये तो पता था
3 बोले मेघालय गवर्नर तथागत राय- मुसलमानों के बीच कई हिंदू-विरोधी हैं, पर सबसे खतरनाक विरोधी हिंदुओं के बीच ही हैं
यह पढ़ा क्या?
X