ताज़ा खबर
 

योगी आदित्यनाथ की चेतावनी के बाद आम्रपाली बिल्डर पर गिरी गाज, कंपनी के CEO और एमडी गिरफ्तार

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को रियल एस्टेट बिल्डर्स को कड़ी चेतावनी देते हुए कहा था कि यदि बायर्स को जल्द फ्लैट नहीं देते तो बिल्डरों के खिलाफ ऐक्शन लिया जाएगा।
यूपी के सीएम योगी आदित्य नाथ। (REUTERS/Jitendra Prakash

नोएडा- ग्रेटर नोएडा में लंबित चल रहे प्रोजेक्टों और उसके चलते ग्राहकों को हो रही परेशानी के चलते उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने बिल्डरों को रविवार को चेतावनी दी थी। योगी की चेतावनी के बाद सोमवार को पुलिस ने आम्रपाली बिल्डर्स पर बड़ी कार्रवाई की। पुलिस ने आम्रपाली बिल्डर्स के सीईओ (CEO) ऋतिक कुमार को गिरफ्तार किया। कंपनी के सीईओ के अलावा आम्रपाली के मैनेजिंग डॉयरेक्टर (एमडी) निशांत मुकुल को भी गिरफ्तार किया गया है। ऋतिक कुमार आम्रपाली ग्रुप के मालिक अनिल शर्मा के दामाद हैं। बता दें कि घर का सपना संजोकर बैठे लोग लंबे समय से अटके प्रोजेक्ट के चलते परेशान हैं, उन्हें न अपने जमा किए पैसे मिल रहे हैं और न ही बिल्डरों द्वारा अब तक पोजेशन मिल सका है।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को रियल एस्टेट बिल्डर्स को कड़ी चेतावनी देते हुए कहा था कि यदि बायर्स को जल्द फ्लैट नहीं देते तो बिल्डरों के खिलाफ ऐक्शन लिया जाएगा। इस समय रियल एस्टेट कारोबारियों के सामने विश्वास पर खरा उतरने की बड़ी चुनौती है। मुख्यमंत्री ने कनफेडरेशन ऑफ रियल एस्टेट डिवेलपर्स एसोसिएशन्स ऑफ इंडिया (क्रेडाई) द्वारा आयोजित सम्मेलन में कहा, ‘रियल एस्टेट क्षेत्र द्वारा योजनाओं को आधा-अधूरा छोड़ देना सबसे बड़ा संकट है। नोएडा और ग्रेटर नोएडा में यही समस्या सामने आ रही है। लगभग डेढ़ लाख खरीदारों को धनराशि अदा करने के बाद भी घर नहीं मिल पा रहा है। इससे विश्वसनीयता का संकट पैदा हो गया है। प्रदेश सरकार के प्रयास पर कुछ बिल्डरों ने सकारात्मक रुख अपनाया और आवास देने की समयसीमा तय कर दी, जबकि कुछ बिल्डर कोई कदम नहीं उठा रहे हैं। संवाद से रास्ता न निकलने पर प्रदेश सरकार को सख्त कदम उठाना पड़ेगा। सरकार की अपील है कि कार्रवाई की स्थिति न उत्पन्न हो।’

नोएडा और ग्रेटर नोएडा में बिल्डरों के खिलाफ लोगों का विरोध प्रदर्शन थमने का नाम नहीं ले रहा है। सैकड़ों की संख्या में एकत्र होकर लोग बिल्डरों के ऑफिस के सामने नारेबाजी और प्रदर्शन कर रहे हैं। नई सरकार बनने के बाद बिल्डरों और ग्राहकों की कई दौर की बैठक हुई है, लेकिन बायर्स का कहना है कि बिल्डरों पर इसका कोई असर नहीं पड़ रहा है। जानकारी के मुताबिक आम्रपाली बिल्डर्स के प्रोजेक्टों में हजारों की संख्या में लोगों के पैसे फंसे हैं।

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.