ताज़ा खबर
 

J&K को सही समय पर जरूर देंगे पूर्ण राज्य का दर्जा- LS में अमित शाह का ऐलान

गृहमंत्री ने लोकसभा में कहा कि यहां कहा गया कि धारा 370 हटाने के वक़्त जो वादे किए गए थे उसकी दिशा में क्या किया गया? धारा 370 हटे हुए 17 महीने हुए और आप हमसे हिसाब मांग रहे हो

amit shah , loksabha , bjp , indiaजम्मू कश्मीर पुनर्गठन विधेयक पर चर्चा के दौरान लोकसभा में बोलते हुए केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह (फोटो – PTI)

आज लोकसभा में जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन(संशोधन) विधेयक पास हो गया। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बिल पर चर्चा के दौरान लोकसभा में कहा कि जम्मू कश्मीर पुनर्गठन (संशोधन) विधेयक का राज्य के दर्जे से कोई संबंध नहीं है और उपयुक्त समय पर जम्मू कश्मीर को पूर्ण राज्य का दर्जा दिया जाएगा। इस विधेयक के पास हो जाने के बाद से अब जम्मू कश्मीर कैडर के भारतीय प्रशासनिक सेवा, भारतीय पुलिस सेवा और भारतीय वन सेवा के अधिकारियों को अरुणाचल प्रदेश, गोवा, मिजोरम और केंद्रशासित प्रदेशों के कैडर का हिस्सा भी बनाया जाएगा।

इस बिल पर चर्चा के दौरान गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि इस विधेयक में ऐसा कहीं भी नहीं लिखा है कि इससे जम्मू-कश्मीर को राज्य का दर्जा नहीं मिलेगा। साथ ही उन्होंने कहा कि मैं फिर से कहता हूं कि इस विधेयक का जम्मू-कश्मीर के राज्य के दर्जे से कोई संबंध नहीं है। उपयुक्त समय पर प्रदेश को राज्य का दर्जा दिया जाएगा।साथ ही गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि जो कांग्रेस की चार पीढ़ी नहीं कर पायी, वह हमने सिर्फ डेढ़ साल में कर दिखाया है। कांग्रेस पर तंज कसते हुए अमित शाह ने कहा कि जिनको पीढ़ियों तक शासन करने का मौका दिया वो अपने गिरेबान में झांक कर देखें कि हम हिसाब मांगने के लायक हैं या नहीं।

इसके अलावा गृहमंत्री ने लोकसभा में कहा कि यहां कहा गया कि धारा 370 हटाने के वक़्त जो वादे किए गए थे उसकी दिशा में क्या किया गया? धारा 370 हटे हुए 17 महीने हुए और आप हमसे हिसाब मांग रहे हो, 70 साल आपने क्या किया इसका हिसाब लेकर आए हो? अगर 70 साल ढंग से चलाते तो हमसे हिसाब मांगने का समय ही नहीं आता। साथ ही अमित शाह ने कांग्रेस पर सवाल करते हुए कहा कि किसके दबाव में धारा 370 को इतने समय तक चालू रखा? आप 17 महीने में हिसाब मांगते हो, 70 साल तक जब अस्थायी धारा 370 चली उस वक़्त हिसाब क्यों नहीं मांगते थे? अस्थायी प्रावधान को नहीं उखाड़ा क्योंकि आपको वोट बैंक की राजनीति करनी थी।

इसके अलावा कश्मीर में 4जी सेवाओं के संबंध में अमित शाह ने कहा कि लोकसभा में असदुद्दीन ओवैसी जी ने कहा कि 2जी से 4जी इंटरनेट सेवा को विदेशियों के दबाव में लागू किया है। उन्हें पता नहीं है कि यह संप्रग सरकार नहीं है जिसका वह समर्थन करते थे। यह नरेन्द मोदी की सरकार है जो देश के लिए फैसले करती है।

साथ ही अमित शाह ने कहा कि औवेसी अफसरों का भी हिन्दू मुस्लिम में विभाजन करते हैं। एक मुस्लिम अफसर हिन्दू जनता की सेवा नहीं कर सकता या हिन्दू अफसर मुस्लिम जनता की सेवा नहीं कर सकता क्या? उन्होंने कहा कि अफसरों को हिन्दू-मुस्लिम में बांटते हैं और खुद को धर्मनिरपेक्ष कहते हैं। इस दौरान अमित शाह ने लोकसभा सदस्यों से आग्रह करते हुए कहा कि मैं इस सदन को फिर से एक बार कहना चाहता हूं कि कृपया जम्मू कश्मीर की स्थिति को समझें। राजनीति करने के लिए कोई ऐसा बयान न दें जिससे जनता गुमराह हो।

Next Stories
1 चीन के माथे पर ठंडा पसीना निकल आया, हालत पतली हो गई है- पूर्व मेजर जीडी बख्शी बोले, अर्णब ने कहा- वो भाग रहे हैं…
2 नीतीश से दूरी का साइड इफेक्ट? PK के मकान पर बिहार में चला बुल्डोजर, 10 मिनट में उखाड़ी गई बाउंड्री और दरवाजा
3 मान्या सिंहः रेस्त्रां में तब जूठे बर्तन धोए, उधारी से भरी कॉलेज फीस, पिता हैं रिक्शा ड्राइवर; अब बनीं Miss India रनर-अप
आज का राशिफल
X