ताज़ा खबर
 

कोविड: अमित शाह का स्वास्थ्य मंत्रालय को निर्देश- कोरोना टीका लगाने में तेजी लाइए; एक्सपर्ट्स बोले- CoWIN ऐप को छोड़िए, जो आए उसे दीजिए वैक्सीन

गृह मंत्री अमित शाह ने स्वास्थ्य मंत्रालय से कहा है कि कोरोना टीकाकरण में तेजी लाई जाए जिससे जल्द से जल्द 27 करोड़ लोगों के टीकाकरण का टारगेट पूरा किया जा सके।

amit shah, corona vaccineमीडिया से बात करते हुए गृह मंत्री अमित शाह। फोटो क्रेडिट- पीटीआई

देश के कई हिस्सों में बढ़ते कोरोना के मामलों को देखते हुए गृह मंत्री अमित शाह ने स्थिति की समीक्षा की और स्वास्थ्य मंत्रालय को निर्देश दिए हैं कि वैक्सिनेशन में तेजी लाई जाए। अभी 50 से ज्यादा की उम्र के लोगों को प्राथमिकता देकर टीका लगाया जा रहा है। अब सरकार वैक्सिनेशन की प्रक्रिया में प्राइवेट सेक्टर को भी शामिल करने की योजना बना रही है जिससे की टीकाकरण में तेजी लाई जा सके और 30 साल से कम के ऐसे लोगों को भी जल्द से जल्द टीका दिया जा सके जिन्हें कई तरह की बीमारियां हैं।

तेजी से बढ़ेगी प्राइवेट सेक्टर की भूमिका

NITI आयोग के सदस्य डॉ. वीके पॉल ने कहा है कि वैक्सिनेशन के अगले चरण में प्राइवेट सेक्टर को भी शामिल किया जाए जिससे जल्द से जल्द 27 करोड़ का टारगेट पूरा किया जा सके। उन्होंने कहा, ‘अब भी हेल्थकेयर और फ्रंटलाइन वर्कर्स के वैक्सिनेशन में प्राइवेट सेक्टर शामिल है। 10 हजार में से 2 हजार का टीकाकरण प्राइवेट सेक्टर ही कर रहा है। वैक्सिनेशन को तेज करने के अभियान में प्राइवेट पार्टनर्स की भूमिका और बढ़ेगी।’

सोमवार शाम तक कोरोना वैक्सीन की 1.14 डोज दी जा चुकी हैं। इनमें सबसे आगे गुजरात, मध्य प्रदेश, राजस्थान और लक्षद्वीप हैं। केंद्र सरकार ने महाराष्ट्र, केरल, पंजाब, छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश से वैक्सिनेशन में तेजी लाने को कहा है। पंजाब में रविवार को कोरोना के 383 केस सामने आए थे।

‘कोविन ऐप को किनारे कर, आधार के हिसाब से हो टीकाकरण’

सेंट्रल कोविड-19 टास्क फोर्स के साथ कुछ और हेल्थ एक्सपर्ट्स का कहना है कि अगर वैक्सिनेशन की प्रक्रिया तेज करनी है तो कोविन ऐप को किनारे करके जो भी वैक्सीन लगवाने आए, उसे डोज देनी होगी। कई जगहों पर कोविन ऐप में समस्या आने के बाद जानकारों ने यह सलाह दी है। अभी तक लोगों को वैक्सीन लेने के लिए कोविन ऐप पर रजिस्ट्रेशन करना होता है। जानकारों को कहना है कि आधार कार्ड को देखकर लोगों को टीका लगाना चाहिए।

कोरोना ने सबसे ज्यादा अमेरिका में ली जान

अमेरिका में कोविड-19 के कारण मारे गए लोगों की संख्या पांच लाख हो गई है। यह संख्या द्वितीय विश्व युद्ध, वियतनाम युद्ध और कोरियाई युद्ध के दौरान मारे गए लोगों की कुल संख्या के बराबर है। अमेरिका में द्वितीय विश्व युद्ध में 4,05,000 लोगों, वियतनाम युद्ध में 58,000 और कोरियाई युद्ध में 36,000 लोगों की मौत हुई थी। अमेरिका में कोरोना वायरस के कारण मारे गए लोगों की संख्या पांच लाख होने के शोक में व्हाइट हाउस में सोमवार को आयोजित कार्यक्रम में मौन रखा गया और मोमबत्तियां जलाई गईं तथा आगामी पांच दिन संघीय इमारतों में अमेरिकी झंडों को झुकाए रखने के आदेश दिए गए हैं।

बाइडन ने कहा कि अमेरिकियों को इस बड़े दु:ख को सहने का साहस जुटाना होगा। ‘यूनिवर्सिटी ऑफ वॉशिंगटन’ का अनुमान है कि दिसंबर के मध्य से कोरोना वायरस का टीका लगाए जाने की शुरुआत होने के बावजूद एक जून तक 5,89,000 लोगों की मौत होने की आशंका है। वायरस के कारण मारे गए लोगों की संख्या के मामले में अमेरिका दुनिया में शीर्ष पर हैं। वायरस के कारण विश्वभर में करीब 25 लाख लोगों की मौत हुई है, जिनमें से 20 प्रतिशत लोगों की मौत अमेरिका में हुई है।

Next Stories
1 कोरोनिल: IMA ने हर्षवर्धन से मांगा जवाब, कहा- पतंजलि के इवेंट में रामदेव के साथ शामिल होकर तोड़ी आचार संहिता
2 ‘नरम’ से ‘गरम’ की ओर ‘हनुमान भक्त’ केजरीवाल की AAP? अगले सत्र से दिल्ली के सरकारी स्कूलों में पढ़ाया जाएगा देशभक्ति का पाठ
3 Conflict of interest विवाद में यशवंत सिन्हा के बेटे जयंत: संसदीय समिति प्रमुख रहते कंपनी को फीस लेकर सेवाएं देंगे बीजेपी सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री
यह पढ़ा क्या?
X