ताज़ा खबर
 

चुनावी चर्चा के लिए पीएम ने बदला प्रोग्राम, मोदी सहित 71 सांसदों के साथ प्‍लान डिस्‍कस करेंगे अमित शाह

मीटिंग के पहले दिन यूपी के साथ ही चार अन्‍य राज्‍यों गुजरात, पंजाब, मणिपुर और गोवा में होने वाले विधानसभा चुनावों पर भी रहा। लेकिन ज्‍यादा जोर उत्‍तर प्रदेश पर रहा।
भाजपा अध्‍यक्ष अमित शाह और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। (Photo: PTI)

उत्‍तर प्रदेश विधानसभा चुनावों के लिए भाजपा ने रणनीति बनाना शुरू कर दिया है। सोमवार को इलाहाबाद में नेशनल एग्‍जीक्‍यूटिव मीटिंग के दौरान अगले साल होने वाले चुनावों के लिए किस तरह से चुनाव प्रचार और किन मुद्दों पर लड़ा जाए इस पर चर्चा होगी। इसके लिए राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष अमित शाह ने उत्‍तर प्रदेश से पार्टी के सभी 71 सांसदों को डिनर पर बुलाया है। इस डिनर पार्टी में पीएम नरेंद्र मोदी भी शामिल होंगे। इस डिनर की अहमियत इसी बात से समझी जा सकती है कि पहले पीएम मोदी शाम को छह बजे दिल्‍ली लौटने वाले थे लेकिन अब रात 11 बजे वापस जाएंगे। बता दें कि मोदी वाराणसी से सांसद हैं।

शाह ने किया यूपी प्लान का खुलासा, कहा- हिंदुत्व पर सॉफ्ट नजरिया रख डवलपमेंट पर होगा फोकस

सोमवार को प्रधानमंत्री ने इलाहाबाद के चंद्रशेखर आजाद पार्क में चंद्रशेखर आजाद को श्रद्धांजलि अर्पित की। वे एक रैली को भी संबोधित करेंगे। सोमवार को केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने केंद्र सरकार की योजनाओं की जानकारी दी। इधर कैराणा से हिंदुओं के पलायन के दावों को लेकर भी भाजपा सक्रिय हो गई है। सोमवार को केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी, किरण रिजीजू, कलराज मिश्रा ने इस मुद्दे पर राज्‍य की सपा सरकार को घेरा। इससे लगता है कि आने वाले चुनावों में भाजपा कैराणा को मुद्दा बना सकती है। कैराणा से भाजपा सांसद हुकुम सिंह ने ही पलायन करने वाले लोगों की सूची जारी की थी। इसके बाद भाजपा के एक प्रतिनिधिमंडल ने कैराणा का दौरा भी किया था।

जानिए, पेन और स्‍याही के चलते कैसे राज्‍य सभा पहुंच गए सुभाष चंद्रा

रविवार को मीटिंग के पहले दिन यूपी के साथ ही चार अन्‍य राज्‍यों गुजरात, पंजाब, मणिपुर और गोवा में होने वाले विधानसभा चुनावों पर भी रहा। लेकिन ज्‍यादा जोर उत्‍तर प्रदेश पर रहा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बैठक में कहा कि पार्टी नेताओं को आत्‍मसंतुष्‍ट होने की जरूरत नहीं है। उन्‍हें नए राजनीतिक माहौल के लिए तैयारी करनी होगी। भाजपा यूपी चुनावों को कितनी गंभीरता से ले रही है, इसका प्रमाण केंद्र सरकार की हाल ही में लॉन्‍च हुई योजनाओं से मिल जाता है। प्रधानमंत्री मोदी ने केंद्र की ‘स्‍टैंड अप’ योजना की शुरुआत नोएडा से की। वही उज्‍जवना योजना बलिया से लॉन्‍च की गई। सरकार के दो साल पूरे होने के मौके पर रैली का आयोजन भी सहारनपुर में हुआ।

‘चेहरा’ के नाम पर प्रशांत किशोर ने यूपी में ली पहली बलि, मिस्‍त्री की जगह गुलाम नबी आजाद को बनवाया प्रभारी!

इसी बीच भाजपा के लिए सबसे बड़ी समस्‍या सीएम चेहरे की घोषणा को लेकर है। मीटिंग से पहले वरुण गांधी, योगी आदित्‍यनाथ और राजनाथ सिंह के काफी पोस्‍टर लगाए। अभी तक इस मामले में भाजपा नेताओं का कहना है कि इस पर पार्टी संसदीय बोर्ड फैसला लेगा। हालांकि रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर ने कहा था कि पार्टी यूपी में चेहरे पर ही चुनाव लड़ेगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.