ताज़ा खबर
 

भारत-चीन सीमा विवाद के बीच भारतीय सेना अमेरिका से खरीदेगी 72 हजार असॉल्ट राइफल, जानें क्या है खासियत

भारतीय सुरक्षाबलों के लिए रूस की एके-203 राइफलों का निर्माण भी अमेठी स्थित ऑर्डनेंस फैक्ट्री में चल रहा है।

Author Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र नई दिल्ली | Updated: July 12, 2020 10:27 PM
IndianArmy, INSAS Riflesभारतीय सेना अभी बड़े स्तर पर INSAS राइफल्स का इस्तेमाल करती है। (फाइल फोटो)

चीन के साथ लद्दाख से लगी सीमा पर पिछले करीब दो महीने से जारी तनाव के बीच अब भारत ने अमेरिका से हथियार खरीदने का फैसला किया है। भारत सरकार ने सेना के लिए अमेरिका को 72 हजार SIG-716 असॉल्ट राइफल का ऑर्डर दिया है। गौरतलब है कि भारत इससे पहले ही 72 हजार असॉल्ट राइफल का ऑर्डर अमेरिका को दे चुका है। इन राइफलों की डिलीवरी पूरी होने के बाद और 72 हजार राइफलों का ऑर्डर दिया जाएगा। यानी कुल मिलाकर भारत में यह अमेरिकी राइफलों का दूसरा बैच होगा।

रक्षा सूत्रों के मुताबिक, यह असॉल्ट राइफल उत्तरी कमांड और अन्य ऑपरेशनल एरिया में मौजूद सेना के जवानों को दी जाएंगी। बता दें कि हाल ही में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सीडीएस जनरल बिपिन रावत से थलसेना, वायुसेना और नौसेना की जरूरतें पता कर उन्हें आपात स्थिति में पूरा करने के आदेश दिए थे। रक्षा मंत्रालय ने चीन से तनाव के बीच अपनी रक्षा क्षमताओं को बढ़ाने का फैसला किया है।

बता दें कि भारत ने फास्ट-ट्रैक प्रोक्योरमेंट (एफटीपी) कार्यक्रम के जरिए बेहद कम समय में ही राइफल का दूसरा बैच भी मंगाया है। ये नई अमेरिकी राइफल भारत की स्माल आर्म्स सिस्टम के तहत बनीं इंसास राइफल्स की जगह लेंगी। रक्षा मंत्रालय की योजना के तहत आतंकरोधी ऑपरेशन और एलओसी पर तैनात सैन्यबलों के लिए 1.5 लाख राइफल आयात की जानी हैं। इसके अलावा बाकी सुरक्षाबलों को रूस की एके-203 राइफल दी जाएंगी, जिनका निर्माण फिलहाल अमेठी स्थित ऑर्डनेंस फैक्ट्री में चल रहा है।

भारत की INSAS राइफल से बेहतर हैं अमेरिकी राइफल: अमेरिका की SIG 716 असॉल्ट राइफल लंबी दूरी और करीब के टारगेट को आसानी से भेद लेती हैं। ये आधुनिक तकनीक से भी लैस हैं। सेना अभी जिन राइफल्स का इस्तेमाल करती है, उनमें मैगजीन टूटने की कई शिकायतें आई हैं। नई राइफलों में ऐसी कोई समस्या नहीं है। इंसास राइफलों से 5.56×45 मिमी कारतूस इस्तेमाल होते हैं, जबकि एसआईजी 716 राइफल में ज्यादा ताकतवर 7.62×51 मिमी कारतूस का इस्तेमाल होता है। रक्षा मंत्रालय ने हाल ही में इजराइल से 16 हजार लाइट मशीन गन (एलएमजी) खरीदने का ऑर्डर दिया है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 ‘पहाड़ों पर लड़ाई में चीन से मजबूत है भारतीय सेना लेकिन राजनीतिक इच्छा शक्ति की कमी’ रक्षा विशेषज्ञ ने किया स्थिति का विश्लेषण
2 …तो बीजेपी में शामिल हो रहे सचिन पायलट? दिल्ली पहुंचते ही सोशल मीडिया पर मीम्स की भरमार
3 SOG के नोटिस से नाराज हैं सचिन पायलट? दिल्ली दरबार भी नहीं दे रहा मुलाकात का वक्त, तो क्या सिंधिया बन जाएंगे सचिन?
ये पढ़ा क्या?
X