ताज़ा खबर
 

एलएसी विवाद: पैंगोंग सो में फंसा पेंच, फिंगर-4 से भारत को पीछे हटाने पर अड़ा चीन; आमने-सामने हैं दोनों देशों के सैनिक

भारत और चीन के बीच पिछले दो महीनों से लद्दाख से लगी एलएसी पर तनाव जारी है, हालांकि एनएसए अजीत डोभाल और चीनी विदेश मंत्री वांग यी की बातचीत के बाद स्थिति नियंत्रण में आने के संकेत मिले हैं।

India China, Galwan Valley,भारत चीन सीमा विवाद को लेकर दोनों देशों के बीच तल्खियां बरकरार हैं। (फोटो-सोशल मीडिया)

भारत और चीन के बीच पिछले दो महीने से लद्दाख में चार अलग-अलग सेक्टर्स पर तनाव जारी है। हालांकि, अब दोनों ओर से इन इलाकों से पीछे हटने की कार्रवाई शुरू कर दी गई है। भारतीय और चीनी टुकड़ियां फिलहाल गलवान घाटी में दोनों सेनाओं के बीच हुए टकराव वाले हिस्से से 2 किमी पीछे चली गई हैं। ओपन सोर्स इंटेलिजेंस की तरफ से मुहैया कराई जाने वाली सैटेलाइट फोटोज में इसकी पुष्टि भी हुई है। हालांकि, दोनों देशों के बीच अभी पैंगोंग सो इलाके में तनातनी जारी है। भारत और चीन दोनों ही पैंगोग लेक के ऊपर की पहाड़ियों को छोड़ने के लिए तैयार नहीं हैं।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, पैंगोंग सो में अब तक दोनों देशों की सेनाओं की तरफ से कोई मूवमेंट नहीं हुआ है। यानी दोनों देश ही अभी इस इलाके में आमने-सामने हैं। सोमवार को खबर आई थी कि चीन ने फिंगर-4 इलाके से पीछे हटकर फिंगर-5 पर कब्जा किया है। हालांकि, यह बहुत छोटी दूरी है। दरअसल, पैंगोंग लेक के बगल में ही आठ पहाड़ियां हैं, जिन्हें फिंगर कहा जाता है। भारत का दावा है कि फिंगर-1 से लेकर फिंगर-8 तक का इलाका उसका है, जबकि चीन फिंगर-2 के इलाके में एलएसी मानता है। ऐसे में दोनों देशों की सेनाएं यहां पूरे साजो-सामान के साथ टकराव की स्थिति में हैं।

गलवान और हॉट स्प्रिंग्स में तनाव कम होने के बाद फिर होगी सैन्य स्तर की बैठक
सूत्रों ने न्यूज वेबसाइट डेक्कन क्रॉनिकल को बताया कि जब गलवान और हॉट स्प्रिंग्स-गोगरा इलाके से तनाव कम हो जाएगा, तब दोनों देशों के बीच कोर कमांडर स्तर की बैठक होगी, ताकि अंदरुनी इलाकों से भी सेना हटाने पर बातचीत हो सके और अप्रैल की एलएसी की स्थिति पर वापस लौटा जा सके।

कई जगह यह चिंता जताई गई है कि भारतीय सेना मौजूदा समझौते के तहत गलवान घाटी में सिर्फ पैट्रोल पॉइंट-14 तक ही गश्त कर सकेंगी, जो कि पहले ही भारत में स्थित है। हालांकि, सूत्रों का कहना है कि पूरी तरह दोनों सेनाओं के अलग हो जाने के बाद भारतीय सैनिक फिर से पुराने हिस्सों तक गश्त शुरू कर सकेंगे। एक दिन पहले ही बॉर्डर रोड ऑर्गनाइजेशन के डायरेक्टर लेफ्टिनेंट जनरल हरपाल सिंह ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से मिलकर उन्हें सीमा पर हो रहे निर्माण कार्यों के बारे में जानकारी दी थी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 लखनऊ में झमाझम बारिश, उत्तर भारत में भी अगले 3 दिन तक बरसेंगे बदरा
2 डोवाल से बात किए बिना तनाव कम करने पर राजी नहीं था चीन, अभी भी शांतिपूर्ण रवैया नहीं दिखा रहा ड्रैगन
3 लापरवाही: एम्स में कोरोना संक्रमित शवों की अदला-बदली, अलग-अलग रीति से हुआ दोनों का अंतिम संस्कार
ये पढ़ा क्या?
X