ताज़ा खबर
 

चीन से तनातनी के बीच IAF ने बढ़ाई ताकत, अमेरिकी कंपनी बोइंग ने सौंपे पांच नए अपाचे हेलिकॉप्टर

भारत ने सितंबर 2015 में अमेरिकी कंपनी बोइंग को 22 अपाचे और 15 चिनूक हेलिकॉप्टर का ऑर्डर दिया था, चिनूक हेलिकॉप्टरों की खेप मार्च में ही डिलीवर हो चुकी है।

Author Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र नई दिल्ली | Published on: July 11, 2020 10:55 AM
अमेरिकी कंपनी बोइंग ने भारत को अपाचे और चिनूक हेलिकॉप्टर के आधुनिक वर्जन की डिलीवरी पूरी कर दी है। (एक्सप्रेस फोटो)

अमेरिका की सबसे बड़ी एविएशन कंपनियों में शुमार बोइंग ने भारतीय वायुसेना को ऑर्डर किए हुए सभी अपाचे और चिनूक मिलिट्री हेलिकॉप्टर्स की डिलीवरी पूरी कर दी है। भारत ने बोइंग के साथ 22 अपाचे हेलिकॉप्टर और 15 चिनूक हेलिकॉप्टर खरीदने की डील की थी। इन आधुनिक हेलिकॉप्टर के लिए भारत ने अमेरिकी कंपनी के साथ 2015 में ही समझौता किया था। 5 साल के अंदर बोइंग ने सभी हेलिकॉप्टर डिलीवर कर दिए।

बोइंग की इस टाइमिंग का भारत और चीन के बीच लद्दाख में चल रहे तनाव से भी जोड़कर देखा जा रहा है। दरअसल, भारत लद्दाख एलएसी पर चीन की घुसपैठ जैसी कारस्तानियों का सामना कर रहा है। ऐसे में उसे चीनी गतिविधियों पर नजर रखने और किसी अनहोनी की स्थिति में ऊंचाई वाले क्षेत्रों में ऑपरेट करने लायक एयरक्राफ्ट की जरूरत पड़ती है, जो ज्यादा से ज्यादा दबाव झेलने के बाद भी अच्छी मात्रा में पेलोड उठा सकें। अमेरिका के अपाचे और चिनूक दोनों ही अपनी इस खूबी के लिए जाने जाते हैं।

बोइंग ने ट्वीट कर बताया कि चिनूक हेलिकॉप्टरों की आखिरी खेप भारतीय वायुसेना को मार्च में ही सौंप दी गई थी, जबकि आखिरी 5 अपाचे हेलिकॉप्टर की खेप भी जून के आखिरी हफ्ते में भारत को सौंप दी गई है। बताया गया है कि इन्हें हिंडन एयरफोर्स स्टेशन पहुंचाया गया है।

बता दें कि भारत ने अपाचे हेलिकॉप्टर का सबसे आधुनिक AH-64E वर्जन खरीदा है। यह वर्जन अभी 17 देशों के पास ही है और इसे एडवांस अटैक हेलिकॉप्टर की श्रेणी में रखा जाता है। अपाचे हेलिकॉप्टर में सबसे आधुनिक हेलमेट टारगेटिंग सिस्टम दिया गया है, जिससे वे जहां देखते हैं, हेलिकॉप्टर की गन वहीं निशाना लगाती है। इसके अलावा इसमें रात के ऑपरेशन के लिए नाइट विजन सिस्टम और सर्विलांस सेंसर भी दिए गए हैं। अपाचे का 18 एयरक्राफ्ट का बटालियन एक बार में 288 मिसाइल ले जा सकता है, जो दुश्मन की टैंकों को आसानी से नष्ट कर सकती हैं।

इसके अलावा भारत ने चिनूक हेलिकॉप्टर का भी सबसे एडवांस वर्जन CH-47F (I) खरीदा है। यह हेलिकॉप्टर आसानी से गर्म जलवायु के साथ ऊंचाई वाले इलाकों में भार लेकर उड़ सकता है। तेज हवाओं का भी इस पर कोई असर नहीं होता। इसे हैवी-लिफ्ट हेलिकॉप्टर की श्रेणी में रखा जाता है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 ..तो मीडिया में परोसा गया झूठ? पीएम मोदी ने जिस सोलर प्लांट का किया उद्घाटन, वो नहीं है एशिया का सबसे बड़ा सौर ऊर्जा केंद्र- अर्थशास्त्री का दावा
2 एनकाउंटर के नाम पर मर्डर करने वाले पुलिसकर्मियों के लिए भी इंतज़ार कर रहा फाँसी का फंदा- सुप्रीम कोर्ट ने कहा था
3 RJD से नाराज जीतन राम मांझी बोले- जो भी हूं नीतीश कुमार के चलते हूं, Congress से कहा- स्‍वतंत्र नेतृत्‍व कीजिए
ये पढ़ा क्या?
X