ताज़ा खबर
 

LAC विवादः चीन से तनातनी के बीच भारत पूरा करेगा DSDBO रोड समेत आठ पुलों का निर्माण

लेह से चीन की सीमा पर स्थित काराकोरम पास तक पहुंचने वाले DSDBO सड़क के इस साल पूरे हो जाने की उम्मीदें हैं। 14 हज़ार फीट की ऊंचाई पर स्थित यह सड़क दरबूक से भारतीय सीमा के लद्दाख में स्थित आखिरी गांव श्योक तक पहुंचती है।

भारत DSDBO रोड समेत आठ पुलों का निर्माण पूरा करेगा। (pc – ANI )

पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन के बीच सीमा विवाद के बीच भारत DSDBO रोड समेत आठ पुलों का निर्माण पूरा करेगा। सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) इस साल के अंत तक 225 किलोमीटर लंबी दरबूक-श्योक-दौलत बेग ओल्डी (डीएसडीबीओ) और आठ पुलों का निर्माण इस साल के अंत तक पूरा कर सकता है। 255 किलोमीटर लंबी यह रोड लेह से अक्साई चीन की सीमा से सटे दौलत बेग ओल्डी तक कनेक्टिविटी बनाती है।

इस सड़क की मदद से भारतीय सुरक्षा बलों को लेह से डीबीओ पहुँचने में मात्र 6 घंटे लगेंगे। इससे पहले लेह से डीबीओ जाने में बहुत टाइम लगता था। लद्दाख की राजधानी लेह से चीन की सीमा पर स्थित काराकोरम पास तक पहुंचने वाले DSDBO सड़क के इस साल पूरे हो जाने की उम्मीदें हैं। 14 हज़ार फीट की ऊंचाई पर स्थित यह सड़क दरबूक से भारतीय सीमा के लद्दाख में स्थित आखिरी गांव श्योक तक पहुंचती है।

सरकारी सूत्रों का कहना है कि इस रोड का काम इस साल के अंत तक पूरा हो जाना चाहिए, जिसमें विभिन्न आकारों के आठ पुल भी शामिल हैं। इसके अलावा कुछ हिस्से में डामर का काम भी पूरा हो जाएगा। सूत्रों ने कहा कि श्रम कर्मचारी प्रोपर चेकउप और स्क्रीनिंग के बाद झारखंड से लद्दाख के लिए निकाल चुके हैं। पहाड़ी इलाके में काम करने के लिए झारखंड के लोगों को सबसे उपयुक्त माना जाता है क्योंकि वे वहां की परिस्थितियों के अनुकूल हैं।

दौलत बेग ओल्डी भारत का सबसे उत्तरी कोना है और वहां तक एक सड़क का होना भारत के लिए वाकई अहम है। अक्साई चीन की सीमा रेखा के समानांतर चलने वाली DSDBO सड़क LAC से सिर्फ 9 किमी की दूरी पर है। पूर्वी लद्दाख सेक्टर में बहुत ठंडी होती है जिसके कारण इस काम के लिए सिर्फ चार या पांच महीने का समय ही है।

DSDBO सड़क को पूरा करने के अलावा भारत लद्दाख क्षेत्र में ससोमा से सेसर ला पास तक एक ग्लेशिएटेड सड़क का निर्माण कर रहा है, जो कई सालों में पूरी होने पर एक और वैकल्पिक रास्ता होगी। सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) द्वारा बनाई जा रही दोनों सड़कों के निर्माण में चीन की सीमा से सटे इलाकों में 11,815 श्रमिकों को काम पर लगाया गया है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 दिल्‍ली में कोरोना: बोले अमित शाह- अरविंद केजरीवाल को देंगे हर मदद, अरुणाचल से चार आईएएस बुलाए
2 ‘नरेंद्र मोदी नौ बार गए चीन, चार पीएम तो एक बार भी नहीं गए’, दिग्विजय सिंह ने पूछा- फायदा क्या हुआ? लोग दे रहे मजेदार कमेंट्स
3 ‘खौफ में आ जाएंगे मुसलमान’, काशी-मथुरा मामले में हिन्दुओं की याचिका खारिज करें सुप्रीम कोर्ट, जमीयत ने दी अर्जी
ये पढ़ा क्या?
X