ताज़ा खबर
 

दो साल की जुड़वां बच्चियों की 24 घंटे से ज्यादा चली सर्जरी, AIIMS के डॉक्टरों ने आधा दर्जन अंगों को किया अलग!

एम्स के निदेशक डॉ रणदीप गुलेरिया ने सर्जरी की आवश्यकता को समझते हुए इसे तत्काल स्वीकृति प्रदान की। सर्जरी के दौरान कुल 64 स्वास्थ्य कर्मियों ने योगदान दिया।

UP twins, aiims, 24 hour surgery, twins from badaun, coronavirus in india, aiims director, randeep guleria, AIIMS Director Randeep Guleriaयूपी के बदायूं के रहने वाले ये बच्चे धड़ से नीचे के हिस्से से जुड़े थे। (प्रतीकात्मक फोटो)

उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले के शरीर से जुड़े जुड़वां बच्चियों को दिल्ली के एम्स में 24 घंटे चली सर्जरी के बाद शनिवार को सफलतापूर्वक अलग कर दिया गया। दोनों बच्चियां कूल्हे और पीठ के नीचे के हिस्से से एक दूसरे से जुड़े थे। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। सर्जरी शुक्रवार को सुबह 8.30 बजे शुरू हुई और शनिवार को रात 9 बजे के बाद तक जारी रही।

एम्स के निदेशक डॉ रणदीप गुलेरिया ने सर्जरी की आवश्यकता को समझते हुए इसे तत्काल स्वीकृति प्रदान की। सर्जरी के दौरान कुल 64 स्वास्थ्य कर्मियों ने योगदान दिया। डॉक्टरों ने बताया कि दो वर्षीय बच्चियों का पेड़ू, रीढ़ की हड्डियां, मेरुदण्ड और आंतें जुड़ी हुई थीं। उन दोनों का मलाशय एक ही था और वे हृदय एवं रक्त वाहिकाओं संबंधी समस्याओं से भी पीड़ित थीं। डॉक्टरों ने बताया कि इन बच्चों को अलग करने की सर्जरी के साथ ही एनेस्थिसिया की प्रक्रिया भी काफी चुनौतीपूर्ण थी क्योंकि दोनों बच्चियों के दिलों में छेद था।

डॉक्टरों ने बताया कि बच्चियों को एनेस्थेसिया दिए जाने के दौरान हम यह सुनिश्चित करना चाहते थे जब तक सर्जरी चले इनका हृदय सामान्य रूप से काम करता रहे। यही सबसे बड़ी चुनौती भी थी। ऑपरेशन के दौरान जांघों की रक्त वाहिकाएं एवं मलाशय एवं मेरुदंड को पुन: सामान्य किया गया और रीढ़ की हड्डियों को अलग किया गया।

इसके अलावा ब्लड वेसल्स भी अलग-अलग किए गए। इसके अतिरिक्त बच्चियों का गर्भाशय भी जुड़ा हुआ था। उनके गर्भाशय को अलग करने के साथ अलग-अलग बनाया गया। सर्जरी का नेतृत्व पीडिएट्रिक सर्जरी विभाग की प्रमुख डॉ. मीनू वाजपेयी ने किया। डॉक्टरों का कहना है कि जुड़वा बच्चियों को क्लोज केयर में रखा गया है। इसके अलावा उनकी स्थिति पर लगातार नजर रखी जा रही है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 ‘देश बंटवारे के बाद ये दूसरी सबसे बड़ी त्रासदी!’ प्रवासी मजदूरों की दुर्दशा पर बोले मशहूर इतिहासकार रामचंद्र गुहा
2 रिपोर्ट: कोरोना ने बदला ट्रेंड, 4 माह में 377% बढ़ी ‘रिमोट वर्क’ की मांग, वर्क फ्रॉम होम में भी 167% का इजाफा
3 श्रमिक ट्रेन से लौट रहे थे प्रवासी, घर पहुंचने से पहले ही रास्ते में तीन ने तोड़ दिया दम