ताज़ा खबर
 

कोरोना, लॉकडाउन की मारः MA, BBA पास जो कमाते थे ‘अच्छा-खासा’ पैसा, वे MGNREGA में काम खोजने पर मजबूर; बोले- विकल्प ही नहीं है

Corona Virus Lockdown: कोरोना वायरस और लॉकडाउन के चलते लोगों के सामने संकट खड़ा हो गया है। अच्छी खासी डिग्रियां लिए युवा मनरेगा के तहत काम करने को मजबूर हैं।

Corona Virus, PTI ,कोरोना वायरस के चलते लागू किए गए लॉकडाउन के बीच काफी संख्या में लोग अपने राज्यों को वापस आ गए हैं। ( फाइल फोटो-PTI)

Corona Virus Lockdown: कोरोना वायरस  और लॉकडाउन की मार ने युवाओं को भी संकट की स्थिति में ला खड़ा किया है। अच्छी खासी डिग्रियां होने के बावजूद वे लोग मनरेगा स्कीम (MGNREGA) के तहत काम करने को मजबूर हैं। उनका कहना है कि रोजगार का उनके पास यही एक विकल्प है। कोरोना संकट के बीच सिर्फ प्रवासी मजदूर ही काम की तलाश नहीं कर रहे हैं पढ़े लिखे लोग भी है जो काम की तलाश में जुटे हैं। विकल्पों के आभाव के चलते वह मनरेगा स्कीम के तहत काम करने को मजबूर हैं।

NDTV की एक रिपोर्ट के मुताबिक उत्तर प्रदेश के रहने वाले रोशन कुमार ने एमए किया हुआ है। लॉकडाउन से पहले वह अच्छी नौकरी करते थे लेकिन इस संकट की स्थिति ने उनसे उनका रोजगार छीन लिया। लॉकडाउन के दौरान उन्हें नौकरी से निकाल दिया गया। अब वह बताते हैं कि वह मनरेगा में काम करने इच्छा रखते हैं। उनके पास रोजगार के नाम पर कुछ भी नहीं है।

बीबीए कर चुके सत्येंद्र कुमार की कहानी भी ऐसी ही है। बीबीए के बाद भी उनके पास कोई नौकरी नहीं थी। उन्होंने जैसे तैसे 6-7 हजार की तनख्वाह वाली नौकरी का इंतेजाम किया। लॉकडाउन के दौरान यह नौकरी भी चली गई और गांव लौटने पर प्रधान ने मनरेगा में काम दिलाने में मदद की।

बता दें कि लॉकडाउन से पहले मनरेगा में औसतन एक दिन में बीस लोग काम करते थे लेकिन अब संख्या बढ़कर 100 हो गई है। इनमें से हर पांचवा शख्स डिग्री धारक है या तो लॉकडाउन के चलते अपनी नौकरी गंवा चुका है। राज्य में योगी सरकार ने  दूसरे राज्यों से लौटे लोगों के लिए मनरेगा स्कीम के तहत 30 लाख लोगों को रोजगार दिलाने का प्रबंध किया है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 मोदी सरकार 2.0 को राहुल गांधी ने बताया ‘Demon 2.0’, कहा- लोगों, MSME को कैश ट्रांसफर न कर इकनॉमी तबाह कर रहा केंद्र
2 ‘क्या मैं इनके लिए इतना अहम हूं?’ पीएम मोदी की आलोचना करने पर FIR के बाद विनोद दुआ ने बीजेपी पर कसा तंज, समर्थन में उतरे पत्रकार
3 दीपक चौरसिया, SC के वकील और केंद्रीय मंत्री के सलाहकार हथिनी की मौत को साम्प्रदायिक रंग देने पर चौतरफा घिरे, डिलीट करना पड़ा ट्वीट