ताज़ा खबर
 

टीवी चैनल ने दिया राम सेतु के होने का संकेत, स्‍मृति ईरानी ने लिखा- जयश्री राम

अमेरिकी टीवी चैनल ने इस पर नया कार्यक्रम बनाया है।

Author नई दिल्ली | Published on: December 12, 2017 5:01 PM
समुद्र में बना राम सेतु, इसे एडम्‍स ब्रिज भी कहते हैं। (Photo: FILE/PTI)

भारत में राम सेतु को लेकर लगातार बहस होती रही है। अब एक अमेरिकी टीवी चैनल ने इसके अस्तित्व को लेकर चल रहे संदेह को दूर करने का दावा किया है। चैनल ने इस पर नया कार्यक्रम बनाया है। हाल में ही उसका प्रोमो भी जारी किया गया है, जिसमें भारत और श्रीलंका के बीच मानव निर्मित पुल का अस्तित्व होने की ओर संकेत किया गया है। प्रोमो प्रसारित होने के बाद केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने ट्वीट कर ‘जय श्रीराम’ लिखकर इसका अभिवादन किया है।

अमेरिकी टीवी चैनल ‘साइंस’ के स्वामित्व वाले डिस्कवरी कम्यूनिकेशंस ने राम सेतु को लेकर एक टीवी कार्यक्रम बनाया है। इसमें वैज्ञानिक तथ्यों के आधार पर भारत और श्रीलंका को जोड़ने के लिए एक पुल के होने का दावा किया गया है। इसका प्रसारण बुधवार को किया जाएगा। चैनल ने टि्वटर पर प्रोमो का लिंक देते हुए लिखा, ‘क्या हिंदुओं के बीच प्रचलित भारत और श्रीलंका को जोड़ने के लिए पुल होने का मिथक सच है? वैज्ञानिक विश्लेषण उसकी मौजूदगी की ओर संकेत करता है।’ इसमें अमेरिकी पुरातत्व विशेषज्ञों का हवाला देते हुए पंबन (रामेश्वरम के पास स्थित द्वीप) और मन्नार द्वीप के बीच तकरीबन 50 किलोमीटर की दूरी में पुल होने की बात कही गई है। राम सेतु को एडम्स ब्रिज के नाम से भी जाना जाता है। साइंस चैनल द्वारा सोशल मीडिया में 16 घंटे पहले जारी प्रोमो को अब तक 11 लाख लोग देख चुके हैं। इसके साथ ही अमेरिकी टीवी शो ने राम सेतु के अस्तित्व के मुद्दे को एक बार फिर से छेड़ दिया है।

सूचना एवं प्रसारण मंत्री स्मृति ईरानी ने अमेरिकी टीवी चैनल के वीडियो को री-ट्वीट करते हुए ‘जय श्रीराम’ लिखा है। मालूम हो कि यूपीए-1 सरकार ने वर्ष 2005 में शिपिंग कैनाल प्रोजेक्ट का प्रस्ताव रखा था। उस वक्त भाजपा ने इस परियोजना का यह कहते हुए विरोध किया था कि इससे पुल क्षतिग्रस्त हो सकता है। भाजपा इस महीने के अंत में सुप्रीम कोर्ट में इस बाबत हलफनामा दाखिल कर सकती है। सेटेलाइट तस्वीरों में भी उस क्षेत्र में स्ट्रक्चर होने की बात सामने आ चुकी है। हालांकि, वैज्ञानिक उसे उथला समुद्री क्षेत्र मानते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Atal Bihari Vajpayee: कभी नहीं कहा था इंदिरा को दुर्गा, आधा कांग्रेसी होने के आरोप पर क्या बोले अटल जी?
2 अब आम अदालतों में नहीं चलेगा नेताओं पर मुकदमा, 8 करोड़ खर्च कर स्पेशल कोर्ट बनवाएगी मोदी सरकार
3 डॉ. आंबेडकर का नहीं लिखा जा रहा सही नाम! नाराज राज्यपाल ने राष्ट्रपति को लिखा पत्र