ताज़ा खबर
 

अमर सिंह ने याद किया मणिशंकर के साथ हुई ‘ऐतिहासिक’ झड़प, कहा- मद्यपान करके मदमस्त थे कांग्रेसी नेता

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ विवादित बोल बोलने वाले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री मणिशंकर अय्यर से जुड़ीं अतीत की घटनाएं भी सामने आने लगी हैं।

Author नई दिल्ली | December 8, 2017 1:03 PM
राज्यसभा सदस्य और वरिष्ठ नेता अमर सिंह। (फाइल फोटो)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ विवादित बोल बोलने वाले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री मणिशंकर अय्यर से जुड़ीं अतीत की घटनाएं भी सामने आने लगी हैं। इसी क्रम में राज्यसभा सदस्य और वरिष्ठ नेता अमर सिंह ने कांग्रेस नेता के साथ हुई ‘ऐतिहासिक’ झड़प को याद किया है। साथ ही बताया कि देश के कई दिग्गज नेता ‘मणि पीड़ित’ रह चुके हैं। पीएम मोदी के खिलाफ मणिशंकर का बयान सामने आने के बाद राजनीतिक प्रतिक्रियों की बाढ़ सी आ गई थी। यहां तक कि पार्टी को उन्हें निलंबित तक करना पड़ गया।

मणिशंकर अय्यर के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए सांसद अमर सिंह ने कहा, ‘इस देश के अनेक नेता मणि पीड़ित रह चुके हैं। इसमें उमा भारती, दिवंगत जयललिता समेत तमाम बड़े नेता हैं। मैं स्वयं भी मणि पीड़ित हूं। गुजराल साहब (पूर्व प्रधानमंत्री इंद्र कुमार गुजराल के भाई सतीश गुजराल) के निवास पर एक भोज था। वह मद्यपान करके नशे में चूर मदमस्त आधे घंटे से इतनी क्रूर बातें कर रहे थे कि हमारी और उनकी (मणिशंकर अय्यर) एक ऐतिहासिक झड़प हुई थी और उस झड़प ने पूरे राष्ट्र में इतनी प्रसिद्धि पाई कि जब मणिशंकर अय्यर संसद के प्रांगण में किसी को बेइज्जत करने खड़े होते थे तो भाजपा के सदस्य कहते थे कि मणि बैठ जा नहीं तो अमर सिंह आ जाएगा।’

मणिशंकर अय्यर ने पीम मोदी को ‘नीच’ कह कर संबोधित किया था, जिसके बाद भाजपा सदस्य हमलावर हो गए थे। विवाद बढ़ता देख कांग्रेस को उनके खिलाफ निलंबन की कार्रवाई करनी पड़ी। मालूम हो कि इससे पहले मणिशंकर अय्यर ने वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव से ठीक पहले नरेंद्र मोदी के लिए ‘चाय बेचने की व्यवस्था’ कराने का विवादास्पद बयान दिया था। आम चुनावों में कांग्रेस को करारी हार का सामना करना पड़ा था। इस बार उन्होंने भाजपा और कांग्रेस दोनों के लिए महत्वपूर्ण गुजरात विधानसभा चुनाव से ठीक पहले विवादित बयान दिया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App