ताज़ा खबर
 

अमर सिंह को मिली Z क्लास सिक्योरिटी, अखिलेश गुट ने कहा- उन्हें बीजेपी से मिला पार्टी तोड़ने का इनाम

राज्यसभा सदस्य अमर सिंह को केंद्र सरकार ने ‘जेड’ श्रेणी सुरक्षा प्रदान की है वहीं सपा ने इसे पार्टी तोड़ने की कोशिश का इनाम बताया।

राज्यसभा सदस्य और वरिष्ठ नेता अमर सिंह। (फाइल फोटो)

राज्यसभा सदस्य अमर सिंह को हालिया कुछ गतिविधियों के बाद खतरे की आशंका के चलते केंद्र सरकार ने केंद्रीय अर्द्धसैनिक कमांडो वाला ‘जेड’ श्रेणी का सुरक्षा घेरा प्रदान किया है। यह फैसला उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों से पहले समाजवादी पार्टी के आंतरिक कलह की पृष्ठभूमि में किया गया है। अधिकारियों ने कहा कि केंद्रीय गृह मंत्रालय ने कल रात इस संबंध में एक आदेश जारी किया और केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) से तत्काल प्रभाव से यह जिम्मेदारी संभालने को कहा है। केंद्रीय सुरक्षा एजेंसियों द्वारा दी गयी जानकारी का हवाला देते हुए एक अधिकारी ने कहा, ‘‘हालिया गतिविधियों के मद्देनजर (सिंह को) खतरे की आशंका है।’’

वहीं केंद्र सरकार की तरफ से अमर सिंह को जेड श्रेणी की सुरक्षा दिए जाने पर अखिलेश यादव गुट ने इसे पार्टी तोड़ने की कोशिश करार दिया है। अखिलेश गुट ने इसे पार्टी तोड़ने का इनाम कहा है। समाजवादी पार्टी सांसद नरेश अग्रवाल ने कहा कि अमर सिंह को बीजेपी का एजेंट होने का इनाम दिया गया है। हालांकि एजेंसियों ने खतरे के संबंध में ज्यादा ब्योरा नहीं दिया। सपा नेता मुलायम सिंह यादव के करीबी अमर सिंह के सुरक्षा घेरे में सीआईएसएफ के दो दर्जन सशस्त्र कमांडो की टुकड़ी ‘जेड’ सुरक्षा घेरे के तहत होगी और उत्तर प्रदेश में उनके दौरों के समय उनके साथ यह सुरक्षा घेरा पूरे वक्त रहेगा।

जब वह दिल्ली में होेंगे तोे दिल्ली पुलिस की छोटी सी टीम उनकी सुरक्षा की जिम्मेदारी संभाल सकती है। सपा नेता मुलायम सिंह से कुछ दिन तक संबंधों में तनाव रहने के बाद अमर सिंह फिर से उनके करीब आ गये थे और मई में फिर से पार्टी के राज्यसभा सांसद बनाये गये थे। समाजवादी पार्टी के नियंत्रण को लेकर मुलायम और उनके बेटे अखिलेश यादव के बीच गतिरोध के दौरान अमर सिंह फिर से खबरों में आ गये हैं। अधिकारियों के मुताबिक अमर सिंह 2008 से 2016 के मध्य तक सीआईएसएफ के केंद्रीय सुरक्षा घेरे में रहे और बाद में केंद्रीय गृह मंत्रालय ने उत्तर प्रदेश पुलिस को यह जिम्मेदारी सौंप दी थी।

एक अधिकारी के अनुसार, ‘‘सुरक्षा की फिर से समीक्षा कर उसे सीआईएसएफ के तहत ही ‘जेड’ श्रेणी का कर दिया गया है।’’ उत्तर प्रदेश की 403 विधानसभा सीटों के लिए अगले महीने चुनाव शुरू होगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 अब मेट्रो टोकन-कार्ड के लिए काउंटर पर वक्त बर्बाद नहीं होगा, मोबाइल पर मिलेगा टिकट
2 वित्त मंत्री अरुण जेटली बोले- नोटबंदी से छुपा धन सामने आया, अब लगाएंगे उन पर टैक्स
3 ओजस्‍वी भाषण से अमरीकियों को कायल बनाने वाले स्‍वामी विवेकानंद को अंग्रेजी में मिले थे 47, 46 और 56% नंबर
ये पढ़ा क्या?
X