ताज़ा खबर
 

मायावती का दावा- सपा ने निलंबित विधायकों को शामिल कराया तो टूट जाएगी पार्टी

बसपा से निलंबित पांच विधायकों ने मंगलवार को समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव से मुलाकात की थी और सपा में शामिल होने के संकेत दिए थे। अक्टूबर 2020 में, बसपा के सात विधायकों को निलंबित कर दिया गया था। उन पर राज्यसभा चुनाव में पार्टी के आधिकारिक उम्मीदवार का विरोध करने का आरोप लगा था।

Updated: June 16, 2021 4:09 PM
सपा प्रमुख अखिलेश यादव और बसपा सुप्रीमो मायावती। (एक्सप्रेस फाइल फोटो)

बहुजन समाज पार्टी के निलंबित विधायकों के समाजवादी पार्टी में शामिल होने की खबरों के बीच बसपा प्रमुख मायावती ने बुधवार को हमलावर होते हुए कहा कि सपा अगर इन निलम्बित विधायकों के प्रति थोड़ी भी ईमानदार होती तो अब तक इन्हें अधर में नहीं रखती। बुधवार को मायावती ने एक के बाद एक पांच ट्वीट कर समाजवादी पार्टी पर हमला बोला।

उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी द्वारा मीडिया के सहारे यह प्रचारित करना कि बसपा के कुछ विधायक टूट कर सपा में जा रहे हैं, यह सरासर गलत है। मायावती ने दूसरे ट्वीट में कहा कि उन्हें काफी पहले ही सपा व एक उद्योगपति से मिलीभगत के कारण राज्यसभा के चुनाव में एक दलित के बेटे को हराने के आरोप में बसपा से निलम्बित किया जा चुका है। गौरतलब है कि अक्टूबर 2020 में बसपा के सात विधायकों को मायावती ने निलंबित कर दिया था। उन पर राज्यसभा चुनाव में पार्टी के आधिकारिक उम्मीदवार रामजी गौतम का विरोध करने का आरोप लगा था।

बसपा सुप्रीमो ने अगले ट्वीट में कहा, ”सपा अगर इन निलम्बित विधायकों के प्रति थोड़ी भी ईमानदार होती तो अब तक इन्हें अधर में नहीं रखती। क्योंकि इनको यह मालूम है कि यदि इन विधायकों को लिया तो सपा में बगावत व फूट पड़ेगी, जो बसपा में आने को आतुर बैठे हैं। उन्होंने कहा, ”जगजाहिर तौर पर सपा का चाल, चरित्र व चेहरा हमेशा ही दलित-विरोधी रहा है, जिसमें थोड़े भी सुधार के लिए वह कतई तैयार नहीं। इसी कारण सपा सरकार में बसपा सरकार के जनहित के कामों को बन्द किया गया। भदोही को नया संत रविदास नगर जिला बनाने को भी बदल डाला।

उल्लेखनीय है कि मायावती ने अपने कार्यकाल में भदोही का नाम बदलकर संत रविदास नगर रखा था लेकिन अखिलेश यादव की सरकार ने सत्ता में आने के बाद जिले का नाम बदलकर पुन: भदोही कर दिया। बसपा प्रमुख ने कहा, ”वैसे बसपा के निलम्बित विधायकों से मिलने आदि का मीडिया में प्रचारित करने के लिए कल किया गया सपा का यह नया नाटक प्रदेश में पंचायत चुनाव के बाद अध्यक्ष व ब्लॉक प्रमुख के चुनाव के लिए की गई पैंतरेबाजी ज्यादा लगती है। उत्तर प्रदेश में बसपा जन आकांक्षाओं की पार्टी बनकर उभरी है जो जारी रहेगा।”

बसपा से निलंबित पांच विधायकों ने मंगलवार को समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव से मुलाकात की थी और सपा में शामिल होने के संकेत दिए थे। अक्टूबर 2020 में, बसपा के सात विधायकों को निलंबित कर दिया गया था। उन पर राज्यसभा चुनाव में पार्टी के आधिकारिक उम्मीदवार का विरोध करने का आरोप लगा था। निलंबित किये गए विधायकों में चौधरी असलम अलीर, हरगोविंद भार्गव, मोहम्मद मुस्तफा सिद्दीकी, हाकिम लाल बिंद, मोहम्मद असलम राएनी, सुषमा पटेल और वंदना सिंह शामिल थीं।

इस महीने की शुरुआत में बसपा प्रमुख ने पार्टी के विधानसभा में नेता लालजी वर्मा और अकबरपुर के विधायक राम अचल राजभर को पार्टी से निकाल दिया था। इन दोनों नेताओं पर पंचायत चुनावों में पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होने के आरोप लगे थे। दोनों नेताओं ने इन आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया था।

Next Stories
1 आंध्र प्रदेश में माओवादियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़, 6 माओवादी मारे गए
2 लक्षद्वीप में प्रशासक प्रफुल पटेल का विरोध, एक यात्रा में खर्च कर दिए 23 लाख रुपये
3 ट्विटर पर ऐक्शन को लेकर बोली सरकार- कई मौके दिए लेकिन समझ में नहीं आई बात
ये पढ़ा क्या?
X