ताज़ा खबर
 

Solar Eclipse 2019: एक क्लिक पर जानिए सूर्यग्रहण से जुड़ी सारी जानकारी, कब, कहां शुरू होगा ग्रहण, कब देखें?

Solar Eclipse Surya Grahan December 2019 Date and Time: यह कुंडलाकार सूर्यग्रहण सऊदी अरब, कतर, संयुक्त अरब अमीरात, ओमान, श्रीलंका, मलेशिया, इंडोनेशिया, सिंगापुर, उत्तरी मारियाना द्वीप और गुआम से भी दिखाई देगा।

इलाकों में सूर्यग्रहण का नजारा दिखेगा।

Partial Solar Eclipse or Surya Grahan December 2019: आज (गुरूवार, 26 दिसंबर) को देश के दक्षिणी राज्यों केरल, कर्नाटक और तमिलनाडु के कुछ इलाकों में सूर्यग्रहण का नजारा दिखेगा। उस वक्त सूर्य चंद्रमा के सामने एक वलय के रूप में दिखाई देगा। सूर्य ग्रहण एक प्राकृतिक घटना है जो तब होती है जब चंद्रमा सूर्य और पृथ्वी के बीच आता है। यह कुंडलाकार सूर्यग्रहण सऊदी अरब, कतर, संयुक्त अरब अमीरात, ओमान, श्रीलंका, मलेशिया, इंडोनेशिया, सिंगापुर, उत्तरी मारियाना द्वीप और गुआम से भी दिखाई देगा।

आंशिक सूर्यग्रहण सुबह 8.04 मिनट पर शुरू होगा, जब चंद्रमा सूर्य के किनारे को छूएगा। सुबह 9 बजकर 24 मिनट पर ग्रहण का कुंडलाकार चरण शुरू होगा और पूर्ण ग्रहण दिखाई देगा। सुबह 9 बजकर 26 मिनट पर तब अधिकतम ग्रहण दिखेगा जब चंद्रमा सूर्य के केंद्र के सबसे करीब होगा। सुबह 9.27 बजे तक पूर्ण ग्रहण समाप्त हो जाएगा और 11.05 बजे तक चंद्रमा सूर्य के किनारों को छोड़ देगा, आंशिक ग्रहण समाप्त होगा। इस तरह कुल सूर्य ग्रहण का समय 3.12 मिनट तक रहेगा।

खगोल विज्ञान शिक्षा के क्षेत्र में काम करने वाली संस्था स्पेस इंडिया के सचिन बांबा ने ‘द हिन्दू’ को बताया, “ग्रहण कतर, यूएई, ओमान में शुरू होगा और इसकी भूवैज्ञानिक स्थिति के कारण, चेरुवथुर (केरल) भारत में पहला स्थान होगा जहां यह सबसे ज्यादा दिखाई देगा।” कोलकाता स्थित MP बिड़ला तारामंडल ने देश के अलग-अलग शहरों में सूर्यग्रहण के समय का विवरण जारी किया है।

वैज्ञानिकों की सलाह के मुताबिक सूर्यग्रहण नंगी आंखों से नहीं देखना चाहिए। इससे रेडिएशन का खतरा रहता है। वैज्ञानिकों के मुताबिक “आईएसओ 12312-2 अंतर्राष्ट्रीय मानक” के साथ प्रमाणित चश्मे से ही ग्रहण देखना चाहिए। वे नासा के अनुसार उपयोग के लिए सुरक्षित हैं। अन्य विकल्पों के तौर पर 14 वेल्डर का ग्लास, या एक पिनहोल प्रोजेक्टर का उपयोग कर जो उपयोगकर्ता को कागज या कार्डबोर्ड पर सूर्य की तस्वीर को प्रोजेक्ट करने की अनुमति देता है, का भी इस्तेमाल किया जाना चाहिए। ग्रहण के समय खाने-पीने या दैनिक कार्यकलाप की कोई मनाही नहीं होती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 मुसलमान पाकिस्तान जाएंगे या कब्रिस्तान- मुजफ्फरनगर के बुजुर्ग का यूपी पुलिस पर घर में घुस कर कोहराम मचाने का आरोप
2 हटेंगी असम राइफल्स और सेना की टुकड़ियां
3 CAA पर हिंसा करने वालों को प्रधानमंत्री की नसीहत, खुद से पूछें कि क्या उनका रास्ता सही था
ये पढ़ा क्या?
X