ताज़ा खबर
 

एएमयू के रिसर्च स्‍कॉलर ने आतंकी को दिया गन सैल्‍यूट, वीडियो वायरल

मन्नान से जुड़ा यह वीडियो सोशल मीडिया पर इस वक्त खूब वायरल हो रहा है। मन्नान मूलरूप से जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा जिले में टकीपोरा का रहने वाला है। जानकारों की मानें तो यह पहला वायरल वीडियो है, जिसमें उसके आंतक का रास्ता अपनाने का प्रमाण मिला है।

मन्नान बशीर वानी, एएमयू के जियोलॉजी विभाग में रिसर्च कर रहा था। (फोटोः amu.ac.in)

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) के रिसर्च स्कॉलर से आतंक का रास्ता चुनने वाले मन्नान वानी का एक वीडियो सामने आया है। वह इसमें कुख्यात आतंकी और हिज्बुल कमांडर अल्ताफ अहमद डार उर्फ अल्ताफ काचरू को गन सैल्यूट देते दिखा। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, यह वीडियो काचरू के जनाजे के दौरान का था, जिसमें वह हवाई फायरिंग कर रहा था। जनाजे में उसके अल्वा दर्जनों आतंकी थे, जो मन्नान के समर्थन में जोर-जोर से नारे लगा रहे थे। हालांकि, वायरल वीडियो को लेकर अभी तक प्रशासन ने किसी प्रकार की पुष्टि नहीं की है।

मन्नान से जुड़ा यह वीडियो सोशल मीडिया पर इस वक्त खूब वायरल हो रहा है। मन्नान मूलरूप से जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा जिले में टकीपोरा का रहने वाला है। जानकारों की मानें तो यह पहला वायरल वीडियो है, जिसमें उसके आंतक का रास्ता अपनाने का प्रमाण मिला है। दावा किया जा रहा है कि यह वीडियो अल्ताफ के जनाजे का है-

सूत्रों का कहना है कि वह इसी साल पांच जनवरी को आतंकी संगठन हिज्बुल मुजाहिद्दीन का हिस्सा बन गया था। आपको बता दें कि बुधवार (29 अगस्त) को अनंतनाग में सुरक्षाबलों के साथ हुई मुठभेड़ के दौरान काचरू को मार गिराया गया था। ऐसा बताया जाता है कि वह बुरहान वानी का काफी करीबी था। मुठभेड़ में उसके साथ सहयोगी उमर राशिद भी ढेर कर दिया गया था। काचरू बीते कई सालों से कुलगाम में जिला कमांडर के तौर पर सक्रिय था। यही वजह थी कि वह सुरक्षाबलों के रडार पर था।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, मन्नान एएमयू स्थित हबीब हॉल में रहता था। वह कुछ दिनों पहले वहां से गायब हो गया था। विवि ने उसके बाद उसे निष्कासित कर दिया था। आगे पुलिस ने उसके कमरे में जाकर खोजबीन की थी। जहां उसका वीडियो वायरल होने की चर्चा को लेकर बाजार गर्म है, वहीं साथी छात्रों ने इस मामले पर किसी प्रकार की जानकारी न होने की बात कही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App