ताज़ा खबर
 

डॉक्‍टर के भाई को अल कायदा ने नियुक्त किया कश्‍मीर चीफ, 2013 में आतंकी बना था जाकिर रशीद भट

जाकिर रशीद भट इससे पहले एक वीडियो में नजर आया था जिसमें उसने भारतीय मुसलमानों को "कायर" बताया था।

Author Updated: July 28, 2017 1:47 PM
जाकिर रशीद भट्ट पहले हिज्बुल मुजाहिद्दीन में था। (फाइल फोटो)

आंतकवादी संगठन अल-कायदा ने हिज्बुल मुजाहिद्दीन के पूर्व कमांडर जाकिर रशीद भट को अपनी कश्मीरी इकाई “गजावत-उल-हिन्द का प्रमुख नियुक्त किया है। आंतकी संगठन के मीडिया विंग के प्रमुख ने गुरुवार (27 जुलाई) को ये जानकारी दी। हाल ही में जानकारी सामने आयी थी कि अल-कायदा ने कश्मीर के लिए अलग इकाई बनाई है। अल-कायदा ग्लोब इस्लामिक मीडिया फ्रंट ने कहा, “कश्मीर में जिहाद उत्थान के स्तर पर पहुंच गया है, कश्मीर की मुस्लिम अवाम ने भारतीय आक्रांताओं के खिलाफ जिहाद का इरादा कर लिया है।” भट्ट इससे पहले एक वीडियो में नजर आया था जिसमें उसने भारतीय मुसलमानों को “कायर” बताया था।अल-कायदा का उर्दू पत्रिका नवा-ए-अफगान जिहाद में जाकिर रशीद के बारे में एक लेख छपा था।

नए संगठन का नाम “गजवा-ए-हिन्द” कुछ इस्लामी रवायतों के यकीन के अनुसार रखा गया है जिनके अनुसार “आखिरी फैसले” के पहले पश्चिम में उभरने वाली सेना भारत में इस्लामी राज कायम करेगी।  अभी तक ये साफ नहीं है कि अंसार गजावत-उल-हिन्द अल-कायदा के भारतीय इकाई के तहत काम करेगा या सीधे अल-कायदा चीफ अयमान अल-जवाहिरी के सीधे निर्देश लेगा। अल-कायदा की भारतीय इकाई का प्रमुख उत्तर प्रदेश में पैदा हुआ सना-उल-हक है।  जवाहिरी लम्बे समय से कश्मीरी आतंकवादियों को बाकी भारतीय जिहादियों से जोड़ने की कोशिश कर रहा है।

दक्षिणी कश्मीर के एक पुलिस अधिकारी ने बताया, “भट ने अपने करीब आधा दर्जन साथियों के साथ हिज्बुल से अलग होकर अपना अलग गुट बना लिया था। उनके पास हथियार वगैरह हैं लेकिन आप उन्हें चलती-फिरती लाश मान सकते हैं। वो ज्यादा दिनों तक नहीं बचेंगे।” दिल्ली स्थिति खुफिया अधिकारी भी पुलिस अधिकारी जैसी ही राय रखते हैं। एक खुफिया अधिकारी ने कहा, “अल-कायदा का भारत में कोई मजबूत आधार नहीं है, न ही उसके पास लश्कर-ए-तैयबा की तरह नियंत्रण रेखा (एलओसी) के पार से कश्मीर में घुसपैठ का कोई जरिया है।” खुफिया अधिकारी मानते हैं कि अल-कायदा इंटरनेट के माध्यम से कश्मीरी नौजवानों को आतंकवादी तंजीम से जोड़ना चाहता है।

कुछ मीडिया रिपोर्ट में भट को काफी पढ़ा-लिखा बताया गया है लेकिन सच ये है कि वो चंडीगढ़ के राम देव जिंदल कॉलेज में पहले ही सत्र की परीक्षा में फेल हो गया था जिसके बाद उसे कॉलेज से निकाल दिया गया। 1994 में जन्मे भट के परिजनों ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि वो 2013 में आतंकवादी संगठन से जुड़ गया था। हालांकि उसका बड़ा भाई डॉक्टर है और श्रीनगर में प्रैक्टिस करता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
जस्‍ट नाउ
X