ताज़ा खबर
 

ऐड शेयर कर ट्रोल हुए अक्षय कुमार, लोग बोले- किसान प्रदर्शन पर चुप्पी क्यों

एक यूजर ने अभिनेता अक्षय कुमार पर तंज कसते हुए कहा कि वे पैसा इंडिया में कमाते हैं और राष्ट्रीयता कनाडा का रखते हैं।

अभिनेता अक्षय कुमार।

बॉलीवुड के स्टार एक्टर अक्षय कुमार कभी राजनीतिज्ञों से अपने संबंधों के लिए तो कभी अपने बयानों को लेकर अक्सर चर्चा में रहते हैं। देश की राजधानी दिल्ली में इस समय किसानों का बड़ा आंदोलन चल रहा है और देशभर में किसानों को लेकर समर्थन की आवाजें उठ रही हैं, ऐसे समय में अक्षय कुमार ने एक विज्ञापन शेयर कर लोगों के निशाने पर आ गए हैं।

उन्होंने ‘पगार बुक’ कर विज्ञापन कर उसमें सेलरी, एटेंडेंस और एडवांस पेमेंट जैसे जरूरी काम डिजिटल तरीके से करने की सुविधा को बढ़ावा दिया है। और कहा कि “अब इंडिया का हर बिजनेसमैन होगा डिजिटल।” किसानों के आंदोलन के दौरान उनके इस विज्ञापन पर लोगों ने उनकी खिंचाई कर दी। कई लोगों ने उनसे पूछा कि किसानों के प्रदर्शन पर वे चुप्पी क्यों साधे हैं? उस पर वे क्यों नहीं बोलते हैं?

गुरप्रीत सिंह कंग@Gurpree68902832 नाम के एक यूजर ने कहा कि “सर फार्मर प्रोटेस्ट पर चुप क्यों हैं।” वहीं मिशा राजपूत@Misha_akkistani ने उनकी तारीफ की और ट्वीट किया, “अक्षय कुमार ने सन् 2008-09 के दौरान “खतरो के खिलाडी” के एक प्रतिभागी को फाइनल में हारते हुए भी अपनी कमाई के 25 लाख रुपए दे दिए ये जानते हुए कि वो अपने पिता के केंसर के इलाज के लिए वो स्पर्धा जितना चाहती थी। नमन है इस देश के बेटे को”

नियाज अहमद@Ahemad62099826 नाम के एक यूजर ने कहा कि अक्षय कुमार पैसा इंडिया में कमाते हैं और राष्ट्रीयता कनाडा का रखते हैं। मिशा राजपूत@Misha_akkistani ने इसका जवाब दिया कि “अक्षय कुमार हमेशा किसानों की मदद की है। इसे दिखाने की जरूरत नहीं है।”

इसके अलावा कई और यूजरों ने अक्षय कुमार को लेकर ट्वीट किया है। कई लोगों ने उनके मुंबई में यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ से मिलने पर भी सवाल उठाए हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 वीडियो: बातचीत के लिए विज्ञान भवन पहुंचे किसानों ने लंच में नहीं खाया ‘सरकार का खाना’, जो साथ लाए उसी से पेट भरा
2 मास्क नहीं लगाने पर सामुदायिक सेवा करने के आदेश पर शीर्ष अदालत ने लगाई रोक, गुजरात हाईकोर्ट ने दिया था आदेश
3 ‘जो केंद्र के कृषि कानून का समर्थन कर रहे, वे खुद मिलावटी शहद बेच रहे’, CSE की रिपोर्ट पर लोगों का रामदेव और बड़े ब्रांड्स पर निशाना
ये पढ़ा क्या?
X