scorecardresearch

मोदी जी की रैली में कोई नहीं आ रहा, कांग्रेस नेता अखिलेश सिंह बोले- गुजरात से लेकर कर्नाटक तक BJP में कितना अनुशासन, सब पता है

कांग्रेस नेता अखिलेश सिंह ने कहा कि राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा में शामिल होने के लिए लोग खुद घरों से निकल कर आ रहे हैं, जो साफ दिख रहा है। वहीं, मोदी जी घूम रहे हैं, उनकी रैली में कोई बुलाने पर भी नहीं आ रहा है।

मोदी जी की रैली में कोई नहीं आ रहा, कांग्रेस नेता अखिलेश सिंह बोले- गुजरात से लेकर कर्नाटक तक BJP में कितना अनुशासन, सब पता है
पीएम नरेंद्र मोदी (फोटो सोर्स – पीटीआई)

कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए नामांकन हो चुका है, लेकिन राजस्थान में अशोक गहलोत की मुख्यमंत्री की कुर्सी से संकट अभी भी टला नहीं है। इस बीच बीजेपी भी कांग्रेस में चल रहे बवाल को लेकर टिप्पणी कर रही है। इस पर हो रही एक टीवी डिबेट में कांग्रेस और बीजेपी नेताओं के बीच खूब बहस हुई। कांग्रेस प्रवक्ता अखिलेश प्रताप सिंह ने कहा कि गुजरात से लेकर कर्नाटक तक बीजेपी में कितना अनुशासन है सब पता है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि पीएम मोदी की रैली में कोई नहीं आ रहा।

अखिलेश सिंह ने कहा, “पिछले कुछ दिनों से राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा को लेकर कुछ लोग काफी परेशान हैं। कांग्रेस की रैली में शामिल होने के लिए लोग खुद घरों से निकल कर आ रहे हैं, जो साफ दिख रहा है। वहीं, मोदी जी घूम रहे हैं, उनकी रैली में कोई बुलाने पर भी नहीं आ रहा है। चाहे हिमाचल की जनसभा हो या गुजरात की जनसभा हो या चाहे उनका रोड शो हो।”

उन्होंने बीजेपी में अनुशासन को लेकर भी सवाल उठाए और कहा कि गुजरात से लेकर कर्नाटक तक बीजेपी में कितना अनुशासन है सब पता है। अखिलेश सिंह ने कहा कि यूपी में एक सीएम और दो डिप्टी सीएम हैं, रोजाना बयान आते रहते हैं। एक-दूसरे के खिलाफ चिट्ठियां भी लिखी हैं और एक-दूसरे के खिलाफ जांच के भी आदेश हुए हैं। बताने की जरूरत नहीं है।

कांग्रेस नेता ने आगे कहा कि उत्तराखंड, गुजरात में कैसे मुख्यमंत्री बदले गए। इसके अलावा, मध्य प्रदेश और कर्नाटक में कितना अच्छा अनुशासन है मैं बता सकता हूं।

बता दें कि कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव में अशोक गहलोत का नाम सामने आने के बाद राजस्थान की सियासत गरमा गई थी। राहुल गांधी ने संकेत दिए थे कि अगर गहलोत अध्यक्ष बनते हैं तो उन्हें सीएम पद छोड़ना पड़ेगा। इसके बाद उनके समर्थक विधायकों ने संयुक्त रूप से इस्तीफा देने की धमकी देते हुए कहा था कि सचिन पायलट या उनके खेमे से किसी को सीएम ना बनाया जाए। हालांकि, गहलोत ने सोनिया गांधी से मुलाकात करके इस पूरे घटनाक्रम को लेकर माफी मांगी है और साफ कर दिया कि वह अध्यक्ष पद का चुनाव नहीं लड़ेंगे, लेकिन उनकी कुर्सी पर अभी भी संकट है आलाकमान ने 30 सितंबर के बाद सीएम को लेकर फैसला करने का संकेत दिया था।

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 01-10-2022 at 09:46:31 pm
अपडेट