ताज़ा खबर
 

सपा की कलह पर बोले रामगोपाल यादव, अखिलेश से बिना पूछे हटाकर शिवपाल को प्रदेश अध्यक्ष बनाना गलत

रामगोपाल यादव ने साफ किया किया कि गतिरोध दूर करने के लिए मुलायम सिंह यादव जल्द ही अखिलेश यादव से मुलाकात करेंगे। उन्होंने कहा कि अखिलेश और मुलायम सिंह की मुलाकात से ही बात बनेगी।
समाजवादी पार्टी पूर्व महासचिव रामगोपाल यादव (फाइल फोटो)

समाजवादी पार्टी के महासचिव रामगोपाल यादव ने कहा है कि कुछ ऐसे लोग हैं जो पार्टी को नुकसान पहुंचा रहे हैं। उन्होंने कहा कि ऐसे लोगों का पार्टी से कोई लगाव नहीं है। अमर सिंह का बिना नाम लिए उन्होंने कहा कि जो समाजवादी नहीं वो मुलायमवादी भी नहीं हो सकते। रामगोपाल यादव लखनऊ में मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से मुलाकात करने के बाद मीडिया से बात कर रहे थे। अखिलेश और रामगोपाल यादव के बीच करीब एक घंटे तक बातचीत हुई। उन्होंने कहा कि अखिलेश यादव को बिना पूछे प्रदेश अध्यक्ष पद से नहीं हटाया जाना चाहिए था।  रामगोपाल यादव ने साफ किया कि गतिरोध दूर करने के लिए मुलायम सिंह यादव जल्द ही अखिलेश यादव से मुलाकात करेंगे। उन्होंने कहा कि अखिलेश और मुलायम सिंह की मुलाकात से ही बात बनेगी। गौरतलब है कि मुलायम सिंह यादव ने भाई रामगोपाल यादव को अखिलेश से बात करने के लिए लखनऊ भेजा था।

रामगोपाल यादव ने कहा कि कुछ लोग नेताजी के सीधेपन का फायदा उठा रहे हैं। उन्होंने कहा कि एक व्यक्ति पार्टी का नुकसान करने में लगा है। पार्टी महासचिव ने कहा, पार्टियां नीतियां  तय करती है जिस पर सरकार अमल करती है। जब उनसे पत्रकारों ने पूछा कि राहुल गांधी कह रहे हैं कि आपकी साइकिल पंक्चर हो गई है तो रामगोपाल ने राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए कहा कि जिनकी खटिया लुट गई हो वो क्या बोलेंगे। इससे पहले कल दिल्ली में शिवपाल यादव ने बेटे आदित्य के साथ मुलायम सिंह यादव के साथ मुलाकात की थी।

सपा की मंगलवार को हुई बैठक में मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से समाजवादी पार्टी के उत्तर प्रदेश इकाई के प्रमुख का पद वापस ले लिया गया था। यह फैसला किसी और का नहीं बल्कि पार्टी सुप्रीमो और उनके पिता मुलायम सिंह यादव का ही था। जवाब में मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने अपने चाचा और पार्टी के कद्दावर नेता शिवपाल सिंह यादव से सभी अहम मंत्रालयों का प्रभार वापस ले लिया था और उन्हें समाज कल्याण मंत्रालय की जिम्मेदारी सौंप दी थी। इसके बाद खबर आई कि शिवपाल अखिलेश से नाराज हैं और सरकार से इस्तीफा दे सकते हैं लेकिन अगले ही दिन मुलायम और शिवपाल के बीच बातचीत हुई।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. S.s. Rawat
    Sep 15, 2016 at 10:01 am
    अब भारत में मीडिया के मदारियों ने अपनी खोजी पत्रकारिता को लालू के गुंडे शबाहुदीन और उ प्र के राजनैतिक अपराधी कुनबे तक समेट लिया है, बेहद है ये मुल्क यहाँ शिवपाल, लालू और मुलायम जैसे लोगो को इतनी तवज्जो दी जाती है |आज इस मुल्क में हर राजनैतिक अपराधी दल एक दूसरे पर ा उड़ेलने से बाज नहीं आ रहा | ये लोग इस मुल्क की संसद और विधान सभाओं में घुसने के लिए शमसान में धधकती चिता में हाथ डालने को भी तैयार बैठे हैं, अगर यहाँ की राजनैतिक पार्टियों से गुंडों की छटनी शुरू की जाय तो यकीन मानिये ये त
    (0)(0)
    Reply
    1. R
      Rohit
      Sep 15, 2016 at 12:57 pm
      आप अपनी राजनति पार्टी बन लो सब गुंडे है तो
      (0)(0)
      Reply
    2. S
      sanjay
      Sep 15, 2016 at 9:22 am
      यह समाजवादी पार्टी का सोचा समझा ड्रामा है,लोगो का ध्यान भरस्टाचार अराजगता कानून व्यवस्था आदि से भटकाने का है ! पुरे पांच साल तक सरकार ने केवल भरस्टाचार किया है वोटबैंक को बढ़ावा दिया है इस पर किसी की नजर नहीं पड़े इसके लिए यह इनकी चाल है ! ये सभी लोग एक है इनमे कोई भी विवाद नहीं है ! यूपी और बिहार की जनता को अब जागना होगा समझना होगा की स्थानीय नेता / क्षेत्रीय पार्टिया अपने निजी स्वार्थ की खातिर जाती धर्म की आड़ में जनता को बहला फुसला कर राज्य को विकास से दूर रखने का कार्य कर रही है !
      (0)(0)
      Reply