ताज़ा खबर
 

उद्धव के शपथ से एक दिन पहले और फडणवीस के इस्तीफे के एक दिन बाद अजित पवार को ऐसे मिली क्लीन चिट, कोर्ट में सौंपा गया 16 पन्नों का एफिडेविट

पवार एक दशक पहले हुए करोड़ों रुपये के सिंचाई घोटाले का सामना कर रहे थे। इस मामले में सौंपे हलफनामे में जांच एजेंसी ने कहा है कि इस घोटाले के लिए उन्हें जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता है।

Author नई दिल्ली | Updated: December 6, 2019 8:07 AM
पूर्व जल संसाधन मंत्री अजित पवार ऐसे मिली क्लीन चिट।

महाराष्ट्र में शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस सरकार के शपथ ग्रहण (28 नवंबर) से ठीक एक दिन पहले महाराष्ट्र भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) ने बॉम्बे हाईकोर्ट की नागपुर खंडपीठ के समक्ष एक हलफनामा पेश किया, जिसमें राज्य के पूर्व जल संसाधन मंत्री अजित पवार का पक्ष लिया गया है। पवार एक दशक पहले हुए करोड़ों रुपये के सिंचाई घोटाले का सामना कर रहे थे। इस मामले में सौंपे हलफनामे में जांच एजेंसी ने कहा है कि इस घोटाले के लिए उन्हें जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता है।

भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो के एसपी रश्मि नांदेकर ने 27 नवंबर को 16 पन्नों के हलफनामे में नागपुर खंडपीठ को बताया है, “VIDC के चेयरमैन/ जल संसाधन मंत्री को कार्यदायी एजेंसियों के कृत्यों के लिए इस मामले में जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता है, क्योंकि उनकी ओर से कोई कानूनी कर्तव्य नहीं किए गए हैं।”

नांदेकर ने हलफनामे में अजित पवार के कार्यकाल को विदर्भ सिंचाई विकास निगम (VIDC) के चेयरमैन और जल संसाधन विकास मंत्री के तौर पर उद्धृत किया है। पवार उस वक्त राज्य की कांग्रेस-एनसीपी सरकार में मंत्री थे।

यह कालखंड इसलिए अहम है क्योंकि देवेन्द्र फडणवीस और अजित पवार के सीएम और डिप्टी सीएम पद से इस्तीफा देने से छीक एक दिन पहले 25 नवंबर को एसीबी ने कथित सिंचाई घोटाले में शुरू की गई नौ “खुली पूछताछ” को बंद कर दिया था। इसके अगले ही दिन एसीबी ने हाईकोर्ट में शपथ पत्र सौंपा। और इलके अगले दिन यानी 28 नवंबर को राज्य में उद्धव ठाकरे सरकार का शपथ ग्रहण हुआ।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 हैदराबाद गैंगरेप और मर्डर के चारों आरोपी एनकाउंटर में ढेर, पुलिस कमिश्नर ने की पुष्टि
2 दिल्ली अनाज मंडी अग्निकांड में 43 की मौत, केजरीवाल-मोदी सरकार ने किया मुआवजे का ऐलान; फैक्ट्री मालिक के खिलाफ FIR दर्ज
3 गडकरी का दावा, कंक्रीट के बनाए जा रहे राजमार्ग, सौ साल तक नहीं बनेंगे गड्ढे
ये पढ़ा क्‍या!
X