ताज़ा खबर
 

AIR Strike: भाजपा विधायकों ने विधानसभा में मोदी के समर्थन में लगाए नारे, मार्शलों ने बाहर निकाला

पाकिस्तान में आतंकवादी शिविरों पर भारतीय वायुसेना की कार्रवाई के बाद वायुसेना की सराहना करने की बजाए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के समर्थन में नारेबाजी करने वाले भारतीय जनता पार्टी के विधायकों को दिल्ली विधानसभा से बाहर कर दिया गया।

Author नई दिल्ली | February 26, 2019 5:28 PM
दिल्ली विधानसभा- (फाइल फोटो)

पाकिस्तान में आतंकवादी शिविरों पर भारतीय वायुसेना की कार्रवाई के बाद वायुसेना की सराहना करने की बजाए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के समर्थन में नारेबाजी करने वाले भारतीय जनता पार्टी के विधायकों को दिल्ली विधानसभा से बाहर कर दिया गया। दिल्ली विधानसभा अध्यक्ष राम निवास गोयल ने कहा कि भाजपा विधायकों को भारतीय वायुसेना की प्रसंशा करने की बजाए ‘‘मोदी जिंदाबाद’’ के नारेबाजी करने के कारण विधानसभा से बाहर कर दिया गया।
भाजपा नेताओं को जब मार्शलों ने बाहर निकाला तो उस समय वह ‘‘भारत माता की जय’’ और ‘‘वंदे मातरम’’ के नारे लगा रहे थे। विपक्षी दल ने गोयल की आलोचना की और कहा कि हमले के बारे में बोलने का वक्त नहीं दिया गया।

दिल्ली विधानसभा में विपक्ष के नेता विजेंदर गुप्ता ने दावा किया कि उन्होंने भारतीय वायुसेना को बधाई देने के लिए एक प्रस्ताव पारित करने की पेशकश की थी लेकिन ‘आम आदमी पार्टी’ ने इसका विरोध किया। गुप्ता ने ट्वीट कर कहा, ‘‘पूरा देश इस हवाई हमले पर गर्व कर रहा है लेकिन यह दुर्भाग्यपूर्ण है हमें उन्हें बधाई देने की अनुमति नहीं दी गयी बल्कि हमें मार्शल से बाहर निकलवा दिया गया।’’

पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद के ठिकानों पर भारतीय वायुसेना के हवाई हमलों की विभिन्न रक्षा विशेषज्ञों ने सराहना की और कहा कि इस्लामाबाद को कड़ा संदेश मिल गया है। वहीं, एक पूर्व वायुसेना प्रमुख ने कहा है कि भारत को सतर्क रहना चाहिए क्योंकि पाकिस्तान जल्द प्रतिक्रिया कर सकता है।

पूर्व रक्षामंत्री ए के एंटनी ने कहा कि ‘‘पाकिस्तान को समझना चाहिए कि वह भारत के सशस्त्र बलों की शक्ति का मुकाबला नहीं कर सकता।’’ विदेश सचिव विजय गोखले ने कहा कि भारत ने मंगलवार तड़के जैश ए मोहम्मद के आतंकी शिविर पर हवाई हमला किया जिसमें बड़ी संख्या में आतंकवादी और उनके प्रशिक्षक मारे गए। भारतीय वायुसेना के हवाई हमलों पर विभिन्न रक्षा विशेषज्ञों ने प्रतिक्रिया व्यक्त की है। पूर्व सैन्य सचिव लेफ्टिनेंट जनरल (अवकाशप्राप्त) सैयद अता हसनैन ने इस अभियान को ‘‘अच्छी तरह सोच-समझ कर दिया गया उचित जवाब’’ करार दिया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App