ताज़ा खबर
 

दिवाली पर दिल्ली में प्रदूषण ने तोड़ा 2 साल का रिकॉर्ड, आरके पुरम में हवा सबसे ज्यादा जहरीली

प्रदूषण की वजह से विजय चौक पर दृश्यता 200 मीटर से भी कम थी। यही आलम दिल्ली-नोएडा बॉर्डर पर भी था।
दिवाली पर दिल्ली में प्रदूषण का स्तर खतरनाक स्तर को पार कर गया था।

दिवाली के मौके पर दिल्ली में प्रदूषण की मात्रा ने पिछले 2 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। बीते 36 घंटों के दौरान दिल्ली की हवा में PM 10 की संख्या 4000 को भी पार कर गई। सोमवार की सुबह यानी दिवाली के बाद की सुबह दिल्ली में प्रदूषण का सबसे ज्यादा लोधी रोड के आसपास दिखा, जहां हवा में PM 2.5 की मात्रा 500 दर्ज की गई, जबकि इसका लेवल ज़ीरो से 50 के बीच सबसे सही माना जाता है। सुबह-सुबह कई इलाकों में भारी धुआं और कोहरा दिखा। प्रदूषण की वजह से विजय चौक पर दृश्यता 200 मीटर से भी कम थी। यही आलम दिल्ली-नोएडा बॉर्डर पर भी था। बीती रात यानी दिवाली की रात करीब 10 बजे दिल्ली के आर के पुरम इलाके में प्रदूषण चरम पर था। वहां हवा में PM 2.5 की मात्रा 999 दर्ज की गई। यह खतरनाक स्तर से भी बहुत ज्यादा है।

देश के दूसरे हिस्सों में भी पटाखों का असर देखा गया है और दिल्ली से अलग दूसरे शहरों में भी प्रदूषण का स्तर बढ़ा है। ठंड की दस्तक और गाड़ियों, फैक्टरियों के धुएं की वजह से भी प्रदूषण में बढ़ोतरी हुई है। प्रदूषण का आलम यह है कि देश की 10 सबसे प्रदूषित जगहों में से 8 दिल्ली-एनसीआर की हैं।

image2
प्रदूषण की मॉनटिरंग करने वाली केन्द्र सरकार की एजेंसी सिस्टम ऑफ एयर क्वॉलिटी ऐंड वेदर फोरकास्टिंग एंड रिसर्च यानी SAFAR ने पहले ही आगाह किया था कि दिल्ली में इस बार दिवाली में हवा पिछले दो साल से भी ज्यादा खराब हो सकती है। दिल्ली की गिनती वैसी भी दुनिया के सबसे प्रदूषित शहरों में होती है। दिल्ली हाईकोर्ट भी राजधानी को गैस का चैंबर तक कह चुका है। दीवाली के मौके पर मुंबई और चेन्नई जैसे शहरों की आबोहवा भी जहर में तब्दील हो गई।

Read Also- इंदिरा गांधी की पुण्यतिथि पर राहुल गांधी की अगुवाई में कांग्रेस नेताओं ने निकाला यूनिटी मार्च

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.