उत्तर प्रदेश पर AIMIM की नज़र, ओवैसी ने किया 100 सीटों पर चुनाव लड़ने का ऐलान

उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव में ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-उल-मुसलमीन (एआईएमआईएम) 100 सीटों पर चुनाव लड़ेगी।

owaisi, corona virus
असदुद्दीन ओवैसी ने बीजेपी सरकार को घेरा है। फोटो- इंडियन एक्सप्रेस।

उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव में ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-उल-मुसलमीन (एआईएमआईएम) 100 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। पार्टी के नेता अकबरुद्दीन ओवैसी ने ट्विटर पर घोषणा करते हुए कहा, “उत्तर प्रदेश, हम आ रहे हैं”। रिपोर्टों के अनुसार, AIMIM द्वारा राज्य के पश्चिमी, मध्य और पूर्वी क्षेत्र में मुस्लिम बहुल क्षेत्रों में उम्मीदवारों को मैदान में उतारने की संभावना है। राज्य पार्टी अध्यक्ष शौकत अली ने एक बयान में कहा, “हमारा एक ही एजेंडा है, जो मुसलमानों का विकास है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि हम दूसरों के विरोधी हैं। हमने उम्मीदवारों की स्क्रीनिंग शुरू कर दी है, और हम अच्छे उम्मीदवार चाहते हैं, जरूरी नहीं कि केवल मुसलमान ही हों। ”

बिहार में सफलता के बाद AIMIM की नजर उत्तर प्रदेश पर: AIMIM ने 2017 के यूपी विधानसभा चुनाव में भी चुनाव लड़ा था, लेकिन उसे केवल 0.2 प्रतिशत वोट मिले थे। यूपी में हाल ही में संपन्न पंचायत चुनाव में उसका प्रदर्शन अच्छा था, और पार्टी द्वारा समर्थित 24 उम्मीदवारों ने जीत हासिल की। हालांकि, पिछले साल नवंबर में हुए बिहार चुनावों में एआईएमआईएम की शानदार शुरुआत ने उसके आत्मविश्वास को बढ़ाया है। बिहार विधानसभा चुनाव में पार्टी का प्रदर्शन शानदार रहा और उसने मुस्लिम बहुल सीमांचल क्षेत्र में पांच सीटें – अमौर, कोचाधामन, जोकीहाट, बैसी और बहादुरगंज में जीत हासिल की।

बसपा से गठबंधन करने अगले महीने लखनऊ आ रहे हैं ओवैसी: बिहार में, एआईएमआईएम ने चुनाव में 20 उम्मीदवार खड़े किए थे और उपेंद्र कुशवाहा की राष्ट्रीय लोक समता पार्टी और मायावती की बहुजन समाज पार्टी के साथ ग्रैंड डेमोक्रेटिक सेक्युलर फ्रंट में शामिल हो गए थे।

बिहार के प्रदर्शन से उत्साहित ओवैसी पिछले साल दिसंबर में लखनऊ पहुंचे और भाजपा के पूर्व सहयोगी सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के प्रमुख ओम प्रकाश राजभर से मुलाकात की। बैठक के बाद, उन्होंने घोषणा की कि एआईएमआईएम राजभर के नेतृत्व में यूपी में छोटे दलों के गठबंधन, भागीदारी संकल्प मोर्चा में शामिल होगी।

बसपा के साथ उनकी पार्टी के गठबंधन की अटकलें तेज हैं। जानकारी है कि मायावती और असदुद्दीन ओवैसी लगातार संपर्क में हैं। AIMIM के बसपा के साथ गठबंधन को औपचारिक रूप देने के लिए अगले महीने ओवैसी के लखनऊ आने की संभावना है।