scorecardresearch

ज्ञानवापी केसः थी, है और इंशाअल्ला कयामत तक मस्जिद रहेगी- बोले ओवेसी के नेता, एंकर ने टोका- इंतजार क्यों नहीं करते, आपने जाकर देखा है?

भाजपा प्रवक्ता गौरव भाटिया ने तंज करते हुए कहा कि “ये कोर्ट को प्रोसिजर आज बता रहे हैं। इसी बात से तो डर लगता है कि पूरी जिंदगी एक भी मुकदमा नहीं लड़ा कोर्ट के अंदर और बाहर आकर पूरा कानून बताने लगते हैं।”

Gyanvapi Mosque, Supreme Court, TV debate
ज्ञानवापी मस्जिद को लेकर सभी की नजर अब सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर है। (फोटो- पीटीआई)

वाराणसी काशी विश्वनाथ मंदिर परिसर में ज्ञानवापी मस्जिद को लेकर चल रहे विवाद और उसमें कोर्ट की सुनवाई पर टीवी चैनलों में लगातार बहस चल रही है। हिंदू पक्ष ने जहां सर्वे में शिवलिंग मिलने की बात कही है, वहीं मुस्लिम पक्ष शिवलिंग को फव्वारा साबित करने पर लगा हुआ है। टीवी चैनल आजतक पर डिबेट में एआईएमआईएम के प्रवक्ता वारिस पठान ने कहा कि “ज्ञानवापी मस्जिद थी, है और इंशा अल्लाह कयामत तक रहेगी।”

एंकर अंजना ओमकश्यप के इस सवाल पर कि आप इंतजार क्यों नहीं करते हैं, आपने जाकर देखा है क्या? वारिस पठान बोले “आपने कहा कि बाबा मिले, बाबा मिले, यह झूठ कहा आपने हमारे देश के हिंदू भाइयों से। वह एक फव्वारा था वजूखाने के ऊपर। अब मेरे साथ गौरव भाटिया आएंगे तो मैं आपको प्लेन में लेकर आऊंगा मुंबई में और दिखाऊंगा कि कितनी सारी मस्जिदें हैं, जहां पर वजू खाने के अंदर बीच में फव्वारा है और वहां के पैरोकार और पक्षकार ने भी यही कहा है कि वहां पर फव्वारा है।”

वारिस पठान ने कहा कि “सिविल कोर्ट में जाकर नमाज पढ़ने से रोकने के लिए बिना मुस्लिम पक्ष को सुने एकतरफा आर्डर मांगने लगे। इनके पास न कोई फोटो थी और न ही कोई वीडियो था। कोर्ट ने मुस्लिम पक्ष को सुना नहीं और आर्डर पास कर दिया। अब सुप्रीम कोर्ट के अंदर मैटर पेंडिंग है अब 19 तारीख को देखते हैं कि क्या आर्डर होता है। बहरहाल वहां पर नमाज पढ़ने को अनुमति दी है।”

इससे पहले भाजपा के गौरव भाटिया ने कहा कि “बाबा क्या मिले इन लोगों के पेट में दर्द होने लगा। इन्हें यह भी नहीं पता है कि एक्स पार्टी आर्डर भी होता है।’ उन्होंने कहा कि “ये कोर्ट को प्रोसिजर आज बता रहे हैं। इसी बात से तो डर लगता है कि पूरी जिंदगी एक भी मुकदमा नहीं लड़ा कोर्ट के अंदर और बाहर आकर पूरा कानून बताने लगते हैं।”

वे बोले, “कोर्ट में कहा गया कि जो पूरा सूट है, उस पर रोक लगा दी जाए, कोर्ट ने मना कर दिया। दूसरा इन लोगों ने कहा कि जो आर्डर अभी है, जहां से शिवलिंग मिला है उस पर रोक लगा दी जाए, कोर्ट ने वह भी नहीं लगाया है। बल्कि कोर्ट ने यह कहा है कि जहां से शिवलिंग मिला है उस पूरे स्थान को सुरक्षित किया जाए।”

दूसरी तरफ एक दिन पहले गुजरात की रैली में असदुद्दीन ओवैसी बोले- याद रखो एक बात, हम हुकूमत को नहीं बदल सकते मगर हम अपने वोट से हमारे दलित भाइयों को, हमारे सेक्युलर रखने वाले हिंदू भाइयों को साथ लेकर अपनी पार्टी के नुमाइंदों को कामयाब करके गुजरात की विधानसभा बिगाड़ सकते हैं ताकि वो विधानसभा में खड़े होकर अवाम के इंसाफ की बात कर सकें, आवाज़ बनें, तालीम के मसाइल को उठा सकें।

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.