scorecardresearch

औरंगजेब इतना बेवकूफ था कि मंदिर तोड़ दिया और शिवलिंग छोड़ दिया?- AIMIM प्रवक्ता का तंज भरा सवाल, VHP नेता ने किया पलटवार

एआईएमआईएम के प्रवक्ता वारिस पठान ने बीजेपी पर ज्ञानवापी मुद्दे को लेकर सियासत करने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा, “कल को मैं भी कोर्ट में जाकर इजाजत मांगू कि पीएम के घर पर खुदाई हो क्योंकि मुझे लगता है, वहां मस्जिद है, तो इजाजत मिलेगी क्या?”

gyanvapi| varanasi| mosque|
ज्ञानवापी मस्जिद (Photo Credit- ANI)

वाराणसी की ज्ञानवापी मस्जिद में शिवलिंग के दावे के बीच एआईएमआईएम ने दावा किया है कि ये एक फव्वारा है। न्यूज 24 टीवी चैनल की एक डिबेट में एआईएमआईएम के प्रवक्ता वारिस पठान ने कहा कि मस्जिद के केयरटेकर मोहम्मद यासीन ने भी एक याचिका डाली है उसने भी कहा कि ये एक फव्वारा है।

उन्होंने इस पूरे मामले पर बीजेपी पर सियासत करने का आरोप लगाया है। उन्होंने सवाल करते हुए कहा कि किसी ने ट्वीट करते हुए कहा कि क्या औरंगजेब इतना बेवकूफ था कि उसने पूरे मंदिर को तोड़ दिया और शिवलिंग को छोड़ दिया ताकि भाजपा उस पर सियासत करती रहे।

इसके साथ ही, उन्होंने कहा, अब चक्रपाणी स्वामी महाराज कह रहे हैं कि दिल्ली की जामा मस्जिद भी खोदने की इजाजत दो क्योंकि हमें लगता है वहां भी मंदिर है और मूर्तियां हैं। तो मेरी भी आस्था है और मुझे लगता है कि प्रधानमंत्री जिस घर में रह रहे हैं उसके नीचे मस्जिद है। मैं भी चला जाऊंगा किसी कोर्ट में इजाजत मांगूंगा कि मुझे वहां खुदाई करने दिया जाए, तो करने देंगे क्या?”

वहीं, वीएचपी प्रवक्ता विजय शंकर तिवारी ने कहा कि ज्ञानवापी मस्जिद में मौजूद सारे साक्ष्य ये चीख-चीख कर कह रहे हैं कि वह बाबा विश्वनाथ का स्थान था। जब तक भगवान विश्वनाथ का ज्योतिर्लिंग नहीं मिला था, उससे पहले भी सारे साक्ष्य इसी दिशा में जा रहे थे।

उन्होंने कहा, “1936 में जब ब्रिटिश शासन था, उस वक्त तो बीजपी-कांग्रेस नहीं थी। उस वक्त भी ये मामला कोर्ट के पास गया था। तब भी कहा गया कि ये मस्जिद नहीं, विश्वनाथ मंदिर है। इसके बाद जब 1942 में हाई कोर्ट गया मामला, तब भी बाबा विश्वनाथ का स्थान बताया गया। इसके बाद, 1983 और 1997 में रामा स्वामी ने बताया कि कैसे कैसे बाबा विश्वनाथ का स्थान तोड़कर मस्जिद बनाई गई। तब भी बाबा विश्वनाथ का स्थान स्थापित किया गया।”

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट