AIMIM Chief Asaduddin Owaisi says- BJP and RSS wants India become free from Dalit and Muslims - असदुद्दीन ओवैसी बोले- बीजेपी-आरएसएस बनाना चाहते हैं 'दलित मुक्त', 'मुस्लिम मुक्त' भारत - Jansatta
ताज़ा खबर
 

असदुद्दीन ओवैसी बोले- बीजेपी-आरएसएस बनाना चाहते हैं ‘दलित मुक्त’, ‘मुस्लिम मुक्त’ भारत

तीन तलाक पर ओवैसी ने कहा कि इससे पहले भी देश में बहुत सारे कानून बने मगर क्या सामाजिक कुरीतियां खत्म हो सकीं? उन्होंने कहा कि बीजेपी की मोदी सरकार के नए कानून के मुताबिक तीन तलाक देने पर शादी तो खत्म नहीं होगी लेकिन शौहर को तीन साल के लिए जेल जाना पड़ेगा।

एआईएमआईएम के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी। (पीटीआई फाइल फोटो)

ऑल इंडिया मजलिस ए इतेहादुल मुसलिमीन के अध्यक्ष और हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने बीजेपी और आरएसएस पर हमला बोला है और कहा है कि ये दोनों संगठन ‘दलित मुक्त’, ‘मुस्लिम मुक्त’ भारत बनाने का सपना देख रहे हैं। ओवैसी ने तीन तलाक को अपराध की श्रेणी में लाने की आलोचना करते हुए कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी और बीजेपी की तीखी आलोचना की। ओवैसी ने मुस्लिमों से शरीयत कानून बचाने के लिए आगे आने की अपील की। मंगलवार (23 जनवरी) को महाराष्ट्र के औरंगाबाद में एक जनसभा को संबोधित करते हुए ओवैसी ने कहा कि बीजेपी चाहती है कि यह देश दलितों और मुसलमानों से मुक्त हो जाय मगर ऐसा नहीं हो सकता है। एआईएमआईएम सांसद ने दलितों और मुस्लिमों को जागरूक होने और हिन्दुत्व विचारधारा के खिलाफ लड़ाई छेड़ने का आह्वान किया।

तीन तलाक पर ओवैसी ने कहा कि इससे पहले भी देश में बहुत सारे कानून बने मगर क्या सामाजिक कुरीतियां खत्म हो सकीं? उन्होंने कहा कि बीजेपी की मोदी सरकार के नए कानून के मुताबिक तीन तलाक देने पर शादी तो खत्म नहीं होगी लेकिन शौहर को तीन साल के लिए जेल जाना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि इस कानून से समाज में कोई बदलाव नहीं होने जा रहा, सिवाय इसके कि मुसलमानों को जेल भेजा जाएगा और महिलाओं को सड़क पर छोड़ दिया जाएगा। ओवैसी ने कहा कि इस कानून से किसी को भी इंसाफ नहीं मिलने जा रहा है लेकिन शरीयत कानून पर हमला जरूर हो रहा है।

बता दें कि इससे पहले ओवैसी ने मुस्लिम समुदाय को ललकारते हुए अपनी संस्कृति को बचाने के लिए राजपूतों से सीख लेने की नसीहत दी थी। ओवैसी ने कहा कि जब 4 फीसदी राजपूत एकजुट होकर पद्मावत रिलीज के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन कर सकते हैं तो 14 फीसदी मुसलमान शरीयत कानून को बचाने के लिए क्यों नहीं एकजुट हो सकते हैं? इतना ही नहीं ओवैसी ने कहा कि राजपूतों ने मुसलमानों को आइना दिखा दिया है। उन्होंने कहा कि अभी भी उनका संघर्ष जारी है। वो फिल्म रिलीज नहीं होने देने के लिए संघर्ष कर रहे हैं लेकिन शरीयत को बचाने के लिए हमलोग क्या कर रहे हैं?

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App