ताज़ा खबर
 

अमित शाह से मिले NSA: ओवैसी ने पूछा- हमसे क्यों नहीं मिले? बताएं क्या बात हुई?

आज (19 जून) सुबह अजित डोभाल ने अमित शाह के आवास पर जाकर उनसे मुलाकात की थी। माना जा रहा है कि दोनों के बीच कश्मीर के हालात पर चर्चा हुई है।

asaduddin owaisiएआईएमआईएम के सांसद असदुद्दीन ओवैसी( Photo Source: Indian express/File)

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के आवास पर जाकर राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल के मिलने पर राजनीतिक विवाद छिड़ गया है। हैदराबाद सांसद और ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एमआईएमआईएम) अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार और बीजेपी अध्यक्ष की मुलाकात पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने पूछा है कि क्यों राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार ने सत्ताधारी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष से मुलाकात की है? उन्होंने मुलाकात के दौरान हुई बातचीत का विवरण सार्वजनिक करने की मांग की है। ओवैसी ने कहा कि देश जानना चाहता है कि क्या बातचीत हुई? उन्होने पूछा कि जब एनएसए सत्ताधारी पार्टी के अध्यक्ष से मिल सकते हैं तो अन्य पार्टियों के अध्यक्षों से क्यों नहीं मुलाकात कर जानकारी दे सकते हैं?

बता दें कि आज (19 जून) सुबह अजित डोभाल ने अमित शाह के आवास पर जाकर उनसे मुलाकात की थी। माना जा रहा है कि दोनों के बीच कश्मीर के हालात पर चर्चा हुई है। बीजेपी अध्यक्ष से मिलने के बाद डोभाल गृह मंत्री राजनाथ सिंह से भी मुलाकात की। इस दौरान गृह मंत्रालय के भी अधिकारी मौजूद थे। अमित शाह और अजित डोभाल के बीच क्या बातचीत हुई, इसका खुलासा नहीं हो सका है लेकिम माना जा रहा है कि केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार जम्मू-कश्मीर खासकर घाटी में बढ़ते आतंक पर कोई ठोस कदम उठा सकती है। संभवत: इसी मुद्दे पर और कश्मीर का हालात पर दोनों के बीच चर्चा हुई है।

बहरहाल ये बैठक अहम मानी जा रही है। बता दें कि इस बैठक के बाद बीजेपी ने जम्मू-कश्मीर की महबूबा सरकार से समर्थन वापस ले लिया। इसके बाद सरकार के अल्पमत में आ जाने की वजह से सीएम महबूबा मुफ्ती ने अपने पद से त्याग पत्र दे दिया। बीजेपी ने समर्थन वापसी का एलान करते हुए कहा कि राज्य में आतंकी घटनाओं में बढ़ोत्तरी हुई है, जबकि राज्य सरकार राज्य में कानून-व्यवस्था का पालन करने में नाकाम रही है। पीडीपी के दबाव पर भारत ने रमजान के महीने में एकतरफा सीजफायर किया था। इस दौरान पाकिस्तान की तरफ से आतंकी हमले जारी रहे, जिसमें हमारे कई जवान शहीद हो गए।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 राज्‍यसभा उपसभापति चुनाव: विपक्षी एकता की होगी कड़ी परीक्षा, पीजे. कुरियन 1 जुलाई को हो रहे रिटायर, चार दशकों से कांग्रेस के पास है यह पद
2 2018 में बीजेपी के हाथ से निकली तीन राज्यों की सत्ता, दो पर मंडरा रहा खतरा
3 मेरे पिता की तरह हैं नरेंद्र मोदी- लाल बहादुर शास्त्री के बेटे का बयान
Ind vs Aus 4th Test Live
X