ताज़ा खबर
 

कश्मीर में प्लास्टिक की गोलियों के इस्तेमाल पर भड़के ओवैसी, राज्यपाल ने आतंकियों से की हिंसा छोड़ने की अपील

जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने आतंकवादियों से हिंसा का रास्ता छोड़ने की सोमवार को अपील करते हुए उन्हें आश्वस्त किया कि उनका प्रशासन उनके पुनर्वास के लिए जो भी हो सकेगा किया जाएगा।

Author Updated: January 14, 2019 7:34 PM
AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी (फोटो सोर्स: पीटीआई)

जम्मू कश्मीर में प्लास्टिक बुलेट के इस्तेमाल की सरकारी योजना की खबरों पर एआईएमआईएम अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने सोमवार को केंद्र की राजग सरकार पर हमला बोला । मीडिया में आयी इस खबर पर टिप्पणी करते हुए ओवैसी ने ट्वीट किया, ‘‘यह इस सरकार की कश्मीर नीति है। घाटी में अलगाववाद के पीछे अंर्तिनहित कारणों की खोज करने की बजाय सरकार नए “गैर-घातक हथियार” (जो फिर भी घातक हैं) खोजने की कोशिश कर रही है।’’ हैदराबाद से लोकसभा सांसद उस सर्वदलीय शिष्टमंडल का हिस्सा रह चुके हैं जिसने कश्मीर का दौरा किया था।

वहीं, दूसरी ओर जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने आतंकवादियों से हिंसा का रास्ता छोड़ने की सोमवार को अपील करते हुए उन्हें आश्वस्त किया कि उनका प्रशासन उनके पुनर्वास के लिए जो भी हो सकेगा किया जा सकेगा। मलिक ने एक कार्यक्रम के इतर संवाददाताओं से बातचीत में कहा, ‘‘आपरेशन आल आउट जैसा यहां कुछ भी नहीं है। कुछ लोग इस गलत शब्द का इस्तेमाल कर रहे हैं। हम चाहते हैं कि ये बच्चे (आतंकवादी) वापस लौटें और हम जो कुछ भी उनके लिए कर सकते हैं, करने के लिए तैयार हैं ।’’ वह कुछ राजनेताओं द्वारा ‘‘आपरेशन ऑल आउट’’ रोकने और कश्मीर घाटी में हत्या की जांच की मांग करने के आलोक में पूछे गए सवाल का जवाब दे रहे थे ।

मलिक ने कहा, ‘‘जब कोई आतंकवादी कहीं भी गोली चलाता है और विस्फोटक फेंकता है…. तो ऐसा नहीं हो सकता है कि आप गोली चलायें और हम आपको फूल और गुलदस्ता भेजें। हमारी तरफ से ‘आपरेशन आल आउट’ नहीं चलाया जा रहा है। उन्हें (आतंकवादियों को) यह रास्ता छोड़ देना चाहिए क्योंकि इससे उन्हें कुछ नहीं मिलेगा। आपरेशन आल आउट की तरह कुछ भी नहीं है।’’  नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला के उस बयान के बारे में पूछे जाने पर, जिसमें उन्होंने कहा था कि प्रदेश में अगर उनकी पार्टी की सरकार बनती है तो वह राज्य में हुई हत्याओं के लिए वह अलग से एक आयोग का गठन करेंगे, राज्यपाल ने कहा कि वह रोज कुछ न कुछ बयानबाजी करते रहते हैं।

राज्यपाल ने कहा, ‘‘वह एक वरिष्ठ राजनेता हैं इसलिए उनके बारे में टिप्पणी करना अच्छा नहीं है।’’ मलिक ने कहा कि मुख्यधारा के राजनेताओं की राजनीतिक जरूरतें हैं और ‘‘हमारे देश में वोट के लिए लोग किसी हद तक जा सकते हैं ।’’ कुछ राजनेताओं के हालिया बयान के बारे में पूछे जाने पर मलिक ने कहा, ‘‘वे सब राजनेता हैं और उनकी राजनीतिक जरूरतें हैं। लोग वोट के लिए इस देश में बहुत दूर जा सकते हैं। मैं सबकी जरूरतों का समझता हूं और उनका सम्मान करता हूं।’’

राज्य में विधानसभा चुनावों के बारे में पूछे जाने पर राज्यपाल ने कहा कि उनका प्रशासन इसके लिए तैयार है। राज्यपाल ने कहा, ‘‘हम चुनावों के लिए तैयार हैं और जब निर्वाचन आयोग इसका निर्णय करेगा हम चुनाव करायेंगे।’’ इस बीच मलिक ने स्थानीय रांिजदर पार्क में बने संगीतमय फव्वारा और जिम का उद्घाटन किया। इसका निर्माण जम्मू कश्मीर बैंक ने करवाया है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 किसानों को 4 हजार रुपये प्रति एकड़ कैश ट्रांसफर करेगी सरकार! जानिए कहां से आएगा पैसा
2 क्‍या 2019 में योगी आदित्यनाथ बनेंगे प्रधानमंत्री? यूपी सीएम ने दिया यह जवाब
3 INDIAN RAILWAYS: चलती ट्रेन पर चढ़ने से न हो हादसा, किया गया यह उपाय