ताज़ा खबर
 

‘हैदराबाद में सॉफ्टवेयर कंपनियों में कितने जिहादी काम करते हैं’, साइबराबाद पुलिस के ट्वीट पर भड़के ओवैसी ने उठाया सवाल

अमेरिकी संपत्तियों पर ईरान के हमले की धमकी का हवाला देते हुए इस व्यक्ति ने सवाल किया है कि क्या हैदराबाद, साइबराबाद और रचाकोंडा पुलिस ने ऐसे लोगों की पृष्ठभूमि की कोई जांच की है या उनके पास कोई सुराग नहीं है।

Author नई दिल्ली | Updated: January 8, 2020 9:39 PM
owaisi,cyberabad,hyderabad,usओवैसी ने हैदराबाद पुलिस के एक ट्वीट को लेकर जवाब दिया है। (फाइल फोटो)

एआईएमआईएम के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने यहां अमेरिकी सॉफ्टवेयर कंपनियों में कथित ‘जिहादियों’ की पृष्ठभूमि की जांच को लेकर कार्रवाई के सवाल वाले ट्वीट पर साइबराबाद पुलिस के जवाब पर बुधवार को आपत्ति जताई। हैदराबाद के सांसद ओवैसी ने पुलिस से उस ट्वीट पर दिये गये जवाब पर सफाई मांगी जिसमें एक व्यक्ति ने दावा किया था कि हैदराबाद में अमेरिकी सॉफ्टवेयर कंपनियों में कई ऐसे युवा काम कर रहे हैं जो ‘जिहादी बनना चाहते हैं’।

अमेरिकी संपत्तियों पर ईरान के हमले की धमकी का हवाला देते हुए इस व्यक्ति ने सवाल किया है कि क्या हैदराबाद, साइबराबाद और रचाकोंडा पुलिस ने ऐसे लोगों की पृष्ठभूमि की कोई जांच की है या उनके पास कोई सुराग नहीं है। इस ट्वीट के जवाब में साइबराबाद पुलिस ने कहा, ‘‘जी हां, सर। हमारे पास अग्रिम खुफिया जानकारी जुटाने के लिए विशेष इकाइयां हैं और हमारे दल 24 घंटे काम करते हैं।’’ पुलिस ने लिखा कि हमें सतर्क करने के लिए शुक्रिया। अगर आपको कुछ संदिग्ध पता चलता है तो हमें बताते रहिए।

इस जवाब पर आपत्ति जताते हुए ओवैसी ने साइबराबाद के पुलिस आयुक्त वी सी सज्जनार से इस बारे में जानकारी देने को कहा कि सॉफ्टवेयर कंपनियों में ऐसे कितने ‘जिहादी’ काम कर रहे हैं या वह स्पष्ट करें कि उनका क्या आशय था। ओवैसी ने ट्वीट किया, ‘‘सर आपने ‘जी हां, सर’ कहकर जवाब दिया था। कृपया ज्ञानवर्द्धन कीजिए कि सॉफ्टवेयर कंपनियों में कितने ‘जिहादी’ काम कर रहे हैं। कृपया संख्या बताइए। अगर नहीं है तो साफ कीजिए कि आपका वास्तव में क्या आशय था।’’

उन्होंने कहा कि ‘‘क्या आप एक सांसद को जवाब देंगे या केवल भक्त को ही जवाब देंगे।’’ ओवैसी ने कहा कि आतंकवाद का कोई धर्म नहीं होता। उन्होंने महात्म गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे का नाम भी लिया।इस पर साइबराबाद पुलिस ने ट्वीट किया कि उनके जवाब का गलत मतलब निकाला गया है।

उसने कहा, ‘‘आशय केवल यह कहने का था कि हम हमेशा सतर्क रहते हैं और सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए पूरी तरह संसाधन संपन्न हैं। इसका यह मतलब नहीं है कि हम ट्वीट में कही गयी बात से सहमत हो गये।’’ साइबराबाद पुलिस ने कहा, ‘‘हम दोहराते हैं कि हम किसी व्यक्ति या समुदाय के प्रति पूर्वाग्रह रखे बिना समाज में शांति और व्यवस्था बनाये रखने के लिए प्रतिबद्ध हैं।’’

Next Stories
1 अडाणी ग्रुप को सुप्रीम कोर्ट से झटका, कोयला आयात मामले में रेवेन्यू निदेशालय की जांच का रास्ता साफ, बॉम्बे हाईकोर्ट के फैसले पर लगाई रोक
2 हर 15 मिनट बाद रवाना होगी प्राइवेट ट्रेन, 160 किलोमीटर होगी अधिकतम स्पीड, सरकार ने प्राइवेट ऑपरेटर्स के लिए जारी किया योजना का मसौदा, जानें और खास बातें
3 RSS के गढ़ नागपुर में BJP को झटका! जिला परिषद चुनाव में कांग्रेस ने दी शिकस्त; गडकरी के गांव में भी हारी पार्टी
ये पढ़ा क्या?
X