ताज़ा खबर
 

अगले दो-तीन महीनों में और बढ़ सकता है कोरोना संक्रमण, AIIMS निदेशक ने चेताया

डॉक्टर रणदीप गुलेरिया ने अन्य राज्यों के मरीजों को दिल्ली आने से रोकने के लिए दिल्ली सरकार के बॉर्डर सील करने के फैसले की भी आलोचना की। एम्स निदेशक ने कहा कि यह अनैतिक है और ऐसे किसी मरीज को नहीं रोका जाना चाहिए।

COVID 19, stress, cortisolदेश में कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। (PTI Photo)

एम्स निदेशक रणदीप गुलेरिया ने चेताया है कि देश में कोरोना संक्रमण अभी और बढ़ेगा और आने वाले दो तीन महीनों में यह चरम पर पहुंच सकता है। डॉ. गुलेरिया ने ये भी कहा कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई में सिर्फ टेस्टिंग करने से काम नहीं चलेगा। लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग का गंभीरता से पालन करना होगा। भारत अब स्पेन को पछाड़कर कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित देशों की लिस्ट में पांचवे नंबर पर पहुंच गया है।

देश में बीते 24 घंटे में देश में कोरोना के 9971 नए मामले सामने आए हैं, जो कि एक दिन में सबसे ज्यादा नए मरीजों का आंकड़ा है। इस दौरान 287 लोगों की मौत भी हुई है। इसके साथ ही देश में कोरोना मरीजों का कुल आंकड़ा बढ़कर 2,46,628 हो गया है। इनमें से 120406 एक्टिव केस हैं और 119293 मरीज डिस्चार्ज हो चुके हैं। देश में अब तक कोरोना संक्रमण से कुल 6929 लोगों की मौत हुई है।

एम्स के निदेशक रणदीप गुलेरिया ने एनडीटीवी के साथ बातचीत में बताया कि अगले दो तीन महीनों यानि कि अगस्त-सितंबर में कोरोना संक्रमण और ज्यादा बढ़ सकता है। भारत में अभी भी यह शुरुआती दौर में ही है। हालांकि उन्होंने ये भी कहा कि अभी भारत में कोरोना संक्रमण कम्यूनिटी ट्रांसमिशन स्तर तक नहीं पहुंचा है। कोरोना के हॉटस्पॉट इलाकों में कम्यूनिटी ट्रांसमिशन संभव है।

डॉक्टर रणदीप गुलेरिया ने अन्य राज्यों के मरीजों को दिल्ली आने से रोकने के लिए दिल्ली सरकार के बॉर्डर सील करने के फैसले की भी आलोचना की। एम्स निदेशक ने कहा कि यह अनैतिक है और ऐसे किसी मरीज को नहीं रोका जाना चाहिए।

वहीं विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा है कि भारत में कोरोना संक्रमण की स्थिति अभी विस्फोटक नहीं है। हालांकि उन्होंने कहा कि लॉकडाउन हटाने के बाद इसका जोखिम बना हुआ है। डब्लूएचओ के स्वास्थ्य आपात स्थिति कार्यक्रम के कार्यकारी निदेशक मिशेल रियान ने बताया कि भारत में कोरोना के मामले दोगुने होने में करीब तीन सप्ताह का वक्त लग रहा है। मिशेल रियान ने ये भी कहा कि भारत में शहरी और ग्रामीण इलाकों में इस माहमारी का असर अलग अलग है। डब्लूएचओ ने कहा कि लॉकडाउन से संक्रमण के फैलने की रफ्तार कम रही है।

Next Stories
1 दिल्ली -एनसीआर में हुई प्री मानसून बारिश, इस हफ्ते इन राज्यों में बरसेंगे बादल
2 मुंबई में कोरोना के मामले 50 हजार के पार, दिल्ली में कम्यूनिटी स्प्रेड का खतरा
3 पूर्वी लद्दाख गतिरोध पर भारत, चीन की सेनाएं विवाद के शांतिपूर्ण समाधान के लिए सहमत
ये पढ़ा क्या?
X