कोरोना वैक्सीन: दोनों डोज ले चुके लोगों को फिर लगवाना होगा टीका? AIIMS डायरेक्टर ने कही यह बात

अमेरिका समेत कई देशों ने अपने लोगों को बूस्टर शॉट देने की योजना बनाई है ताकि कोरोना वायरस के संक्रमण से बचा जा सके।

कोरोना वैक्सीन के तीसरे डोज(बूस्टर शॉट) को लेकर एम्स निदेशक रणदीप गुलेरिया ने कहा कि हमारे पास अभी यह कहने के लिए पर्याप्त आंकड़े नहीं हैं कि हमें बूस्टर शॉट की आवश्यकता है। (फोटो – एपी)

कोरोना की तीसरी लहर आने से पहले देशभर में व्यापक स्तर पर टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है। दुनिया के कई देश कोरोना टीका के दोनों डोज ले चुके लोगों को तीसरी डोज देने की योजना बना रहे हैं। इसे बूस्टर शॉट भी कहा जा रहा है. क्या भारत में भी लोगों को तीसरे डोज दिए जाने की जरूरत पड़ सकती है। इस सवाल के जवाब में एम्स के निदेशक डॉ रणदीप गुलेरिया ने कहा है कि इस समय भारत में तीसरे डोज की जरूरत को लेकर पर्याप्त आंकड़े मौजूद नहीं हैं।

समाचार चैनल एनडीटीवी को दिए इंटरव्यू के दौरान जब एम्स निदेशक रणदीप गुलेरिया से कोरोना वैक्सीन के तीसरे डोज(बूस्टर शॉट) को लेकर सवाल पूछा गया तो उन्होंने जवाब देते हुए कहा कि मुझे नहीं लगता कि हमारे पास अभी यह कहने के लिए पर्याप्त आंकड़े हैं कि हमें बूस्टर शॉट की आवश्यकता है। यहां तक ​​कि बुजुर्गों और हाई रिस्क वाले लोगों के लिए भी हमारे पास पर्याप्त डेटा नहीं है। हमें इस संबंध में और आंकड़े की जरूरत है जो टीके से होने वाली सुरक्षा की ओर इंगित करे।

इसके अलावा रणदीप गुलेरिया ने यह भी कहा कि इसमें अभी और शोध की जरूरत है और साथ ही इस संबंध में आवश्यक आंकड़े प्राप्त करने में हमें कुछ महीने लग सकते हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि संभवतः अगले साल की शुरुआत तक हमें यह पता चल जाएगा कि हमें किस प्रकार के बूस्टर शॉट की जरूरत है और किसको ऐसे शॉट की जरूरत पड़ेगी। हालांकि डॉ गुलेरिया ने यह भी कहा कि भारत को किसी भी समय बूस्टर शॉट की जरूरत पड़ सकती है।

गौरतलब है कि अमेरिका समेत कई देशों ने अपने लोगों को बूस्टर शॉट देने की योजना बनाई है ताकि कोरोना वायरस के संक्रमण से बचा जा सके। 20 सितंबर से अमेरिकी नागरिकों को तीसरा डोज लगाए जाने की योजना है। हालांकि यह बूस्टर शॉट कोरोना टीका के दोनों डोज लेने के आठ महीने बाद लगाया जाएगा। वहीं ब्रिटेन में भी सरकार उन लाखों लोगों को बूस्टर डोज देने की योजना बना रही है जिनके ऊपर संक्रमण का खतरा सबसे ज्यादा है और जिन्होंने कोरोना टीके की दोनों डोज ले ली है।

बता दें कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार 21 जुलाई की सुबह तक करीब 57 करोड़ लोगों को कोरोना टीके दिए जा चुके हैं। करीब 44 करोड़ लोगों को कोरोना टीका का पहला डोज दिया जा चुका है और करीब 12 करोड़ लोगों को कोरोना टीका का दोनों डोज दिया जा चुका है। शुक्रवार को कोरोना वैक्सीन जाइडस कैडिला को मंजूरी मिलने के बाद देश में अब कुल छह वैक्सीन हो गए हैं जिनके आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी दी गई है।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट
X