ताज़ा खबर
 

लालू की सेहत पर नजर रखने के लिए एम्स ने बनाई 6 डॉक्टरों की टीम

लालू को जेल में रहने के दौरान बैचेनी महसूस हो रही थी, जिसके बाद उन्हें रांची के राजेंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस में भर्ती कराया गया, जहां से उन्हें दिल्ली स्थित ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेस में भेज दिया गया।
Author नई दिल्ली | April 5, 2018 13:19 pm
लालू प्रसाद यादव (image source- express archive)

आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव की सेहत पर नजर रखने के लिए दिल्ली एम्स प्रशासन ने छह डॉक्टरों की एक टीम बनाई है। लालू प्रसाद यादव को 29 मार्च को एम्स में भर्ती कराया गया था। लालू के लिए बनाई गई टीम का नेतृत्व मेडिसिन डिपार्टमेंट के हेड डॉक्टर नवनीत विग द्वारा किया जाएगा। इस टीम में सर्जरी, कार्डियोलॉजी और न्यूरोलॉजी विभाग के डॉक्टर शामिल हैं। लालू एम्स के पुराने प्राइवेट वॉर्ड में भर्ती हैं। मीडिया रिपोर्टस के अनुसार, लालू प्रसाद का इलाज कर रहे डॉक्टरों ने बताया कि फिलहाल उनकी हालत स्थिर है।

डॉक्टरों का कहना है कि लालू का शुगर लेवल थोड़ा ज्यादा है और उनकी किडनी में भी संक्रमण है। बता दें कि लालू चारा घोटाला के मामले में रांची जेल में सजा काटने के लिए रखा गया था। जेल में रहने के दौरान उन्हें बैचेनी महसूस हो रही थी, जिसके बाद उन्हें रांची के राजेंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस में भर्ती कराया गया, जहां से उन्हें दिल्ली भेज दिया गया। लालू को 23 दिसंबर को बिरसा मुंडा जेल में भेजा गया। लालू को दिल्ली फ्लाइट की जगह ट्रेन से लेकर आया गया था। इस मामले को लेकर भी काफी विवाद हुआ था।

कई राजनीतिक पार्टियों ने बीजेपी सरकार पर लालू को फ्लाइट से न भेजकर ट्रेन से भेजने को लेकर निशाना साधा था। वहीं, झारखंड के एक बीजेपी नेता ने भी अपनी ही सरकार को इस मामले में घेरते हुए कहा था कि सरकार का यह फैसला अपरिपक्व है और शिष्टाचार के खिलाफ है। गौरतलब है कि लालू प्रसाद यादव को 2013 के चारा घोटाले के मामले में दोषी करार दिया गया है। ताजा मामले दुमका कोषागार गबन केस में सीबीआई कोर्ट द्वारा लालू प्रसाद यादव को 14 साल की सजा सुनाई गई और साथ ही 60 लाख रुपए जुर्माना भी लगाया गया। वहीं, चारा घोटाले में आरजेडी प्रमुख लालू के बेल की सुनवाई 6 अप्रैल को झारखंड हाईकोर्ट में होगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App