ताज़ा खबर
 

राम मंदिरः भूमि पूजन से पहले ओवैसी का ट्वीट- बाबरी थी, है और रहेगी; AIMPLB ने दिया हागिया सोफिया का उदाहरण

भूमि पूजन से ठीक पहले ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (AIMPLB) ने भी प्रतिक्रिया दी है। बोर्ड ने कहा कि बाबरी मस्जिद थी और हमेशा एक मस्जिद ही रहेगी। हागिया सोफिया हमारे सामने महान उदाहरण है।

Ram Temple bhoomi pujanAIMIM चीफ और हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी। (पीटीआई)

अयोध्या में राम मंदिर भूमि पूजन से ठीक पहले ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) चीफ और हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने बुधवार (5 अगस्त, 2020) को ट्वीट कर कहा कि ‘बाबरी मस्जिद थी, है और रहेगी इंशाअल्लाह। बाबारी जिंदा है।’ ओवैसी ने ट्वीट के साथ दो तस्वीरें भी शेयर की हैं, जिसमें एक तस्वीर बाबरी मस्जिद की है जो साल 1992 से पहले की मालूम पड़ती है दूसरी तस्वीर मस्जिद का ढांचा गिराए जाने के समय की है।

इधर भूमि पूजन से ठीक पहले ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (AIMPLB) ने भी प्रतिक्रिया दी है। बोर्ड ने कहा कि बाबरी मस्जिद थी और हमेशा एक मस्जिद ही रहेगी। हागिया सोफिया हमारे सामने महान उदाहरण है। दमनकारी, शर्मनाक, अन्यायपूर्ण और बहुसंख्यक तुष्टिकरण निर्णय द्वारा जमीन पर पुनर्निमाण इसे बदल नहीं सकता है। दुखी होने की जरूरत नहीं क्योंकि कोई स्थिति हमेशा के लिए नहीं रहती।

Coronavirus India LIVE Updates

इधर ओवैसी अपने ट्वीट के बाद सोशल मीडिया यूजर्स के निशाने हैं, जहां कुछ यूजर्स ने उन्हें उस वादे को याद दिलाया जिसमें उन्होंने संविधान और कोर्ट का निर्णय मानने बात कही थी। बता दें कि 9 नवंबर 2019 को सुप्रीम कोर्ट ने विवादित राम मंदिर- बाबरी मस्जिद भूमि को लेकर अपना फैसला सुनाया था। फैसले में सुप्रीम कोर्ट ने विवादित जमीन राम लला को सौंप दी। साथ ही सरकार को आदेश दिया था कि मस्जिद बनाने के लिए अयोध्या में पांच एकड़ की जमीन दी जाए।

हैदराबाद से सांसद ओवैसी के ट्वीट पर मुकेश कुमार @MukeshK93999901 ट्वीट कर लिखते हैं, ‘कोर्ट के निर्णय से पहले मैं संविधान को मानता हूं। कोर्ट का जो निर्णय होगा उसे सर झुका कर मानूंगा। निर्णय के बाद…।’ एक यूजर @SatishM81957227, ‘बाहर से देखने में जो भी हो मगर अंदर जहर भरा हुआ है। कांग्रेस पार्टी ने सत्तर वर्षों तक नकली सेक्युलरिज्म का झुंझुना पकड़ाकर हिंदुओं को मूर्ख बनाया है। कभी गंगा जमुनी तहजीब के नाम पर कभी ईश्वर अल्लाह तेरो नाम की आढ़ में। अब ये सब एकतरफा धर्मनिरपेक्षता चलने वाली नहीं है।’

मनमोहन शुक्ला @PATRIOTISM049 लिखते हैं, ‘ओवैसी साहब, आपने अल्लाह को नहीं देखा है। मगर मैं आपका बताना चाहूंगा कि राम का नाम लेने से सारे पाप खत्म हो जाते हैं। आप राम को काल्पनिक क्यों मानते हैं? राम का नाम लेने से पाप नष्ट हो जाते हैं। पाप के भागीदार मत बनो।’

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 बोले योगगुरू रामदेव- मंदिर निर्माण से भारत में आएगा ‘राम राज्य’, केंद्रीय मंत्री ने कहा- हुआ धार्मिक गुलामी का अंत
2 पीएम मोदी बोले – राम अनेकता में एकता के प्रतीक, अस्तित्व मिटाने की हर कोशिश हुई लेकिन राम हमारे मन में
3 UPSC Exams में 420वीं रैंक लाने वाले कौन हैं राहुल मोदी? हुए ट्रेंड, लोग बोले- ये ‘सदी का विलय’
ये पढ़ा क्या?
X