ताज़ा खबर
 

AgustaWestland: बीजेपी ने दी सफाई-गांधी परिवार पर मोदी और इटली के पीएम के बीच नहीं हुई कोई डील

आजाद ने एक अंग्रेजी अखबार में आई खबर का उल्लेख करते हुए सरकार से जानना चाहा कि क्या प्रधानमंत्री मोदी ने पिछले साल सितंबर में अपने इतालवी समकक्ष के साथ कोई बैठक की थी।

Author नई दिल्‍ली | April 27, 2016 6:13 PM
जेटली ने कहा कि मुख्य मुद्दा यह है कि रक्षा सौदा हासिल करने के लिए रिश्वत दिए जाने के आरोप हैं। रिश्वत देने वाले को दोषी ठहराया जा चुका है और अब रिश्वत लेने वाले की पहचान की जानी है। (PTI)

वित्‍त मंत्री अरुण जेटली ने बुधवार को उन रिपोर्ट्स को खारिज किया, जिसमें दावा किया गया था कि भारतीय मछुआरों की हत्‍या के आरोप में गिरफ्तार दो इटालियन मरीन्‍स को छोड़ने के बदले ‘गांधी परिवार’ से जुड़ी जानकारी को लेकर पीएम नरेंद्र मोदी और इटली के पीएम के बीच कोई समझौता हुआ था। जेटली ने यह भी कहा वीवीआईपी हेलिकॉप्‍टरों से जुड़े घोटाले के मामले में जांच ‘अडवांस्‍ड स्‍टेज’ में है।

READ ALSO: VVIP chopper scam: जानें अगस्‍ता वेस्‍टलैंड डील से जुड़ी हर अहम बात

जेटली की यह सफाई राज्‍यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद के उस बयान के बाद आई, जिसमें उन्‍होंने पीएम मोदी और इटली के पीएम मैटियो रेंजी के बीच कथित तौर पर हुई किसी डील को लेकर सवाल उठाए थे। आजाद ने एक अंग्रेजी अखबार में आई खबर का उल्लेख करते हुए सरकार से जानना चाहा कि क्या प्रधानमंत्री मोदी ने पिछले साल सितंबर में अपने इतालवी समकक्ष के साथ कोई बैठक की थी। उन्होंने पूछा कि अगर बैठक हुई थी तो क्या प्रधानमंत्री ने हेलीकॉप्टर सौदे में गांधी परिवार के बारे में जानकारी हासिल करने के एवज में दो इतालवी मरीनों को रिहा करने की पेशकश की थी। आजाद ने कहा ‘‘अदालत का फैसला आ गया है और अब राजग सरकार इतालवी मरीनों को स्वदेश जाने की अनुमति दे रही है। इसका मतलब है कि सौदा हुआ है।’’

VVIP chopper scam को समझने के लिए देखें वीडियो

सदन में विपक्ष के नेता ने कहा कि कांग्रेस की अगुवाई वाली यूपीए सरकार ने हेलीकॉप्टर सौदे में गड़बड़ी की खबरें आने के बाद 2013 में इस सौदे को रद्द कर दिया था और सीबीआई तथा प्रवर्तन निदेशालय को भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच करने का आदेश दिया था। उन्होंने कहा कि तत्कालीन सरकार ने बैंक गारंटी जब्त कर ली थी और भुगतान किया जा चुका धन वापस हासिल कर लिया था। तब तक सौदे के तहत तीन हेलीकॉप्टर मिल चुके थे जिन्हें वापस नहीं लौटाया गया।

जेटली ने आजाद के सवाल के जवाब में कहा कि प्रधानमंत्री मोदी और उनके इतालवी समकक्ष के बीच बैठक की खबरें पूरी तरह गलत और सत्य से परे हैं। वित्त मंत्री जेटली ने कहा ‘‘ऐसी कोई बैठक, कभी नहीं हुई।’’ जेटली ने मीडिया की इस खबर को गलत बताया कि गांधी परिवार के बारे में जानकारी हासिल करने के एवज में मोदी ने इतालवी मरीनों को जाने देने की पेशकश की थी। जेटली ने कहा कि मुख्य मुद्दा यह है कि रक्षा सौदा हासिल करने के लिए रिश्वत दिए जाने के आरोप हैं। रिश्वत देने वाले को दोषी ठहराया जा चुका है और अब रिश्वत लेने वाले की पहचान की जानी है। जेटली ने कहा कि कथित बिचौलिये के लिखित ब्यौरे की जांच की जानी है। उन्होंने कहा कि इस संबंध में जांच चल रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App