ताज़ा खबर
 

Augusta Westland Scam: बयान में मुख्य आरोपी ने किया कमलनाथ के बेटे, सलमान खुर्शीद और अहमद पटेल का जिक्र, पर कमलनाथ और खुर्शीद बोले- नहीं है कोई कनेक्शन

अगस्ता वेस्टलैंड मामले में मुख्य आरोपी राजीव सक्सेना से पूछताछ के दौरान कई ऐसे नाम भी आए हैं जो कांग्रेस के बड़े नेता हैं। इसमें सलमान खुर्शीद और अहमद पटेल का भी नाम शामिल है। कमलनाथ के बेटे बकुल नाथ का भी जिक्र किया गया है।

Author Translated By अंकित ओझा नई दिल्ली | Updated: November 17, 2020 8:46 AM
ratul puri, rajiv saxenaअगस्ता वेस्टलैंड मामले का मुख्य आरोपी राजीव सक्सेना।

अगस्ता वेस्टलैंड वीवीआईपी चॉपर के 3 हजार करोड़ के सौदे के मामले में आरोपी राजीव सक्सेना ने कांग्रेस से जुड़े कई बड़े नामों का भी जिक्र अपने बयान में किया है। इसमें मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री के भतीजे रतुल पुरी ही नहीं बल्कि उनके बेटे बकुल नाथ का भी नाम है। इसके साथ ही कांग्रेस नेता सलमान खुर्शीद और अहमद पटेल का भी जिक्र किया गया है। राजीव सक्सेना चार्टर्ड अकाउंटेंट हैं और इस मामले में मुख्य आरोपी हैं।

सक्सेना इस समय जमानत पर हैं। उन्हें जनवरी 2019 में दुबई से प्रत्यर्पित करवाकर भारत लाया गया था। ईडी ने उनकी 385 करोड़ की संपत्ति को अटैच किया था और इसके बाद पूछताछ की। अब ईडी इस मामले को सुप्रीम कोर्ट के सामने लेकर गई है। ईडी का कहना है कि सक्सेना मामले से जुड़े सभी तथ्यों को सामने नहीं रख रहे हैं।

इंडियन एक्सप्रेस ने सक्सेना के बयान जो कि 1000 पेज (सहयोगी दस्तावेजों को मिलाकर) में थे, उनको खंगाला। इसके साथ ही बैंकिंग स्टेटमेंट्स, ऑफशोर कंपनियों के रेकॉर्ड और प्रमुख लोगों के साथ किए गए ईमेल के बारे में भी जानकारी इकट्ठी की। इसमें कई कथित हवाला ट्रांजैक्शन और ऑफशोर स्ट्रक्चर का जाल पाया गया जो बात सक्सेना ने भी स्वीकार की है।

सक्सेना के बयान की मुख्य बातों को संक्षिप्त में यहां बताया जा रहा है कि कैसे अगस्ता वेस्टलैंड डील में क्या ‘दिक्कतें’ आईं- इसे यूपीए 2 की सरकार में कैंसल कर दिया गया- सक्सेना की इंटर्सटेल टेक्नॉलजीज और क्रिश्चियन मिशेल की ग्लोबल सर्विसेज के बीच कैसे यह डील फंस गई। मिशेल को भी दिसंबर 2018 में भारत लाया गया है और वह जेल में हैं।

सक्सेना ने ईडी को बताया, ‘उस समय फैसलों को प्रभावित करने वाले नेताओं और नौकरशाहों के फायदे के लिए भी यह सब किया गया था। इनमें से कुछ फंड को प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से स्ट्रक्चर्ड ट्रांजैक्शन में लाया गया था और इसमें से कुछ स्ट्रक्चर मैंने ही बनाए थे। इनके रास्ते में भारत में निवेश किया गया था।’ 17 सितंबर को फाइल चार्जशीट में सीबीआई ने कहा है कि साल 2000 में सक्सेना ने इंटर्सटेलर टेकनॉलजीज के 99.9 फीसदी शेयर अधिग्रहित कर लिए थे। चार्जशीट में इटली और मॉरिशस के लेटर रोगैटरी का जिक्र करके आरोप लगाया गया है कि सक्सेना ने गौतम खेतान के साथ मिलकर अगस्ता वेस्टलैंड से इंटर्सटेलर टेक्नॉलजीज के अकाउंट में 124 करोड़ यूरो रिसीव किए। इसमें कहा गया, ‘बाद में इस धनराशि का इस्तेमाल दलालों के भुगतान और संदिग्ध पब्लिक सर्वेंट्स के भुगतान के लिए किया गया।’ इसमें ग्लोबल सर्विसेज की तरफ से सक्सेना की चार कंपनियों में किए गए 9,48,862 यूरो का भी डीटेल है। सक्सेना से की गई पूछताछ इस मामले में आरोपी डिफेंस डीलर सुशेन मोहन गुप्ता, कमलनाथ के बेटे रतुल पुरी पर फोकस थी। गुप्ता और पुरी दोनों को हिरासत में लिया गया था और अब जमानत पर बाहर हैं।

सक्सेना ने आरोप लगाया कि गुप्ता और खेतान ने जिन लोगों का नाम लिया था वे खुद में ‘विशेष’ हैं। ‘उन्होंने सत्ता में अपनी पहुंच को दिखाने के लिए तत्काल राजनीति के बड़े लोगों का नाम लिया। उन्होंने कई बार सलमान खुर्शीद और कमल चाचा का जिक्र किया जो कि मेरे हिसाह से कमलनाथ के लिए था।’ सक्सेना ने कहा, ‘मुझे पता है कि इंटर्सटेलर टेक्नॉलजीज मुख्य कंपनी थी जिसके पास अगस्ता वेस्टलैंड से अवैध धन आया। इसके मालिक सुशेन मोहन गुप्ता थे जो कि गौतम खेतान के माध्यम से इसे चलाते थे। सुशेन और खेतना से मुलाकात के दौरान वे अकसर भारत के राजनेताओं का नाम लेते थे। वे एपी का जिक्र करते थे जिसका ताल्लुक अहमद पटेल से था।’ सक्सेना ने प्रिस्टीन रिवर इन्वेस्टमेंट कंपनी का भी जिक्र करते हुए कहा, ‘हम प्रिस्टीन रिवर इन्वेस्टमेंट कंपनी से भी ब्रिज फंडिंग लेते थे। इसका मैनेजमेंट बकुल नाथ के लिए जॉन डोशेर्टी करते हैं। इसलिए इंटर्सटेलर और ग्लोबल सर्विसेज को इस्तेमाल प्रिस्टीन रिवर इन्वेस्टमेंट से लोन अदा करने के लिए किया जाता था।’

इंडियन एक्सप्रेस ने जब इस मामले में कमलनाथ से संपर्क किया तो उन्होंने कहा, ‘मैंने पहले भी स्पष्ट किया है कि मेरे भतीजे की कंपनियों और लेनदेन से मेरा कोई ताल्लुक नहीं है। जहां तक मेरे बेटे की बात है वह दुबई का एनआरआई है। मैंने जब प्रिस्टीन रिवर के बारे में सुना और बेटे से बात की तो उसने कहा वह इस कंपनी के बारे में कुछ नहीं जानता है। ऐसे कोई दस्तावेज नहीं हैं जो उसके साथ कनेक्शन की पुष्टि करते हों। कोई भी एक ऑफशोर अकाउंट खोलकर किसी भी बेनिफिशरी ओनर का नाम डाल सकता है।’

खुर्शीद ने इस मामले में कहा, ‘मुझे आश्चर्य है कि अगस्ता वेस्टलैंड की जांच में मेरे भी नाम का इस्तेमाल किया गया। सुशेन मोहन के पुता देव मोहन हमारे दोस्त हैं और मैं उनका शुभचिंतक हूं। जितना मैं जानता हूं मुझे नहीं लगता है कि उनका रतुल पुरी या राजीव सक्सेना के साथ कोई संबंध है।’

सक्सेना ने यह भी कहा, ‘ग्लोबल सर्विसेज का लिंक अगस्ता वेस्टलैंड से अवैध धन लेने के लिए था। रतुल पुरी कह चुके हैं कि वह मिशेल जेम्स को नहिीं जानते लेकिन हवाला कारोबारियों ने ट्रांजैक्शन किया था। उन्होंने मुझसे संपर्कि किया और मेसेज करके कहते रहे कि मेरे पिता या चाचा के बारे में कोई जानकारी न दें।’ संपर्क करने पर पुरी ने बताया, ‘न तो मेरी व्यक्तिगत क्षमता है और न मेरी कंपनी ही रक्षा सौदे में शामिल है। हम कई देशों में मल्टिपल बिजनस चलाते हैं। हमारी कंपनी सभी कानूनों और नियमों का पालन करती है। मामला न्यायालय में है इसलिए मैं कोई टिप्पणी नहीं कर सकता हूं।’

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 नीतीश कुमार के शपथ में LJP के चिराग पासवान को न्योता नहीं, विपक्ष-मुक्त रहा समारोह
2 सुप्रीम कोर्ट ने नहीं सुनी कपिल सिब्बल की दलील, हाथरस गैंगरेप कवरेज के दौरान पकड़े गए पत्रकार की बेल अर्ज़ी पर बोला- हाईकोर्ट क्यों नहीं जाते?
3 खाई में गिरी जीप, बिहार के सात मजदूरों की मौत
यह पढ़ा क्या?
X