ताज़ा खबर
 

अग्नि-5 के सफल टेस्ट पर भड़का चीन, भारत ने दी सफाई- किसी देश को निशाने पर नहीं लिया गया

अग्नि-5 का सफल टेस्ट करने के बाद विदेश मंत्रालय को सफाई देनी पड़ी।

अग्नि-5 टेस्ट के दौरान उड़ान भरती हुई।

अग्नि-5 का सफल टेस्ट करने के बाद विदेश मंत्रालय को सफाई देनी पड़ी। सफाई में बताया गया कि अग्नि-5 को बनाने का मकसद किसी देश को निशाने पर लेना नहीं है और ना ही उसके द्वारा किसी भी अंतरराष्ट्रीय समझौते का उल्लंघन किया गया है। इसके अलावा भारत ने आशा जाहिर की कि बाकी देश भी ऐसा ही करेंगे। भारत को यह जवाब चीन के बयान के बाद देना पड़ा। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने बताया मंगलवार (27 दिसंबर) की रात को कहा कि भारत द्वारा किए जा रहे प्रयोग किसी देश को निशाने पर लेकर नहीं किए जा रहे। उन्होंने बताया कि भारत ने सभी अंतरराष्ट्रीय दायित्वों का पालन करते हुए काम किया।

दरअसल, चीन के विदेश मंत्रालय द्वारा अग्नि-5 के टेस्ट पर सवाल खड़े किए थे। चीन ने कहा था कि वे आशा करते हैं कि मिसाइल को बनाने के लिए अंतरराष्ट्रीय दायित्वों का पालन किया गया होगा। चीन ने आगे कहा था कि दोनों देश आपस में दो राष्ट्र की तरह रहते हैं ना कि किसी दुश्मन की तरह। दरअसल, चीन ने कुछ मीडिया रिपोर्ट्स पर सवाल खड़े किए थे जिसमें कहा गया था कि मिसाइल का निर्माण चीन की धरती को टारगेट करने के लिए किया गया है।

भारत ने सोमवार (26 दिसंबर) को अग्नि-5 का सफल परीक्षण किया था। अग्नि-5 5,000 किलोमीटर से भी अधिक दूरी पर स्थित लक्ष्य को भेदने में सक्षम है। अग्नि-5 की जद में पाकिस्तान और चीन दोनों हैं। अबतक भारत के पास अग्नि मिसाइल श्रृंखला में 700 किलोमीटर के रेंज का अग्नि-एक, 2000 किलोमीटर रेंज की अग्नि-दो और 2500-3500 से अधिक रेंज की अग्नि तीन और अग्नि-चार मिसाइल है।

इस वक्त की बाकी ताजा खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें

देखिए संबंधित वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App