ताज़ा खबर
 

तीन तलाक के बाद हलाला और बहुविवाह पर रोक लगाएगी केंद्र सरकार, तैयारियां शुरू

निकाह हलाला के तहत एक व्यक्ति अपनी पूर्व पत्नी से तब तक दोबारा शादी नहीं कर सकता ... जब तक कि वह महिला किसी अन्य पुरूष से शादी कर उससे शारीरिक संबंध नहीं बना लेती और फिर उससे तलाक लेकर अलग रहने की अवधि (इद्दत) पूरा नहीं कर लेती।

Author Updated: June 30, 2018 12:32 PM
riple tAl Qaida, Al Qaida Terrorist, Triple Talaq, Samiun Rahman, Terrorist Samiun Rahman, Samiun Rahman Regret, Terror Acts, Al Qaida Terrorist Samiun Rahman, No Regret for Terror Acts, Regrets for Triple Talaq, Rohingya refuge, Rohingya Terrorist, National News, jansattaalaq, teen talaq, teen talaq faisla, triple talaq news in hindi, triple talaq faisla, 3 talaq, 3 talaq faisla, triple talaq judgementप्रतिकात्मक तस्वीर।

कानून मंत्रालय के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने शुक्रवार (29 जून, 2018) को कहा कि सरकार उच्चतम न्यायालय में ‘निकाह हलाला’ की प्रथा का विरोध करेगी, जब शीर्ष अदालत आने वाले दिनों में इसकी कानूनी वैधता की पड़ताल करेगी। ‘निकाह हलाला’ मुसलमानों में वह प्रथा है जो समुदाय के किसी व्यक्ति को अपनी तलाकशुदा पत्नी से फिर से शादी करने की इजाजत देता है। मंत्रालय के अधिकारी ने कहा कि सरकार का मानना है कि यह प्रथा ‘लैंगिक न्याय’ (जेंडर जस्टिस) के सिद्धांतों के खिलाफ है और उसने इस मुद्दे पर शीर्ष न्यायालय में अपना रूख स्पष्ट कर दिया था।

हालांकि, शीर्ष न्यायालय ने तब सिर्फ फौरी ‘तीन तलाक’ के मुद्दे पर सुनवाई करने का फैसला किया था, जबकि निकाह हलाला और बहुविवाह प्रथा पर अलग से विचार करने का फैसला किया था। मार्च में उच्चतम न्यायालय ने निकाह हलाला और बहुविवाह प्रथा पर केंद्र को नोटिस जारी किया था। अधिकारी ने कहा कि सरकार का रुख एक जैसा है … भारत सरकार इस प्रथा के खिलाफ है। यह उच्चतम न्यायालय में प्रर्दिशत होगा। शीर्ष न्यायालय ने पिछले साल तीन तलाक की प्रथा को असंवैधानिक घोषित कर दिया था। सरकार तीन तलाक को एक दंडनीय अपराध बनाने के लिए बाद में एक विधेयक लेकर आई।

लोकसभा ने यह विधेयक पारित कर दिया और अब यह राज्यसभा में लंबित है। यह तीन तलाक को अवैध बनाता है और पति के लिए तीन साल तक की कैद की सजा का प्रावधान करता है। मसौदा कानून के तहत तीन तलाक किसी भी रूप में (मौखिक , लिखित या ईमेल , एसएमएस और व्हाट्सऐप सहित इलेक्ट्रानिक तरीके से) अवैध और अमान्य होगा। निकाह हलाला की कानूनी वैधता की अब उच्चतम न्यायालय पड़ताल करेगा। न्यायालय की एक संविधान पीठ इस प्रथा की वैधता को चुनौती देने वाली चार याचिकाओं पर सुनवाई करेगी।

निकाह हलाला के तहत एक व्यक्ति अपनी पूर्व पत्नी से तब तक दोबारा शादी नहीं कर सकता … जब तक कि वह महिला किसी अन्य पुरूष से शादी कर उससे शारीरिक संबंध नहीं बना लेती और फिर उससे तलाक लेकर अलग रहने की अवधि (इद्दत) पूरा नहीं कर लेती।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 पासपोर्ट के लिए पुलिस अब नहीं करेगी एड्रेस वेरिफिकेशन, विदेश मंत्रालय ने बदला नियम
2 पुलवामा: चटपोरा गांव में मुठभेड़ जारी, सुरक्षा बलों ने अब तक तीन स्‍थानीय आतंकी मारे
3 स्विस बैंकों में बढ़ा भारतीयों का पैसा, अरुण जेटली ने फेसबुक पर दी सफाई