ताज़ा खबर
 

पहली बार डीजल भी 100 के पार, 40 दिन में 23 बार हुई बढ़ोतरी में 6.25 रुपए प्रति लीटर तक बढ़े दाम, लोग बोले- इसका इलाज हर 2-3 महीने में चुनाव

चार मई के बाद 23 बार ईधन के दाम बढ़ने से पेट्रोल जहां 5.72 रुपए लीटर मंहगा हुआ, वहीं डीजल के दाम में 6.25 रुपए लीटर की तेजी आई है।

Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र नई दिल्ली | Updated: June 13, 2021 11:17 AM
पेट्रोल-डीजल के दामों में लगातार बढ़ोतरी दर्ज की जा रही है। (एक्सप्रेस फोटो)।

तेल कंपनियों की ओर से पेट्रोल और डीजल के दाम में लगातार बढ़ोतरी किए जाने के चलते पेट्रोल और डीजल के दाम आसमान छू रहे हैं। जहां देश के कई राज्यों में पेट्रोल 100 रुपए के ऊपर पहुंच गया है, वहीं राजस्थान में तो अब डीजल भी 100 रुपए प्रति लीटर के पार हो गया है। शनिवार को तेल कंपनियों के ऐलान के बाद श्रीगंगानगर में डीजल के भाव 100.05 रुपए पहुंच गए। यहां पेट्रोल के भाव पहले ही 107.22 रुपए हैं। चौंकाने वाली बात यह है कि तेल के दामों में बढ़ोतरी पिछले करीब 23 दिन से लगातार जारी रही। रविवार को तेल कंपनियों ने न तो दामों में बढ़ोतरी की और न ही दाम कम किए।

सार्वजनिक क्षेत्र की ईधन कंपनियों की अधिसूचना के अनुसार पेट्रोल के दाम में शनिवार को 27 पैसे लीटर जबकि डीजल में 23 पैसे प्रति लीटर वृद्धि की गई थी। इसके बाद कर्नाटक सातवां राज्य बन गया, जहां पेट्रोल 100 रुपए प्रति लीटर के ऊपर चला गया है। इससे पहले राजस्थान, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, आंध प्रदेश, तेलंगाना और केंद्र शासित लद्दाख में पेट्रोल के खुदरा भाव पहले ही 100 रुपए या उससे से ऊपर पहुंच गए थे।

VAT लगाने में सबसे ऊपर राजस्थान: गौरतलब है कि राजस्थान में वैट दरें सबसे ऊंची हैं। इसके चलते फिलहाल वहां प्रीमियम पेट्रोल की दर 110.50 और प्रीमियम डीजल की दर 103.72 रुपए प्रति लीटर है। चार मई के बाद यह 23वां मौका था जब, ईधन के दाम बढ़ाये गए। इससे देश भर में पेट्रोल और डीजल के दाम रिकार्ड स्तर पर पहुंच गए।

दिल्ली में पेट्रोल अब तक के उच्चतम स्तर 96.12 रुपए प्रति लीटर पर पहुंच गया जबकि डीजल 86.98 रुपए प्रति लीटर पर है। स्थानीय करों और मूल्य वर्धित कर (वैट) की दरें अलग अलग होने के कारण ईंधन के दाम विभिन्न राज्यों में अलग-अलग होते हैं। राजस्थान देश में पेट्रोल और डीजल पर सबसे ऊंची दर से वैट लगाता है। उसके बाद मध्य प्रदेश, महराष्ट्र, आंध्र प्रदेश और तेलंगाना का स्थान है। मुंबई 29 मई को पहला महानगर बना, जहां पेट्रोल 100 रुपए लीटर के भाव पर पहुंचा। वहां अब पेट्रोल 102.30 रुपए लीटर जबकि डीजल 94.39 रुपए लीटर पर है।

लगातार बढ़ रहे हैं पेट्रोल-डीजल के दाम: चार मई के बाद 23 बार ईधन के दाम बढ़ने से पेट्रोल जहां 5.72 रुपए लीटर मंहगा हुआ, वहीं डीजल के दाम में 6.25 रुपए लीटर की तेजी आई है। इस महीने में ही दिल्ली में पेट्रोल 1.89 रुपए और डीजल 1.83 रुपए महंगा हो चुका है। तेल कंपनियां अंतरराष्ट्रीय बजार में मानक ईधन के पिछले 15 दिन के औसत मूल्य और विदेशी मुद्रा विनिमय दर में होने वाली घटबढ़ के आधार पर पेट्रोल और डीजल की कीमतों को रोजाना संशेधित करती हैं।

सोशल मीडिया पर उठी आवाज?: सुमित सोनी नाम के ट्विटर यूजर ने कहा, “इसका इलाज एक ही है हर दो-तीन माह में चुनाव। जब जब चुनाव होते हैं तो एक माह पहले से डीजल पेट्रोल के दाम बढ़ना रुक जाता है। अभी बंगाल चुनाव में पूरे दो माह दाम नहीं बढ़े। जयहिंद। वहीं, @hashimkhan1217 ने लिखा, “पेट्रोल 105 रन बनाकर खेल रहा है, तो वहीं दूसरी छोर से डीजल भी शतक लगाने से मात्र 2 रन पीछे हैं इससे पहले पहली पारी में सरसों ने नाबाद दोहरा शतक मारते हुए 200 रन पूरा कर लिए थे 70 सालों में ऐसा रोमांचक खेल पहली बार देखने को मिला है।”

राजस्थान सरकार पर भी साधा निशाना: उधर राजस्थान में डीजल के दामों पर लगी आग को लेकर सोशल मीडिया पर गुस्सा जाहिर किया गया। अशोक मीणा नाम के एक यूजर ने राजस्थान में बढ़े वैट के मुद्दे पर अशोक गहलोत सरकार को घेरते हुए कहा, “श्रीगंगानगर वालों गहलोत जी को धन्यवाद देते हुये बधाइयां रूकनी नही चाहिए। पेट्रोल के बाद डीजल भी ₹100 पार।” उधर ईश्वर प्रजापत नाम के यूजर ने कहा, “सोनिया-राहुल की राजस्थान सरकार पेट्रोल-डिज़ल पर अपना स्टेट टैक्स यदि गुजरात सरकार या उत्तर प्रदेश सरकार के बराबर कर दे तो, राजस्थान में पेट्रोल-डिज़ल के भाव दस से पंद्रह रुपये कम हो सकते है। लेकिन वे ऐसा करेंगे नहीं क्योंकि पब्लिक की आंखों में धूल झोंककर, उन्हें बदनाम तो मोदी।”

Next Stories
1 अमित मित्रा का निर्मला सीतारमण को कड़ा खत- GST बैठक में मेरी आवाज दबाई, UP के मंत्री के कहने पर मेरा कमेंट खारिज
2 पश्चिम बंगालः टूटने लगे BJP कार्यकर्ता! घूम-घूम मांगी सार्वजनिक माफी, लाउडस्पीकर से कबूला- BJP को गलत समझ बैठे थे, है फ्रॉड पार्टी
3 PM बनने से पहले नरसिम्हा राव ने ले लिया था सोना गिरवी रख IMF से कर्ज लेने का फैसला, FM बनाने के ऑफर पर मनमोहन सिंह को नहीं हुआ था यकीन; जानिए पूरा क़िस्सा
आज का राशिफल
X