scorecardresearch

मौलाना आजाद के किस भाषण को सुनकर ज्यादातर मुसलमानों ने कर दिया था पाकिस्तान जाने से इनकार और भारत में बने रहे, जानें यहां

मौलाना आजाद के पोते फिरोज बख्त अहमद याद करते हैं, “मेरी चाची अक्सर कहती थीं कि मौलाना द्वारा दिया गया यही भाषण था, जिसने पुरानी दिल्ली, यूपी और बिहार के कई परिवारों को, जो लाहौर के लिए ट्रेन पकड़ने के लिए निकल चुके थे, अपना बिस्तरबंद (सामान) खोलने और भारत में रहने के लिए राजी कर लिया था।”

मौलाना आजाद के किस भाषण को सुनकर ज्यादातर मुसलमानों ने कर दिया था पाकिस्तान जाने से इनकार और भारत में बने रहे, जानें यहां
.बाएं से दाएं मुख्तार अहमद अंसारी, खान अबुल गफ्फार खान, अलाह बख्श सुमरू और मौलाना अबुल कलाम आजाद (फोटो साभार: विकिमीडिया कॉमन्स)

भारत के पहले शिक्षा मंत्री मौलाना अबुल कलाम आज़ाद के 1947 में जामा मस्जिद की प्राचीर से दिए गए ऐतिहासिक भाषण को भारत के विभाजन के खिलाफ मजबूती से खड़े एक मुस्लिम राजनेता के आदर्श उदाहरण के रूप में बताया जाता है। अपने मुस्लिम भाइयों से भारत में रहने का आग्रह करते हुए, आज़ाद ने उल्लेखनीय रूप में कहा, “जामा मस्जिद की मीनारें आपसे एक प्रश्न पूछना चाहती हैं। आपने अपने इतिहास के गौरवशाली पन्नों को कहां खो दिया है? क्या कल ही की बात नहीं है कि जमुना के तट पर तुम्हारे कारवां वजू करते थे? आज तुम यहां रहने से डरते हो। याद रखें, दिल्ली को आपके खून से पाला गया है। भाइयो, अपने आप में एक बुनियादी बदलाव पैदा करो। आज तुम्हारा डर गलत है क्योंकि तुम्हारा उल्लास कल था।”

मौलाना आजाद राष्ट्रीय उर्दू विश्वविद्यालय, हैदराबाद के पूर्व चांसलर और मौलाना आजाद के पोते फिरोज बख्त अहमद याद करते हैं, “मेरी चाची अक्सर कहती थीं कि मौलाना द्वारा दिया गया यही भाषण था, जिसने पुरानी दिल्ली, यूपी और बिहार के कई परिवारों को, जो लाहौर के लिए ट्रेन पकड़ने के लिए निकल चुके थे, अपना बिस्तरबंद (सामान) खोलने और भारत में रहने के लिए राजी कर लिया था।”

अहमद बताते हैं कि कैसे उनकी चाची, कैसर जहान को कराची में रेडियो पाकिस्तान के निदेशक के रूप में एक आकर्षक नौकरी की पेशकश की गई थी और विभाजन के तुरंत बाद जाने के लिए उनके और उनके परिवार के लिए डकोटा हवाई जहाज के चार टिकट की पेशकश की गई थी। “लेकिन उन्होंने मना कर दिया।”

अहमद कहते हैं, “वह दिल्ली में अपने गृह नगर की आरामदायक गर्मजोशी और सुरक्षा को छोड़कर एक नव निर्मित राष्ट्र में कोई अवसर नहीं लेना चाहती थी। उनकी राय में नव निर्मित पाकिस्तान निश्चित रूप से उथल-पुथल के अलावा कुछ नहीं लाएगा।”

भारत में विभाजन के दौरान मुसलमानों की भूमिका के बारे में एक आम धारणा है, जिससे पता चलता है कि कैसे मुहम्मद अली जिन्ना और उनकी मुस्लिम लीग के नेतृत्व में मुस्लिम समुदाय दो-राष्ट्र सिद्धांत के लिए खड़ा था और भारत के विभाजन की मांग कर रहा था। राजनीतिक वैज्ञानिक शमसुल इस्लाम, जिन्होंने ‘मुस्लिम्स अगेंस्ट पार्टिशन: रिविजिटिंग द लेगेसी ऑफ अल्लाह बख्श एंड अदर पैट्रियटिक मुस्लिम्स’ (2015), कहते हैं, “ऐतिहासिक दस्तावेज साबित करते हैं कि अधिकतर भारतीय मुसलमानों ने पाकिस्तान की अवधारणा का उसी तरह विरोध किया और भारत में वापस रुक गए, जिस तरह कि हिंदू आबादी कर रही थी।” वे तर्क देते है, “इसके अलावा, हिंदू नेतृत्व के भीतर ऐसे तत्व थे, जिन्होंने हिंदुत्व का प्रचार किया, जो खड़े थे और वास्तव में द्वि-राष्ट्र सिद्धांत के मूल निर्माता थे।”

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.