ताज़ा खबर
 

गौरी लंकेश पर FACEBOOK पोस्ट को लेकर सगारिका घोष की शिकायत के बाद मामला दर्ज

फेसबुक पोस्ट में ‘‘राष्ट्र-विरोधी’’बताये जाने के बाद पत्रकार सगारिका घोष की शिकायत पर दिल्ली पुलिस ने एक मामला दर्ज कर लिया है।

Author नई दिल्ली | Updated: September 8, 2017 5:43 AM
सागरिका घोष

फेसबुक पोस्ट में ‘‘राष्ट्र-विरोधी’’बताये जाने के बाद पत्रकार सगारिका घोष की शिकायत पर दिल्ली पुलिस ने एक मामला दर्ज कर लिया है। एक फेसबुक पोस्ट में सगारिका को ‘‘राष्ट्र विरोधी’’ बताते हुए कहा गया कि उनकी भी गौरी लंकेश की तरह हत्या कर दी जानी चाहिए। पुलिस ने उस आईपी एड्रेस की विस्तृत जानकारियां मांगी जहां से यह पोस्ट लिखा गया। इसे विक्रमादित्य राणा नाम के एक व्यक्ति ने पोस्ट किया था और उसके बारे में जानकारी जुटाई जा रही है।उल्लेखनीय है कि गत पांच सितम्बर को बेंगलुरू में अज्ञात हमलावरों ने 55 वर्षीय गौरी लंकेश की उनके घर पर गोली मारकर हत्या कर दी थी।

वहीं दूसरी ओर बेंगलुरु की वरिष्ठ पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या की कवरेज को लेकर अंग्रेजी न्यूज चैनल रिपब्लिक टीवी के साथ काम कर चुकी एक महिला पत्रकार ने अर्नब गोस्वामी और उनके चैनल पर हमला बोला है। इस महिला पत्रकार ने फेसबुक पोस्ट लिख कर चैनल के लिए अपनी घृणा जाहिर की है। इस पत्रकार का ये फेसबुक पोस्ट तेजी से वायरल हो रही है। रिपब्लिक के साथ काम कर चुकीं पत्रकार सुमन नंदी ने फेसबुक पर लिखा है कि मुझे हमेशा उन संस्थानों पर गर्व महसूस हुआ है जिनके साथ मैंने काम किया है। लेकिन आज मैं शर्मिंदा हूं, एक ‘स्वतंत्र’ समाचार संगठन अब एक दुष्ट सरकार के लिए बल्लेबाजी कर रहा है और ऐसा खुले तौर पर हो रहा है। सुमन ने ये भी लिखा कि BJP-RSS कार्यकर्ताओं से मौत की धमकी मिलने के बाद एक पत्रकार को मार दिया गया और हत्यारों से पूछने के बजाय आप विपक्षी सवाल करते हैं? अखंडता कहां है? हम कहां जा रहे हैं? कुछ पत्रकार भी नरसंहार का जश्न मना रहे हैं। मुझे इस दुष्ट संगठन के साथ अपने सहयोग से खेद है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 मोदी के मंत्री बोले- आरक्षण के कारण दलितों पर होता है अत्याचार, मंत्रिमंडल में भी मिले रिजर्वेशन
2 राहुल गांधी के बुलावे पर भी नहीं आए ब‍िहार के 6 कांग्रेस व‍िधायक, प्रदेश अध्‍यक्ष को बुलाया ही नहीं
3 सात लाख लोगों की नौकर‍ियां खतरे में, नरेंद्र मोदी के ल‍िए बुरी खबर
जस्‍ट नाउ
X