ताज़ा खबर
 

विधायक खरीद स्टिंग में फंसे बीजेपी अध्यक्ष ने मानी “गुप्त” मुलाकात की बात, पहले कहा था- मेरा रोल निकला तो इस्तीफा दे दूंगा

रविवार को हुबली स्थित पार्टी दफ्तर में बीएस येदियुरप्पा ने कहा, "हां, यह सही है कि रात साढ़े 12 बजे शरनगौड़ा (जेडीएस विधायक के बेटे) मुझसे मिलने देवदुर्गा स्थित मेरे गेस्टहाउस में आए थे। मैं यहीं ठहरा हुआ था। इस दौरान हमने कुछ बातचीत की। शरनगौड़ा को मेरा स्टिंग कराने के लिए भेजकर कुमारस्वामी ने दोयम दर्जे की राजनीति की है।"

Author February 11, 2019 11:18 AM
कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता बीएस येदियुरप्पा। (इंडियन एक्सप्रेस फाइल फोटो)

कर्नाटक की राजनीति में हर दिन कोई ना कोई नया ट्विस्ट देखने को मिल रहा है। रविवार को बीजेपी अध्यक्ष बीएस येदियुरप्पा ने जनता दल सेक्युलर (जेडीएस) नेता से मुलाकात करने की बात मानकर सियासी गलियारों में हलचल मचा दी। येदियुरप्पा ने माना कि उन्होंने जेडीएस विधायक नागनगौड़ा कंदाकुर के बेटे शरनगौड़ा से 7 फरवरी की रात को मुलाकात की थी और इस दौरान उन्होंने उनके पिता के बीजेपी में शामिल होने की संभावनाओं पर विचार-विमर्श किया था। गौरतलब है कि शुक्रवार को कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमार स्वामी ने एक ऑडियो टेप जारी किया था, जिसमें बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष येदियुरप्पा और शरनगौड़ा बातचीत कर रहे हैं। बातचीत में येदियुरप्पा कथित रूप से जेडीएस विधायक को पैसों और मंत्री पद का लालच देकर अपने पाले में लाने की कोशिश कर रहे हैं।

हालांकि, येदियुरप्पा ने ऑडियो क्लिप को ‘फर्जी’ बताया था और कहा था कि कुमारस्वामी आवाज़ को रिकॉर्ड करने में माहिर हैं। उन्होंने कहा था कि अगर विधायकों की खरीद-फरोख्त या विधानसभा अध्यक्ष को प्रभावित करने का आरोप पुष्ट होता है तो वह पार्टी पद से इस्तीफा दे देंगे। लेकिन, रविवार को हुबली स्थित पार्टी दफ्तर में उन्होंने कहा, “हां, यह सही है कि रात साढ़े 12 बजे शरनगौड़ा (जेडीएस विधायक के बेटे) मुझसे मिलने देवदुर्गा स्थित मेरे गेस्टहाउस में आए थे। मैं यहीं ठहरा हुआ था। इस दौरान हमने कुछ बातचीत की। शरनगौड़ा को मेरा स्टिंग कराने के लिए भेजकर कुमारस्वामी ने दोयम दर्जे की राजनीति की है।” हालांकि, कुमारस्वामी ने इस स्टिंग में अपनी भूमिका को खारिज किया है। उनका कहना है कि शरनगौड़ा ने येदियुरप्पा के साथ बातचीत खुद से रिकॉर्ड की थी, उसके बाद मुझे इसकी जानकारी दी।

शुक्रवार को इस मसले पर हुए प्रेसवार्ता में मुख्यमंत्री एचडी कुमार स्वामी के साथ जेडीएस विधायक के बेटे शरनगौड़ा भी मौजूद थे। इस दौरान शरनगौड़ा ने बताया कि उन्होंने बातचीत को रिकॉर्ड किया और टेप कुमारस्वामी को सौंप दिया। कर्नाटक के मुख्यमंत्री ने आरोप लगाए कि येदियुरप्पा ने जेडीएस नेता को 25 करोड़ रुपये और इलेक्शन फंड देने का वादा किया है। उन्होंने कहा कि येदियुरप्पा ने यह पहल बीजेपी हाईकमान के निर्देश पर किया है। शुक्रवार को ही येदियुरप्पा ने ऑडियो टेप को फर्जी बताया था। तब येदियुरप्पा ने कहा था, “मैंने किसी से मुलाकात नहीं की है। यह गठबंधन में हुए गलत कामों को छिपाने के लिए सरकार द्वारा की गई करतूत है। कुमारस्वामी आवाज को रिकॉर्ड कराने में माहिर हैं और उनके आरोप बेबुनियाद हैं।”

येदियुरप्पा के कबूलनामे के बाद कांग्रेस आक्रामक हो गई है। कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने रविवार को कहा कि येदियुरप्पा को तत्काल अपने पद से इस्तीफा दे देना चाहिए। क्योंकि, उन्होंने मान लिया है कि ऑडियो टेप में उन्हीं की आवाज है। इसी दौरान दक्षिणी कर्नाटक के कोलार क्षेत्र से जेडीएस विधायक ने भी बीजेपी पर उन्हें 30 करोड़ देने के आरोप लगाए। उनका आरोप है कि उन्हें एडवांस में 5 करोड़ दे भी दिए थे, लेकिन उन्होंने इन पैसों को लौटा दिया और कुमारस्वामी को पूरी जानकारी दे दी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App