ताज़ा खबर
 

कांग्रेस बनाम कांग्रेस: सोनिया को चिट्ठी लिखने वाले नौ नेताओं ने अलग से की बैठक, कहा- सार्वजनिक करें हमारा पत्र

कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने द इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि पत्र के सह-हस्ताक्षरकर्ता मीटिंग में हुए विचार-विमर्श के बारे में जानने के इच्छुक थे और 'हर कोई इससे संतुष्ट' है।

Author नई दिल्ली | August 25, 2020 10:14 AM
Congress Working Committeeकांग्रेस नेता शशि थरूर CWC मीटिंग के बाद गुलाम नबी आजाद के आवास पर पहुंचे। (ANI)

कांग्रेस वर्किंग कमेटी (CWC) की घंटों चली बैठक में तीखों हमलों का जवाब देते हुए गुलाम नबी आजाद, आनंद शर्मा, मुकुल वासनिक और जितिन प्रसाद ने जोरदार तर्क दिया। सोमवार (24 अगस्त, 2020) को हुई मीटिंग में इन्होंने बताया कि उनके द्वारा उठाए गए मुद्दों पर चर्चा और निवारण की आवश्यकता क्यों है। चारों नेता CWC सदस्य हैं और उन 23 कांग्रेसी नेताओं में भी शामिल हैं जिन्होंने पत्र लिखा था। द इंडियन एक्सप्रेस ने बताया कि मीटिंग के तुरंत बाद पत्र में हस्ताक्षर करने वालों में आनंद शर्मा, कपिल सिब्बल, मनीष तिवारी और शशि थरूर सहित कम से कम नौ नेता गुलाम नबी आजाद के आवास पर मिले।

शर्मा ने द इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि पत्र के सह-हस्ताक्षरकर्ता मीटिंग में हुए विचार-विमर्श के बारे में जानने के इच्छुक थे और ‘हर कोई इससे संतुष्ट’ है। उन्होंने कहा कि सीडब्ल्यूसी की मीटिंग में स्वतंत्र और स्पष्ट रूप से चर्चा हुई। दस्तावेज (पत्र) सभी सीडब्ल्यूसी सदस्यों के लिए उपलब्ध नहीं थे। बहुत सी अशुद्धियां और गलत व्याख्या थीं, जिसके कारण हमारे खिलाफ कुछ अभद्र टिप्पणियां की गईं। मैंने मांग की कि पत्र को सभी के लिए उपलब्ध कराया जाए और जनता के लिए भी जारी किया जाए, ताकि लोगों को पता चले की मुद्दे क्या हैं।’

Coronavirus Vaccine Live Updates

वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए हुए सीडब्ल्यूसी मीटिंग का हवाला देते हुए आनंद शर्मा ने कहा कि आजाद, वासनिक और मैंने अपने विचार रखे। कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष का निष्कर्ष बहुत शालीन था। उन्होंने सुलह का स्पष्ट संदेश देते हुए कहा कि जो कुछ हुआ उसे पीछे छोड़ो और एकजुट होकर आगे बढ़ो। उन्होंने (सोनिया गांधी) कहा कि भले ही मैं पत्र का कुछ हिस्सा लीक होने से आहत हूं, मगर ये मेरे मूल्यवान सहयोगी हैं। हम (शर्मा) उनका सम्मान करते हैं और उनके बयान में हमें बहुत अधिक सौहार्दपूर्ण स्थिति में ला दिया है।

पत्र में हस्ताक्षर करने वाले एक अन्य नेता ने कहा, ‘हमें इंतजार करना होगा और देखना होगा कि ये सब कैसे खत्म होता है।’ बता दें कि कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक में हस्ताक्षरकर्ताओं ने स्पष्ट किया कि वो सोनिया या राहुल गांधी के खिलाफ नहीं थे। बताया गया कि पांच पन्नों के पत्र में दोनों नेताओं के खिलाफ कुछ भी नहीं कहा गया था।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 चुनाव वाले बिहार में PM Cares Fund से बनेंगे दो कोविड अस्पताल, महाराष्ट्र में हुई हैं सबसे ज़्यादा मौतें
2 Coronavirus India HIGHLIGHTS: महाराष्ट्र में कोरोना के एक दिन के रिकॉर्ड 14,888 नए केस मिले, उद्धव सरकार ने राज्य लोक सेवा आयोग की परीक्षाएं टालीं
3 माफ़ी मांगना खुद के ज़मीर का अपमान होगा- प्रशांत भूषण ने कहा, आज लेगा सुप्रीम कोर्ट फ़ैसला
ये पढ़ा क्या?
X