कोरोना पॉजिटिव होने के बाद एम्स के डॉक्टर ने खुद को किया आइसोलेट-बोले- नहीं पता कि अस्पताल में बेड मिलेगा कि नहीं

गौरतलब है कि देश में इस समय कोरोना की दूसरी लहर चल रही है। भारत में सोमवार सुबह कोरोना के 3.52 लाख से अधिक नए मामले दर्ज किए।

hospitalतस्वीर का इस्तेमाल प्रतीकात्मक तौर पर किया गया है। (Pixabay)।

दिल्ली एम्स में काम करने वाले डॉक्टर सुवरंकर दत्ता ने कोरोना संक्रमित होने के बाद खुद को अपने घर पर आइसोलेट कर लिया। दरअसल उनके मन में सवाल था कि क्या पता जहां वे काम करते हैं यानी एम्स वहां उन्हें बिस्तर मिल सके या नहीं? संक्रमित होने से पहले डॉक्टर इमरजेंसी में ड्यूटी कर रहे थे । शुक्रवार को संक्रमित हुए और अब घर पर आराम कर रहे हैं।

उन्होंने बताया कि रविवार रात एम्स के ज्यादा बिस्तर कोरोना मरीजों से भर गए। 24 मरीजों की हालत जहां बहुत गंभीर है वहीं 100 लोग ऑक्सीजन सपोर्ट पर हैं। एम्स में हर दिन इस समय 100 से 150 मरीज ऐसे आ रहे हैं जिन्हें ऑक्सीजन की सख्त जरूरत है। लेकिन अस्पताल में बिस्तरों की कमी है। कुछ मरीजों को बिस्तर के लिए कई दिनों से इंतजार करना पड़ रहा है लेकिन अस्पताल बेबस हैं।

गौरतलब है कि देश में इस समय कोरोना की दूसरी लहर चल रही है। भारत में सोमवार सुबह कोरोना के 3.52 लाख से अधिक नए मामले दर्ज किए। अभी 28 लाख से अधिक मामले एक्टिव हैं। जबकि 1.43 करोड़ लोग ठीक हुए हैं। 2,812 नई मौतों के साथ, अब मरने वालों की संख्या 1.95 लाख से अधिक है। अस्पतालों में बिस्तर, ऑक्सीजन और दवाओं की भारी कमी देखी जा रही है।

डॉक्टरों के आगे इस बात को लेकर धर्म संकट है कि किस मरीज को सीमित संसाधन मुहैया कराएं और किस को नहीं। आने वाले दिनों में बिस्तर की मांग और भी ज्यादा बढ़ने वाली है।

डॉक्टरों का कहना है कि 90 फीसदी कोरोना मरीज घर पर ठीक हो सकते हैं। लेकिन एकाएक बढ़ते कोरोना के आंकड़े ने स्वास्थ्य व्यवस्था की कमर तोड़ दी है।

एम्स निदेशक रणदीप गुलेरिया ने बताया कि उनके यहां 900 कोरोना मरीज भर्ती हैं। जिन मरीजों का ऑक्सीजन लेवल 92 से ऊपर है उनको अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत नहीं है।

इस स्थिति में कुछ लोग ऐसे भी हैं जो डर के मारे या फायदे के लिए ऑक्सीजन सिलेंडर और दवाओं की जमाखोरी कर रहे हैं। बता दें कि दिल्ली हाईकोर्ट ने आज सख्त लहजे में कहा कि दिल्ली में ऑक्सीजन सप्लाई में किसी भी तरह की रुकावट सैकड़ों इंसानों की ज़िंदगी को खतरे में डाल देगी।

Next Stories
1 दिल्ली दंगाः कोर्ट ने जांच में सीनियर अफसरों की निगरानी के अभाव पर DP को लगाई फटकार
2 सांसों संग रिश्ते भी तोड़ने लगा कोरोना! मां हुईं संक्रमित तो कानपुर में ‘कलयुगी बेटे’ ने घर से निकाला, मौत; FIR दर्ज
3 हरियाणा में ऑक्सीजन की किल्लत से 5 की मौत, राहुल बोले- देश को BJP के ‘सिस्टम’ का शिकार न बनाया जाए
यह पढ़ा क्या?
X