ताज़ा खबर
 

अंबानी, अडानी के बाद अब रामदेव के उत्पादों का भी करेंगे बायकॉट- भारतीय किसान यूनियन हरियाणा अध्यक्ष का ऐलान

मंगलवार को किसानों की सरकार से एक बार फिर बातचीत होनी है। किसानों का कहना है कि हमारी आगे की रणनीति सरकार के साथ इसी बातचीत पर टिकी रहेगी।

Ramdev, Baba Ramdev, Yoga Guru, #BoycottPatanjaliयोगगुरु और Patanjali आयुर्वेद के सर्वेसर्वा स्वामी रामदेव। (EXPRESS PHOTO BY PRAVEEN KHANNA)

कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसान अंबानी, अडानी के बाद अब पतंजलि के उत्पादों का भी बहिष्कार करेंगे। भाकियू की हरियाणा इकाई के अध्यक्ष गुरनाम सिंह ने कहा कि पतंजलि के उत्पादों का भी बहिष्कार किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि हमने पतंजलि के उत्पादों का बहिष्कार करने का फैसला किया है। हालांकि बहिष्कार के मामले में किसी से भी जबरदस्ती नहीं की जाएगी।

इससे पहल हरियाणा में भाकियू नेता ने टोल प्लाजा को फ्री कर दिया था। रोहतक में मीडिया से बातचीत में उन्होंने कहा कि हम बीजेपी के नेताओं का भी बहिष्कार करेंगे। उन्होंने कहा कि भाजपा नेता प्रदेश में जहां भी यात्रा करेंगे उनका बहिष्कार किया जाएगा।

किसानों का कहना है कि जब तक केंद्र द्वारा लाए गए कृषि कानून वापिस नहीं हो जाते बहिष्कार और विरोध का यह सिलसिला जारी रहेगा। मंगलवार को किसानों की सरकार से एक बार फिर बातचीत होनी है। किसानों का कहना है कि हमारी आगे की रणनीति सरकार के साथ इसी बातचीत पर टिकी रहेगी।

भाकियू के गुरनाम सिंह ने बाबा रामदेव पर हमला बोलते हुए कहा कि आज की तारीख में रामदेव स्वदेशी का नारा देकर खुद बड़े कॉरपोरेट हो गए हैं। भारत सरकार ने जिस तरह से रामदेव और पतंजलि को टैक्स के मामले में छूट दी इससे वे देश के अमीर लोगों में शामिल हो गए हैं।

उन्होंने कहा कि राज्य में पंचायत स्तर पर भी उसी नेता का समर्थन किया जाए जो कि किसानों के साथ हो। गुरनाम सिंह ने राज्य सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि केंद्र और राज्य की सरकार मिलकर किसानों के बीच फूट डालने का काम कर रही है।

उन्होंने पीएम मोदी के मन की बात कार्यक्रम का भी विरोध किया। गुरनाम सिंह ने कहा कि अगर केंद्र सरकार ने किसानों की बात नहीं मानी तो किसान 26 जनवरी को लाल किले पर तिरंगा फहराएंगे।

इससे पहले इसी महीने रामदेव ने कहा था कि सरकार और किसानों के बीच चल रहा गतिरोध देश के हित में नहीं है। एमएसपी से नीचे खरीद को दंडनीय अपराध बना देना चाहिए। उन्होंने कहा था कि सरकार को किसानों से बातीचत कर समस्या का समाधान निकालना चाहिए।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 असम में सभी मदरसों को बंद करने की तैयारी, सरकार ने विधानसभा में लाया विधेयक
2 अरुण जेटली के बहाने बीजेपी नेतृत्व को कठघरे में खड़ा कर रहे सुशील मोदी? बयान से उठा सवाल
3 कृषि कानूनः किसान की न सुन रही मोदी सरकार, अन्ना हजारे ने दी ‘अंतिम प्रदर्शन’ की धमकी
ये पढ़ा क्या?
X