ताज़ा खबर
 

Indian Railways IRCTC: अब 15 जोड़ी स्पेशल ट्रेनों में करा सकते हैं 30 दिन की एडवांस बुकिंग, काउंटर पर भी मिलेगा टिकट

भारतीय रेल ने कहा, ‘‘इन ट्रेनों में अग्रिम सीटें आरक्षित कराने की अवधि सात दिन से बढ़ाकर 30 दिन कर दी गई है।’’ ये 15 जोड़ी ट्रेनें पूर्ण रूप से वातानुकूलित हैं और इनका परिचालन 12 मई से शुरू हुआ है।

Indian Railways, IRCTC, Ministry of Railways, Special Trains, Shramik Special Trains, IRCTC Ticket Booking, IRCTC News, Utility News, National News, Hindi Newsबिहार की राजधानी पटना में शुक्रवार को रिजर्वेशन टिकट काउंटर्स पर रेलिंग साफ करतीं महिला कर्मचारी। (फोटोः पीटीआई)

Indian Railways IRCTC: भारतीय रेल द्वारा राजधानी एक्सप्रेस के 15 रूटों पर चलायी जा रही विशेष ट्रेनों में यात्री अब 30 दिन की अग्रिम बुकिंग करा सकते हैं और इसकी टिकटें आईआरसीटीसी की वेबसाइट के अलावा टिकट काउंटरों पर भी उपलब्ध होंगी।

इन ट्रेनों की टिकट की बुकिंग अब कम्प्यूटराइज्ड पीआरएस केन्द्रों, डाकघरों, यात्री टिकट सुविधा केन्द्रों के साथ-साथ आईआरसीटीसी के मान्यता प्राप्त एजेंटों और सामान्य सेवा केन्द्रों से भी करायी जा सकती है।

भारतीय रेल ने कहा, ‘‘इन ट्रेनों में अग्रिम सीटें आरक्षित कराने की अवधि सात दिन से बढ़ाकर 30 दिन कर दी गई है।’’ ये 15 जोड़ी ट्रेनें पूर्ण रूप से वातानुकूलित हैं और इनका परिचालन 12 मई से शुरू हुआ है।

पृथक वार्ड में तब्दील डिब्बों में से 60% का यूज श्रमिक स्पेशल के लिए होगाः रेलवे ने कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्तियों के लिए पृथक वार्ड के रूप में तब्दील किये गये अपने 5200 डिब्बों में से 60 फीसदी का श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चलाने के लिए उपयोग करने का निर्णय किया है।

अधिकारियों ने बताया कि वैसे तो इन गैर एसी डिब्बों को फिर सामान्य डिब्बे में नहीं बदला जाएगा लेकिन उनका उपयोग किया जाएगा क्योंकि वे इसी सेवा के लिए हैं।

उन्होंने बताया कि चूंकि ये डिब्बे पृथक वार्ड में तब्दील किये जाने के बाद यूं ही पड़े हुए हैं और उन्हें भी तैनात किया जाना बाकी है, ऐसे में रेलवे ने प्रवासी स्पेशल सेवाओं के लिए उनका उपयोग करने का निर्णय लिया है।

21 मई को जारी आदेश में कहा गया है, ‘‘ बोर्ड चाहता है कि कोविड-19 मामलों में सहयोग के लिए निर्धारित किये गये डिब्बों में से 60 फीसदी यानी 3120 डिब्बों का रेलवे श्रमिक स्पेशल ट्रेन चलाने के लिए उपयोग करे। बोर्ड ने इसकी अनुमति दी है।’’

पृथक वार्ड बनाते समय इन डिब्बों से बीच का बर्थ हटा दिया गया था और नीचे के हिस्से को प्लाइवुड से जोड़ दिया गया था।

बीच का बर्थ नहीं होने से इन डिब्बों वाली ट्रेनों में कम यात्री होंगे। अधिकारियों ने बताया कि यात्रा के दौरान इन डिब्बों में ऑक्सीजन टैंक, वेंटीलेटर और अन्य मेडिकल उपकरण हटा दिये जायेंगे। (भाषा इनपुट्स के साथ)

क्‍लिक करें Corona Virus, COVID-19 और Lockdown से जुड़ी खबरों के लिए और जानें लॉकडाउन 4.0 की गाइडलाइंस

Next Stories
1 …जब लोकल की वकालत करते अपनी घड़ी खोल कर दिखाने लगे नितिन गडकरी
2 पूर्व MP उदित राज ने अयोध्या को बताया बौद्ध स्थल, तो कांग्रेसी नेता ने ही लगाई क्लास; कहा- बुद्ध भी सनातन धर्म का हिस्सा, ज्ञान दुरुस्त कर लें
3 कोरोना संकटः सोनिया गांधी ने PM Cares Fund को लेकर किया ट्वीट, बिहार में BJP नेता ने दर्ज करा दी FIR
ये पढ़ा क्या?
X