ताज़ा खबर
 

मोदी नहीं बन पाए हर वर्ग के नेता, हिंदू नेता के तौर पर है PM की पहचान- बोले अधीर रंजन चौधरी

लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी का कहना है कि PM नरेंद्र मोदी हिंदुस्तान के सभी वर्गों के नेता नहीं हैं। उनका कहना है कि हिंदू नेता के तौर पर ही मोदी की पहचान है और वह इसी पहचान के सहारे हिंदुस्तान पर राज करना चाहते हैं।

लोकसभा में कांग्रेस के अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी (फोटो सोर्स ट्विटरः/@adhirrcinc

लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी का कहना है कि PM नरेंद्र मोदी हिंदुस्तान के सभी वर्गों के नेता नहीं हैं। उनका कहना है कि हिंदू नेता के तौर पर ही मोदी की पहचान है और वह इसी पहचान के सहारे हिंदुस्तान पर राज करना चाहते हैं।

आज तक के सीधी बात कार्यक्रम में जब उनसे एंकर ने पूछा कि मोदी पिछले लोकसभा चुनाव में 306 सीटें जीतकर आए हैं। इतनी बड़ी जीत इंदिरा गांधी के बाद पहली बार किसी को मिली है। फिर भी आप उन्हें सभी वर्गों का नेता क्यों नहीं मान रहे। चौधरी का जवाब था कि यह उनकी खामियां हैं। यूपी में एक भी मुसलमान को जगह नहीं दी, क्योंकि मोदी उनके नेता नहीं बनना चाहते। हिंदू ज्यादा हैं, इस वजह से मोदी ध्रुवीकरण की राजनीति करते हैं।

एंकर ने जब पूछा कि लोकसतंत्र में जो जीते वह सिकंदर तो कांग्रेस इस तरह की राजनीति क्यों नहीं करती। अधीर रंजन का कहना था कि उनकी पार्टी ध्रुवीकरण की राजनीति नहीं करती। विश्व में जहां भी ऐसी राजनीति हुई है, उसका हश्र सभी ने देखा है। उनका कहना था कि कांग्रेस का हिस्सा बनना उनके लिए गर्व की बात है। कांग्रेस ने आजादी की लड़ाई में हिस्सा लिया। इसका एक स्वर्णिम इतिहास है।

उनका कहना है कि भारत में इस समय धर्म की राजनीति हो रही है। लेकिन यह चीज हमेशा कायम नहीं रहेगी। उनका कहना था कि ये परमानेंट फीचर नहीं है। कांग्रेस फिर से जोरदार प्रदर्शन करेगी। नेता को लेकर पूछे गए सवाल पर उन्होंने कहा कि हमारे पास सोनिया गांधी, मनमोहन सिंह और राहुल गांधी जैसे नेता हैं।


अंतरिम अध्यक्ष के सवाल पर उन्होंने कहा कि यह तकनीकी मुद्दा है। अगले तीन महीने में व्यवस्था पटरी पर होगी। यह पार्टी का भीतरी मामला है। इसे लेकर पार्टी को कमजोर कहना सही नहीं है। उनका कहना था कि पार्टी का अध्यक्ष कोई भी बने, गांधी परिवार तो पार्टी के साथ रहेगा। गांधी परिवार का करिश्मा है। उनके नाम पर सियासत करने में क्या हर्ज है। उन्होंने माना कि गांधी परिवार ब्रांड है।

बंगाल के चुनाव को लेकर पूछे गए सवाल पर उनका कहना था कि टीएमसी-बीजेपी की तनातनी से लोग आजिज आ गए हैं। लोग मान रहे हैं कि उन्हें विकल्प चाहिए। जिस तरह से टीएमसी के दागदार लोगों को बीजेपी अपनी पार्टी में शामिल कर रही है, उससे लोगों में गुस्सा है।

एंकर ने जब पूछा कि सोनिया एक्टिव क्यों नहीं हैं तो चौधरी का कहना था कि ऐसा नहीं है। राहुल तमिलनाडु में हैं और हम लोग बंगाल में मोर्चा संभाल रहे हैं। उनका कहना था कि बंगाल में सांप्रदायिक ताकतों से उनका मुकाबला है। इस बार बंगाल के चुनाव त्रिकोणीय होगा। उनका कहना था कि हमारी कोशिश होगी कि 294 सीटों पर चुनाव लड़कर बहुमत हासिल करें।

Next Stories
1 गणतंत्र दिवस पर किसानों की ट्रैक्टर रेड को सीजेआई ने बताया farmers visit, केंद्र ने जताया कड़ा एतराज
2 कृषि कानूनों पर रार, बजट सत्र से पहले राष्ट्रपति के अभिभाषण का बहिष्कार करेगा विपक्ष
3 ब‍िहार सरकार के नए आदेश पर तेजस्‍वी यादव ने ललकारा, नीतीश कुमार को भ्रष्‍टाचार का भीष्‍म प‍ितामह पुकारा
ये पढ़ा क्या?
X