ताज़ा खबर
 

‘पुलिसवालों को पीट रहे थे वकील, जान बचाने के लिए बंद करना पड़ा दरवाजा’, DCP ने सुनाई तीस हजारी कोर्ट में हिंसा की कहानी

प्रारंभिक जांच से खुलासा हुआ है कि वकील और पुलिस में बहस करीब 2 बजे शुरू हुई जब पुलिस लॉक-अप के बाहर तैनात कॉन्स्टेबल प्रदीप कुमार ने अपने वाहन को निकालने के लिए वकील को उसकी जीप हटाने के लिए कहा।

Author नई दिल्ली | Published on: November 3, 2019 9:24 AM
Delhi, Delhi court clash, Delhi news, Delhi lawyers, Delhi Police, 3rd Battalion, CCTV footage, Tis Hazari court, lawyers, india news, Hindi news, news in Hindi, latest news, today news in Hindiघटना के विरोध में वकीलों ने 4 नवंबर को दिल्ली के सभी जिला अदालतों में कामकाज बंद करने की धमकी दी है। (फोटोः इंडियन एक्सप्रेस)

दिल्ली की तीस हजारी अदालत में पार्किंग विवाद के बाद वकीलों और पुलिस के बीच हुई झड़प की कहानी सामने आई है। दिल्ली पुलिस के एडिशनल डीसीपी ने इस हिंसा की घटना की पूरी कहानी बताई। एडिशनल डीसीपी (नॉर्थ) हरेंद्र सिंह ने कहा कि पीसीआर पर कॉल आने के कुछ मिनट बाद पुलिस वहां पहुंची।

हरेंद्र सिंह ने बताया कि वह अदालत परिसर में गेट नंबर 2 से घुसे। उन्होंने देखा कि वकील 3rd बटालियन के पुलिस वालों को पीट रहे थे। उन्होंने इंडियन एक्स्प्रेस से बातचीत में कहा कि हम लॉक-अप रूप की तरफ बढ़े और सभी वकीलों को वहां से हटाया। इसके बाद हमने दरवाजे को अंदर से बंद कर लिया ताकि पुलिसवालों को बचाया जा सके।

हरेंद्र सिंह ने कहा कि लेकिन उस समय मेरा ऑपरेटर बाहर ही रह गया। वकीलों ने उसे पीटना शुरू कर दिया। प्रारंभिक जांच से खुलासा हुआ है कि वकील और पुलिस में बहस करीब 2 बजे शुरू हुई जब पुलिस लॉक-अप के बाहर तैनात कॉन्स्टेबल प्रदीप कुमार ने अपने वाहन को निकालने के लिए वकील को उसकी जीप हटाने के लिए कहा।

वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि सीसीटीवी फुटेज देखने और पुलिसवालों के बयान दर्ज के बाद दिख रहा है कि तीन लोग जीप से बाहर आए…इसके बाद हुई बातचीत बहस में बदल गई। इसके बाद कॉन्स्टेबल के साथ अन्य पुलिसवाले आ गए। वहीं बहस बढ़ती देख अन्य वकील भी दूसरी तरफ से आ गए।

इसके बाद 3rd बटालियन के असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर ने लॉकअप के भीतर से दो राउंड फायरिंग की। इसके बाद से वकीलों ने पुलिसवालों पर हमला शुरू कर दिया। घटना को याद करते हुए सिंह ने बताया कि वे पुलिस वाले को खुद को सौंपे जाने की मांग कर रहे थे। लेकिन हमने दरवाजा बंद कर लिया और उनकी मांग नहीं मानी। इससे गुस्साए वकीलों ने पत्थरबाजी शुरू कर दी। उन लोगों ने प्रवेश द्वार पर खड़े मोटरबाइक में आग लगा दी।

धुएं लॉकअप में भरना शुरू हो गया जिसमें कैदी थे। इसके बाद वहां अफरातफरी की स्थिति बन गई। अंदर पानी की बाल्टी से हमने आग को बुझाने का प्रयास किया। हम वहां करीब दो घंटे रहे और हम पुलिस की तरफ से हल्का लाठीचार्ज किए जाने के बाद से कोर्ट परिसर से बाहर निकाले जा सके। इस बीच वकीलों ने पुलिस पर अनावश्यक रूप से बल प्रयोग करने का आरोप लगाया।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 WhatsApp Snooping Case: सोनिया गांधी का मोदी सरकार पर हमला, कहा- इजरायली सॉफ्टवेयर से जासूसी कराना शर्मनाक
2 सोनिया-राहुल और प्रियंका गांधी एक साथ बोलेंगे मोदी सरकार पर हमला, कांग्रेस करने जा रही केंद्र के खिलाफ विशाल रैली
3 उत्तर प्रदेश: ‘गैंगरेप’ का वीडियो वायरल, 25 वर्षीय महिला की शिकायत पर तीन गिरफ्तार